Friday, May 26, 2017

कोई बात है अधूरी...किसी बात में नही पूरी

    
                                           सपना 
 

                                   रात का आख़री था 
                                   वह पहर जब उसका 
                                   फोन आया... वो 
                                   चौक कर जाग गया,
                                   हेलो...हेलो...हेलो...
                                   कौन है... बोलता क्यों नही,
                                   हेलो....हेलो....' वो जोर से 
                                   चीखा...'हेलो'.... उसकी 
                                   नींद खुल गयी, 'ओह!
                                   क्या मै देख रहा था 
                                   सपने में सच'... सोचकर 
                                   मुस्कराया..... घड़ी में 
                                   देखा टाइम तो... बज 
                                   रहे थे चार..... 'ओह!
                                   अभी तो काफी है टाइम 
                                   सुबह होने में.... तभी 
                                   बजी फोन की घंटी 
                                   वह चौक गया..... धीरे से 
                                   उठाया रिसीवर..... कोई थी 
                                   नही आवाज़... वह बोला 
                                   'हेलो! हेलो! हेलो!'
                                   कोई ज़वाब नही था..... 
                                   'कौन है? बोलता क्यों नही?
                                    हेलो! हेलो!' वह जोर से 
                                   चीखा..... 'हेलो....!'
                                   'ओह!' वह देख रहा था 
                                   सपने में सपना..... वह 
                                   उठ कर बैठ गया, 
                                   'ये क्या हो रहा है 
                                   क्या मै अभी भी सो 
                                   रहा हूँ या जाग रहा हूँ 
                                   या देख रहा हूँ 
                                   फिर कोई सपना 
                                   एक और सपने में फिर से.....' 
                                   तभी बजी फोन की घंटी.. 
                                   वह डर गया और उठ कर 
                                   कमरे से बाहर निकल गया.. 
                                   घर से बाहर निकल गया.... 
                                   चारो तरफ सिर्फ अँधेरा था 
                                   सिर्फ अँधेरा.... कोई थी नही
                                   स्ट्रीट लाइट.... ये सब 
                                   क्या है.... मै कहाँ हूँ.... 
                                   मै कहाँ हूँ.... कोई मुझे 
                                   आकर जगाये.... मै 
                                   जागना चाहता हूँ...... 
                                   कानों में हल्की-हल्की 
                                  आ रही थी आवाज़ें उसे
                                  कर रही थी बेचैन.... 
                                  'देखिये..... जब तक ये 
                                  आते नही बाहर कोमा से 
                                  हम कुछ नही कह सकते' 
                                  'कोमा...नही.....डॉ...
                                  डॉ! डॉ! डॉ!....
                                  प्लीज़ मुझे जगाओ 
                                  मै सुन सकता हूँ तुम्हें'
                                  डॉ!.... वह जोर से चीखा 
                                  उसकी नींद खुल गयी.... 
                                  सामने नर्स खडी थी 
                                   'नाव यू आर ऑलराइट 
                                   मिस्टर एकलव्य'...... 
                                   डॉ पल्स चेक करते हुये बोला, 
                                   कितना भयानक सपना था.... 
                                   वह सोच रहा था.... तभी 
                                   फोन की घंटी बजी... 
                                   उसका मोबाईल फोन रखा था 
                                   पास में ही..... 'अरे कैसा कॉल है
                                   कोई नंबर ही नही'......उसने 
                                   जाने क्या सोचा और फोन
                                   नही उठाया... सामने देखा 
                                   नर्स बैठी कुछ पढ़ रही थी... 
                                   'नर्स.... इस बार कोई आये 
                                   कॉल तो प्लीज़ उठा लेना' 
                                   फोन बज उठा....  एकलव्य ने 
                                   देखा नर्स की ओर.... पर 
                                   वह पढती रही यूँही 
                                   सर झुकाये हुए.... 
                                   'नर्स... मैंने कहा था न 
                                   फोन उठा लेना'..... पर 
                                   कोई ज़वाब नही था....
                                   'नही.... आप ही कीजिये 
                                   बात' वह वैसे ही पढ़ते हुये 
                                   बोली,....... 'अरे, पर क्यों?'
                                   एकलव्य चिढ़ता हुआ बोला, 
                                   'क्योकि मै ही कर रही हूँ 
                                   आपको कॉल'... कह कर 
                                   सर उठा कर देखा 
                                   नर्स ने.... तो डर गया 
                                   एकलव्य...... 'सपना तुम?
                                   तुम तो गयी थी बरसों पहले 
                                   मर...... कैसे हो सकती हो 
                                   तुम.....'  वह कहते-कहते
                                   उठ बैठा................वह मुस्करा 
                                   रही थी.............देखती गौर से....
                                   'हाँ, बरसों पहले मार डाला था 
                                   तुमने मुझे...... अपने धोखे और 
                                   झूठ से.......मुझे तुमसे 
                                   करनी है आज ढेर सारी बातें.....
                                   फोन उठाओ एकलव्य......
                                   फोन उठाओ.....'  कहते-कहते 
                                   वह हो गयी खडी मानो 
                                    हवा में......  एकलव्य
                                   डर कर चीख पड़ा 
                                   'डॉ!'....... किसी ने झंझोर कर 
                                    उसे उठा दिया.... 
                                   वह हांफ रहा था... 
                                   वह जोर -जोर से था रहा हांफ, 
                                   'कितनी बार कहा तुमसे 
                                   रात में सोने से पहले 
                                   मत देखा करो.... डरावनी फिल्मे'
                                   'तुम... तुम सपना ज़िन्दा हो 
                                   अभी भी... सपने में देखा 
                                   तुम मर चुकी हो और 
                                   भूतनी बन गयी हो'  एकलव्य
                                   गहरी साँसे लेता हुआ 
                                   बोल रहा था....... 'हाँ,
                                   अपने सपनों में अधिकतर 
                                   सारे पत्तियों को अपनी 
                                   अपनी पत्नियाँ मरी 
                                   और भूतनियां ही 
                                   आती है नज़र.... पर 
                                   अब उठो...हो रही है ऑफिस 
                                   के लिए देर..... उठो 
                                   नही तो मै तुम्हें मारूंगी'
                                   सपना की आख़री चेतावनी 
                                   सुन खड़ा हो गया एकलव्य.... 
                                   देखता अपना चेहरा 
                                   बाथरूम के आईने में 
                                   सोचता फिर वैसे ही उल्टा.... 
                                   'सपना तुम भूतनी ही भली थी!!'


                                    25.05.2017/ 06:50 शाम 
                                    बीत जाए या रात लौट जाए 
                                    कोई बात है अधूरी 
                                     किसी बात में नही पूरी 

Tuesday, May 23, 2017

देखा था कभी हमने दिल ए जान को हंसते हुए...रोता है मगर फिर क्यों तूफ़ान में फंसते हुए...


                           सिलवी, तुम बहुत बुरी हो 


                               वो बहक रही थी 
                               लडखडाये कदमों को 
                               सम्भालती हुई वो 
                               हर बार लडखडाती थी.... 
                               कदमों के साथ उसकी 
                               जबान भी लडखडाने लगी.... 
                               मैंने कहा- 'विक्टर 
                               भौकना बंद करो' 
                               वह बोलीऔर हँसने लगी 
                               और हँसती चली गयी, 
                               मै हैरान थी... 
                               'तुम अपने कुत्ते का नाम 
                               विक्टर कैसे रख सकती हो.... 
                               अपने पति के नाम....!' 
                               'मै अपने पति की ही 
                               कर रही हूँ बात....' 
                               वह फिर हँसी और 
                               ग्लास सर पर रख 
                               सीधा चलने की 
                               करती रही कोशीश... 
                               सम्भालने के लिए बढ़े 
                               हाथ.... जाने क्या-क्या 
                               सम्भाल रहे थे...... सूअर, 
                               पर विक्टर भौंक 
                               कैसे सकता है... चाहे 
                               वो इंसान है, फिर भी... 
                                उसकी तो पूंछ काट दी 
                                गयी थी.... मोटा दहेज़ देते हुए.... 
                                उसकी तो जबान भी नही, 
                                अपने फादर-इन लॉ के सामने 
                                उसके सारे लॉ खत्म हो जाते हैं, 
                                उपहार में मिली कुर्सी 
                                देती है आराम ज़िन्दगी का.... 
                                जबान पर सील लग गयी 
                                बस, फिर वो भौंक 
                                कैसे सकता है..... बेचारा 
                                पालतू पति.... बेज़ुबान... 
                                घड़ी की सुइयों पर टिका 
                                उसका सारा दिन और जीवन, 
                                न.... वो नही सकता भौंक, 
                                सिलवी भी है थोड़ी पागल.. 
                                नशे में जाने क्या-क्या 
                                जाती है बोल.... बेध्यानी में 
                                वो जरूर कर रही थी 
                                अपने पालतू कुत्ते की ही बात,  
                                सिलवी! ओ सिलवी! 
                                तुम हो बहुत बुरी 
                                कुछ भी हो तुम्हे 
                                रखना नही चाहिये था 
                                अपने कुत्ते का नाम 
                                 विक्टर..... सोचो 
                                 जब भी बुलाओगी 
                                 दोनों चले आयेंगे..... 
                                ओह! तुम बहुत बुरी 
                                हो.....नशे में हो, 
                                पर दुनियाँ क्यों लड़खड़ा रही है.. 
                                और मेरा ग्लास भरता 
                                क्यों नही... क्यों नही 
                                होता ग्लास दोनों तरफ 
                                से भरने लायक, ओह.. 
                               ओह! सिलवी तुम बहुत बुरी हो!! 

                                21.05.2017/ 03:50 सुबह, 
                                झूठ के पांव नही होते हैं मगर 
                                दौड़ता है वो हमसे आगे फिर क्यों 
                                जाता पहुँच पहले... सुबह होने से क्यों.. 
                                देखा था कभी हमने 
                                दिल ए जान  को हंसते हुए... 
                                रोता है मगर फिर क्यों 
                                तूफ़ान में फंसते हुए...

Sunday, May 14, 2017

तुम्हे पढ़ना चाहिये था फाइन प्रिंट


                           टिन का डब्बा 
 
 
                       "ज़िन्दगी अगर तुम्हे दे 
                       सिर्फ एक खाली टिन का डब्बा 
                       तो बताओ क्या करोगे?"
                       'मतलब?' 
                       "और समय दे तुम को उसमे 
                       भरने के लिए किताबें, रूपये और 
                       चावल... तो पहले क्या भरोगे?" 
                       खिलखिलाकर हंसी छूटी और 
                      धीरे से वह बोला - 'तुम.... 
                      आज भी पागल हो.... तो सुनो 
                      मै उसमे पहले भरूँगा किताबे 
                      फिर रूपये और सबसे ऊपर 
                      चावल, और तुम क्या करोगी?' 
                      "पागल? हाँ आज भी..... हाँ, पर 
                      तुम्हे पढ़ना चाहिये था फाइन 
                      प्रिंट, दोस्ती करने से पहले..... 
                      ये पागल है..कृपया आप अपनी 
                       ज़िम्मेदारी में है...या दी हुई चीज़ 
                      वापस नही होगी... ये कभी - कभी 
                       पत्थर भी मार देती है और खुश 
                      होती है तो घूँसा भी मारती है!" 
                       हा...हा..हा....हँसी रुकी नही 
                       उसकी सुनकर बोला- 
                       'मै तुम्हारी बड - बड में इतना गया 
                      उलझता कि फाइन प्रिंट पढ़ ही नही 
                       पाया... जब सर उठाया तो आँखों में 
                      खो गया.... इतना खोया कि मुझे 
                      पता ही नही चला कि तुमने 
                      मुझे कब ऑटो में बिठाया 
                     और कर दिया घर की ओर रवाना- 
                      मै बेखूदी में ऑटो वाले से करता रहा 
                      रास्ते भर बातें.... घर पहुंचा वो बोला... 
                     आप ज़रूर मिलियेगा साहब... कल 
                      किसी डॉक्टर के पास.... मै एक ही 
                       दिन में पागलों की लाइन में 
                      खड़ा कर दिया गया.... पर 
                      जानती हो जब दो लोग रहतें हैं 
                      बरसों.... एक - साथ हंसते - लड़ते 
                      पर खुश.... तो होतें हैं  
                      एक ही जैसे..... चाहे हो 
                      वो पागल..... खैर अब तुम 
                      बताओ तुम क्या करोगी.... 
                      क्या भरोगी उस टिन के 
                      डब्बे में सबसे पहले?' 
                      "तो सुनो... मै भरूँगी सबसे 
                      पहले रूपये, फिर चावल 
                     और सबसे ऊपर किताबें!" 
                       'ऐसे किस लिये?'
                      "बस मुझे दुनियाँ में सबसे अच्छी 
                      लगती हैं किताबें.... और उनसे 
                      पिटाई अच्छी की जा सकती है 
                      जब कोई करता मुझे तंग!"
                      'क्या?' हा...हा....हां...फिर हंसी 
                      कंट्रोल के बाहर थी... 
                      'मेरे साथ रहोगी?'
                      "क्या तुम पागल हो?"
                      'हाँ, बहुत ज्यादा.... तुम से भी ज्यादा 
                      तुम्हारे लिए.... तुम्हारे उस टिन के 
                      डब्बे के लिए.... इस फाइन प्रिंट 
                      के लिए.... सब कुछ के लिए जो है 
                      तुम्हे पसंद.... रहोगी क्या अब साथ मेरे?'
                      "सोचती हूँ.... सोचने का टाइम दो,तब तक
                      सोचो कि तुम क्या नही सोचना चाहते!"
                      'मै करता हूँ तुम से प्यार.... 
                      हूँ बिलकुल तुम जैसा पागल... 
                      रहोगी मेरे साथ... बोलो न?'
                      'थैंकयू  साहब...आप फिर मिल गये?'
                      'ओ तुम कौन...वो मेरी दोस्त कहाँ गयी?'
                      'वो तो कब की चलीं गई.. आप को 
                      ऑटो में बैठा कर... साल भर पहले भी 
                       मैंने कहा था आपको 
                      आप डॉक्टर के पास जाईये!!'
                      ऑटो वाला ऑटो स्टार्ट करता 
                       हुआ बोला और वो अपना पता 
                       याद करता रहा रास्ते भर 
                      और घर आ गया....
                      'ये ही है घर आपका साहब.. 
                      आप दीवाने हैं क्या?'
                      'नही प्यार में होश नही रहा!'
                      'तभी तो कहा आप दीवाने हैं!!'
                      वो जाते हुये ऑटो को हाथ 
                      हिला-हिला कर बाय करता रहा!

                      13.05.2017/ 05:51शाम 
                     रुक-रुक कर आती थी 
                     मेरी बातों को छूने और 
                     कोई देर तक हंसता रहा 
                     यादों से लिपट कर...

Friday, May 12, 2017

'जोरावर सिंह, जब एक ठग मरता है तो अपना रुमाल अपने बेटे को देकर मरता है......


"कठपुतली घर" कहानी है एक छुपे हुए षडयंत्र की, धोखे की, रहस्य की, छुप गये ठगो की, विश्वासघात कीहत्या की.. जिसे एक  पुलिस ऑफिसर साबित नही कर पाया! कहानी है एक female detective और उसके assistant जोरावर सिंह की!


                                               कठपुतली घर



.... चिठ्ठी पढ़ते ही सुगंधा जाने कहाँ सोच में डूब गयी, और शून्य में देखने लगी!
'क्या हुआ हुकूम, किसकी चिठ्ठी है ये?' जोरावर ने सुगंधा को यूँ  सोच में डूबे देख पूछा!
'माँ की है, पिताजी के बारे में कोई पूछ रहा था... उनकी मौत कैसे हुई, कोई उनका दोस्त था पुराना!' सुगंधा चिठ्ठी जोरावर को देते हुए बोली!
'इतने बरसों बाद बड़े हुकूम की ये कौन छानबीन कर रहा है?' जोरावर चिठ्ठी पढ़ बोला!
'लगता है मुर्दा करवट बदल रहा है!' सुगंधा ने एकटक जोरावर की तरफ देख कहा!

➽➻➼➺➼➻➼➽➷➶➷➶


'जैसे ही मै फायर करूंगा हुकूम आप दायी तरफ भाग जाईयेगा!' जोरावर रिवॉल्वर में और गोलियां भरता हुआ बोला!
'तुम्हारा दिमाग सही है?' सुगंधा ने भी अपना रिवॉल्वर चेक किया!
'हुकूम गोली सीना पार कर गयी तो समझूँगा आपका असली असिस्टेंट हूँ!' जोरावर की बात सुनते ही एक चपत उसके सर पर पड़ी!
'और अगर मै तुम्हें यहाँ छोड़ गयी तो मै तुम्हारी बॉस नही, और अगर मैंने इनमे से किसी को भी छोड़ दिया तो मै राणा अमर सिंह की पोती नही!' कहते ही सुगंधा ने गाड़ी की तरफ निशाना लगा गोली मारी, गोली सीधी पेट्रोल की टंकी पर लगी और लगते ही धमाके के साथ गाड़ी में आग लग गयी! धमाका होते ही सुगंधा और जोरावर अँधेरे में एक ओर भागे!
'हुकूम.. गोली चलाने से पहले सोचा तो होता... वो हमारी ही गाड़ी थी!' जोरावर भागते - भागते बोला!
'इसीलिये तो मारी थी!' सुगंधा ढ़लान पर नीचे कूदती हुई बोली!
'हुकूम... छलांग लगाने से पहले देखा तो होता... कितनी गहरी है!' जोरावर पीछे पीछे कूदता हुआ बोला!
'इसी लिए तो लगाई थी!' सुगंधा ढ़लान पर दौड़ती फिसलती हुई बोली!
'ऊह आह ऊह आह.... हुकुम.... जब हम नीचे पहुचेंगे तो कैक्टस की कोई नयी नस्ल के पौधे होंगे... ऊह!' जोरावर रोड रनर की स्पीड से भागते हुये बोला!
'गुड!' सुगंधा की स्पीड उससे भी ज्यादा थी......

c/o Wooliyum Shekhprayer



ये है   c/o Wooliyum Shekhprayer यानी (c/o William Shakespeare)  script  का एक छोटा सा हिस्सा - किस्सा है!   


                              c/o Wooliyum Shekhprayer 


....ये बबीता यानी बित्तो है, दरोगा बेअंत सिंह उर्फ़ बंटी हाय हाय की पुत्री! 

जी!  नही - नही, ये वो 'हाय - हाय' नही है! ये तो दरोगाजी का तकिया कलाम है! उन्हें जी, शेरो - शायरी का वडा शोक, मेरा मतलब है शौंक है! शाम को अपने बचपन के दोस्त और ताहिर के अब्बू फकीरा यानी फखरुद्दीन के साथ चौसर की बाजी तो दिखावा है पहले तो शायरी की महफ़िल लगती है! 
कल ही लीजिये, क्या बढिया शेर मारा था! मेरा मतलब है अर्ज़ किया था बंटी ने - 'हाँ तो अर्ज़ किया है के - 
मै, मै खूबसूरत हूँ के न हूँ, तू तो दूज का चाँद है, 
मै, मै खूबसूरत हूँ के न हूँ, तू तो दूज का चाँद है, लेकिन  
रात को जो चोरी से मै मिलने आऊँ तो... 
किस दफा में पकडेगी हाथ मेरा!!' 
'हाय, हाय, हाय, हाय बंटी ओए  कमाल किया जी, हाय-हाय!'
फकीरा झूम झूम कर तारीफ़ कर रहा था!   
'ओये फकीरे, ये तो कुछ भी नही, एक बार मैंने चांदनी चौक में तेरी भाभी का हाथ पकड़ कहा  
तेरे कानों में जो चांदी की जो बालियाँ है..मेरे दिल के फूलों की डालियाँ है,  
 तेरे कानों में जो चांदी की जो बालियाँ है..मेरे दिल के फूलों की डालियाँ है,  
एक बार लग जा मेरे सीने से ए जान, फिर चाहे जितनी भी दे तेरे दिल में जो गालियाँ है!' 
'हाय, हाय, हाय, हाय बंटी ओए क्या बात है! भाभीजी तो खुशी से फूली न समाई होंगी!' फकीरा फिर वैसे ही हाथ हिलाते - झूमते हुए बोला! 
'ओये फकीरे, कहाँ का खुशी में फूलना, वो तो गुस्से से फूल गयी थी.... ताव खाकर बोली -तुसी  घर चलो मै त्वानू दसदी आं!' बंटी उदास सा मुँह बना सर हिलाते हुए बोला! 
'ओए होए!' फकीरा का बस ये ही जवाब था! 
'ये जनानियाँ भी ओखी होंदी हें ... ज़े ते हाथ पकड़ा तो काटने वास्ते दौड़दी हें, और जे न पकड़ो तो शक में काटने दौड़दी हें, करां ते की करां!' 
बेचारा बंटी हाय-हाय... 

Saturday, May 6, 2017

Detective story "कठपुतली घर"


                  ये कविता कहानी एक छोटा सा हिस्सा है मेरी 
                  detective story
                 "कठपुतली घर" में से!
  
                        

                           कठपुतली घर
   
                           शोर उठा
                          जोर से, और थम गया...
                          हारमोनियम की ताल पर
                          और ढोलक की थाप के बीच
                          पीपनी बजाता वो
                          कठपुतली वाला..... दिखा रहा था
                          आज रात का
                          आख़री खेल... दूर से ही
                          उसके बाजे की आवाज़
                          सुनायी दे रही थी....        
                          सुगंधा का रोना भी
                          जाता था बढ़..... जैसे ही
                          पडती थी ढोलक पर थाप
                          हर बार जोर से....
                          'सिर्फ पांच रुपया.... पिताजी,
                           सिर्फ पांच रुपया..... बस
                           लास्ट बार'....  'फिर वही 
                           मुर्गे की एक टांग'....
                           पिताजी बोले गुस्से से,
                           'मुर्गे की एक टांग नही
                           पिताजी दो होती हैं टाँगे 
                           मैथ्स में पढ़ा नही क्या'.....
                           सुगंधा समझाती हुई बोली
                           और सुधा की हंसी गई
                           छुट.... फ्रंटियर मेल की
                           तरह, और रूकी नही,
                           वो देख रही थी
                           बाप-बेटी का नाटक
                           बहुत देर से...... 'बताओ
                           तो ज़रा, मैथ्स में
                           एनीमल्स साइंस होती है
                           भला क्या'.... पूछा सुधा ने, 
                           'हर गिनती वाली बात
                           मैथ्स में ही आती है.... माँ 
                           मुर्गे की दो टाँगे.... एक नही' 
                           सुगंधा ने फिर समझाया, 
                           'पर पहले दो न पांच रुपया 
                            खेल होने वाला है खत्म 
                           आज रात जायेगा वो चला.... 
                           वो कठपुतली वाला.... हो
                           जायेगा खाली कठपुतली घर'
                           'पर खेल का तो पैसा है
                            सिर्फ आठ आना.... बाकी
                            पैसों का क्या होगा भला'
                            माँ ने पूछ शर्लाक होल्म्स की
                            तरह सवाल..... 'लेना है
                            एक घोड़ा और एक सिपाही
                           और बाज़ा उनके साथ.... वो 
                            उस कठपुतली वाले से.....'
                            बार - बार कदम ताल जैसे 
                            पांव मरती सुगंधा, ढोलक की
                            हर थाप पर होती बेचैन,
                            'माँ अब तुम दो पांच रुपया
                            पिताजी जाने कहाँ गये'
                            सुगंधा फिर बेचैन हो बोली,
                            'पर आज रात वहाँ है बहुत भीड़ 
                            तुम खो जाओगी.... तो हम
                            कहाँ से लायेंगे अपनी सुगंधा'
                            'माँ मै नही खोउंगी.... मेरी
                            सहेलियाँ उड़ाएंगी मजाक मेरा....
                            वो पहले ही मुझे पुकारती हैं
                            सु-गधा.... मै डरपोक नही....
                            मै जा सकती हूँ अकेले.... मुझे
                            लेने है खिलौने'.....  तभी
                            शोर उठा.... खेल खत्म हो चुका था, 
   

Monday, May 1, 2017

Actually I don't write poetry. I write stories, stories in my poetry. rin


                          उतरती धूप 
 

                      तुम हंस रही थी, 
                      क्या? वह चौंकी, 
                      तुम हंस रही थी, 
                      मै  क्यों भला हंसुगी 
                      ऐसे ही.....बिना बात 
                     अपने आप में.... मै 
                     क्या पागल हूँ,.... वो 
                     फिर वैसे ही बोली, 
                     नही, मेरा मतलब है 
                     तुम हंस रही थी... 
                     जब धूप सीढियाँ 
                     उतर रही होती हैं  
                     तुम सीढियाँ चढती हुई 
                     रोज़ शाम को यूँही 
                     हंसती हुई मिलती हो, 
                     मुझे लगा तुम आज भी 
                     हंस रही थी,.... वो सुन 
                     रही थी ध्यान से.... 
                     देख रही थी ध्यान से.... 
                     फिर धीरे से अपना 
                     दुपट्टा झटका, और 
                     हैरान नज़रों से देखती हुई 
                     बगल से सीढियाँ 
                     चढती चली गई... मानो 
                     कह रही हो... मै नही 
                      तुम पागल हो.... मै खड़ा रहा 
                      थोड़ी देर.... वैसे ही  
                     ध्यान गुम था .... ख्याल  
                     फिर लौटे और मै सीढियाँ 
                     उतरने लगा..... मानो हो 
                     कोई धूप का आख़री टुकड़ा, 
                     धूप पीछे हट रही थी, और 
                     मै आगे बढ़ता जा रहा था, 
                     सोच रहा था....... सोचता जा 
                     रहा था, वो सच में हंस रही थी.... 
                     न... मुझे हुआ था वहम, 
                     मैंने झटका सर, और आगे 
                     गया बढ़ सोचता हुआ.... पर था 
                     अच्छा वहम.... वो हँसती हुई लगती है 
                     भली.... ठीक ही सोचती होगी 
                     पगली वो नही... मै ही हूँ पागल, 
                     देखता हंसी चेहरों पर...  
                     ढूँढ़ता हंसी चेहरों पर...
                     इस पत्थर के शहर में!!  

                     01.05.2017/ 05:23 शाम 
                     ख्याल एक अजब सा 
                     देखता था मेरी ओर 
                     होती ही न मै तो 
                     करते किसे तुम इतना तंग?

ज़िन्दगी छूट रही है पर तुम बहुत दूर हो

                                            

                                फिर मिलेंगे 

                        
                           जाते हुये उसने कहा 
                           अच्छा फिर मिलेंगे... 
                           मेरे पास कोई ज़वाब 
                           कभी नही होता इस बात का 
                           कभी भी... किसी के लिए, 
                           मुझे होती है उलझन 
                           जब लोग जाते हैं छोड़कर, 
                           उन्हें जाते हुये देखना.. 
                           बस देखते रहना, 
                           कुछ लोग कभी नही लौटे 
                           वो कहीं अब रहते भी नही 
                           जहाँ भेजूँ उन्हें चिठ्ठी, 

                           उडती हुई तितलियों में 
                           देखती मै उन्हें.... 
                           मेरी आत्मा जुडती है उनसे... 
                           बीती सर्दियों से पहले... पाली कई 
                           तितलियाँ... बड़ा कर उड़ाया उन्हें, 
                           उड़ता देख उन्हें वो सब याद आये 
                           जो कभी लौट कर नही आये, 
                           रिश्ते होते हैं कभी-कभी 
                           तितलियों से..... सुंदर-नाज़ुक 
                           उन्हें देखना-उन्हें महसूस करना 
                           बस और कुछ नही..... छूने की 
                           चाह में टूट जाते हैं पंख 
                           तितलियों के.... मर जाती हैं तितलियाँ, 

                           कहा तुमने..... एक दिन होगी बड़ी 
                           तो देखोगी ज़िन्दगी.... पकड़ना नही 
                           कभी उसे.... बस जीना उसे 
                           रहना उसके साथ..... महसूस करना... 
                           ज़िन्दगी पकड़ने की चाह में 
                           समय बीत जायेगा 
                           पता ही नही चलेगा 
                           ज़िन्दगी कहाँ गई....  बस 
                           ऐसे ही खुशियाँ तितलियाँ 
                           बन मिलेंगी.... ऐसे ही 
                           हंसती रहना, मुस्कराना 
                           मुझे याद करना कभी - कभी, 

                           'ज़िन्दगी छूट रही है पर 
                            तुम बहुत दूर हो' ......  ये 
                           आख़री लाईने पढ़ तुम्हारी 
                            चिठ्ठी की.... याद आयी तुम.... लारा, 
                            तुम अब कभी नही लौटोगी, 
                            तुमने कहा..... 'पलट कर मत देखना' 
                            मैंने कहा.... 'अच्छा'..... पर देखा 
                            फिर भी पलट कर... तुम 
                            रो रही थी.... भाग कर मैंने 
                            तुम्हें थामा अपनी बाहों में 
                            और तुम रोती रही..... लारा,
                            बिन बताये तुम भी बन गई 
                            तितली... और मै मौसमों में 
                            ढूँढती हूँ तुम्हें.... हर तितली में, 

                            शून्य में देखती.... बहती ज़िन्दगी को.... 
                            आसमान की गहराई से अनजान..... मै, 
                            तुम्हारी दी हुई गुडिया बाहों में थाम 
                            तुम्हे आज भी सोचती हूँ!!   

                            01.05.2017/ 04:06 शाम 
                            ढलते हुये दिन की आवाज़ 
                            क्या दी तुमने मुझे... आज एक 
                            आकाशदीप जलाना है मुझे.. 
                            रास्ता दिखेगा तुम्हे कही दूर 
                            आकाशगंगा का... पलट कर 
                            देखना मत तुम... पार हो जाना बस!