Friday, July 14, 2017

सपने जो फूटते हैं और बनतें हैं नींद की गहराइयों में



                                   सपने
  
                          जब सपने सच बन 
                          सुबह खिड़की से झांकते हैं.... 
                          और तुम बढ़ा कर 
                          हाथ अपना लिखते हो 
                          हवाओं के झौकों में   
                          हर बार अलविदा.... फिर 
                          और तेज़ी से लौटते हो 
                          मेरी तरफ..... हंसते हुए 
                          वो पल थाम लेना.... 
                          क्योकि लौटेंगे नही वो 
                          फिर कभी..... देख 
                          न पाओगे तुम कभी 
                          फिर यूं छुपकर.... 
                          जिसे तुम चाहते हो छूना 
                          चाहते हो देखना सपनों में... 
                          सपने जो फूटते हैं और 
                          बनतें हैं नींद की गहराइयों में, 
                          जागते ही बीत जाते हैं..
                          करवट ले बंद कर आँखें 
                          एक बार फिर से देखने की 
                          चाह रोक न पाया मन....
                          बुलबुले फूटने लगे नींद में 
                          सपनों के..... और तुम 
                          पाँव रख उन बुलबुलों पर 
                          तैरती...हँसती....गाती रही 
                          यहाँ से वहाँ देर तक.... 
                          आयेंगी सर्दियां धीरे-धीरे 
                          जायेंगी गर्मियां धीरे-धीरे... 
                          मौसम जा कर लौटेंगे, पर 
                          क्या लौटेंगे लोग फिर से 
                          वहीं...... जहाँ बस अब हवा 
                          बदलते मौसम और बीतते 
                          समय के सिवाय कोई नही... 
                          हवा से उड़ते पत्तों का खेल.... 
                         और खामोशी का संगीत फैला है  
                          बस और कुछ भी नही....! 

                           7.12.2016/05:00 शाम 

0 comments:

Post a Comment