Sunday, July 16, 2017

क्या मिलोगी फिर से एक बार फिर एक और जन्म में...


                                  जन्म 

                                जब भी लौटती हो 
                                तुम... बारीश से बने 
                                झरने की तरह 
                                हर बार मेरा होता है 
                                जन्म दोबारा... सुनता हूँ 
                                मै अपनी ही धडकने 
                                तुम्हारी धडकनों के साथ...
                                तुम हवा की लहरों सी 
                                बहती हो मेरी साँसों में 
                                और मै आँखें बंद कर 
                                करता हूँ तुम्हें महसूस 
                                अपने ही सीने में... और 
                                तुम्हारी साँसे करता हूँ 
                                महसूस अपने चेहरे पर...
                                आईना बना के तुम्हारी 
                                आँखों को सुनता हूँ मै 
                                हर पल अपनी उम्र...
                                और तुम देखती हो 
                                मेरी नजरों में अपनी 
                                हँसी और मेरा दिल,
                                काँपते हाथों को थामें 
                                हम चलेंगे उम्र के इस 
                                पल से आख़री पल तक...
                                क्या मिलोगी फिर से 
                                एक बार फिर एक और 
                                जन्म में.... कहीं किसी दिन 
                                किसी दूसरे रूप में...
                                और देखोगी वैसे ही 
                                पलट कर... और बहोगी 
                                बारिश में बने झरने जैसी...
                                होगा मेरा फिर जन्म 
                                ऐसे ही हर बार की तरह!

                                16.7.2017/ 03:30 सुबह 
                                आ रही नींद को 
                                क्यों भगा रहा है दिल...
                                बंद दरवाज़े और खिड़कियाँ...
                                फिर जा कहाँ रहा है दिल...

0 comments:

Post a Comment