Thursday, July 20, 2017

तोड़ा हुआ भरोसा बड़ी मुश्किल से जुड़ता है..



                                           चाहत 


                                   चला मैंने बरसों 
                                   अकेले एक रास्ता..
                                   कोई चाहत नही 
                                   कोई उम्मीद भी 
                                   थी नही.... तुम चल 
                                   पाये नही दो भी 
                                   कदम... क्यों?
                                   मेरी नजरें देख 
                                   रही थी बस तुम्हें 
                                   और तुम देखते 
                                   मेरी सारी दिशायें
                                   मेरे पीछे और 
                                   मेरे साथ को....
                                   और छोड़ के मेरा
                                   साथ बिना कहे 
                                  तुम चले गये...
                                  किसी और के साथ...
                                  आज भी तुम क्या 
                                  चाहते हो....और क्यों 
                                  नही तुम खुद ही 
                                  चलते वो दो कदम....
                                  और क्यों नही करते 
                                  एक बार कोशिश फिर से..
                                  दोस्ती निभाने से पहले 
                                  निभाना साथ चाहिये....
                                  बिन कहे सुनने वाला 
                                  दिल चाहिये... खुशी में 
                                  दुनियाँ के आगे करने 
                                  वाला और दुःख में 
                                  सबसे छुपा कर 
                                  सम्भालने वाला साथी 
                                  होना चाहिये....
                                  चलो कुछ कदम 
                                  कुछ पल तुम भी 
                                  अकेले... देखो, करो 
                                  महसूस उस उदासी को...
                                  अकेलेपन को... कोई याद 
                                  खींच लाये जब तुम्हें 
                                  मुझ तक... फिर पलट कर 
                                  देखना मत... बस चले आना..
                                  ज़िन्दगी करती है सदियों का 
                                  सफ़र.... आकाशगंगा के 
                                  एक किनारे से दूसरे किनारे तक,
                                  फिर जाने मिले या न मिले 
                                  और करें सदियों तक हम 
                                  जन्मों का अंतहीन सफ़र!


                                 20.07.2017/ 10:00 रात 
                                बीत रही है जाने क्या कहते हुये..
                                

0 comments:

Post a Comment