Tuesday, April 25, 2017

आज तुम नही... बारीश ही सही




                                      चिकन करी 


                               धूप गर्म नही थी आज 
                               पर फैली थी सब ओर, 
                               हवा भी बच - बच कर 
                               चलती और पत्तों से 
                               छनती धूप को करती 
                               ठंडा...... पंखों की आवाज़ 
                               संगीत की आवाज़ के साथ 
                               घुल रही थी..... मिल रही थी, 
                               पूरा घर महक गया था  
                               मरवे के पत्तों की खुशबू से... 
                               फडफडाते पन्ने किताबों के 
                               चिड़ियों की आवाज़ 
                               शोर था कुछ अजब सा, 

                               जशोदा ने एक बार किया 
                               फिर से सारा सामान चेक.... 
                               हफ्ते भर के लिए हो सकता है 
                               क्या क्या ज़रूरी और कितना, 
                              आवाज़ दी तपन को 
                               संगीत के साथ लहराती आवाज़... 
                               तपन हाथ में टाई लिए खड़े थे.... 
                               'सुनो लौटते हुये ले आना 
                               लखनऊ से चिकन क..... 
                               'इतनी दूर से तुम्हारे लिए 
                               लाऊँगा कैसे भला चिकन करी' 
                               जशोदा की बात पूरी होने से 
                               पहले ही तपन बोला....  'अरे  
                               सुनो बात पूरी.... चिकन करी नही 
                               चिकन की कढ़ाई वाली साड़ियाँ 
                               हाँ वही था कहना.... ले आओगे न' 
                               जशोदा गले में बाहें डाल बोली, 
                               'हाँ, अब तो लानी पड़ेंगी..... 
                                गले में बाहें हैं, मना करूंगा 
                               तो दबा न दो गला'.....कह कर 
                               हंसे तपन और जशोदा के हाथ 
                               गले पर थे, दोनों हंसते रहे ..... 
                               शाम गये तपन निकल गये,   

                               जशोदा खडी बालकनी में 
                               सोचती रही...... कैसी होंगी 
                               वो साड़ियाँ...... क्या होगा रंग 
                               तपन की पसंद होती है 
                               हमेशा अच्छी..... वो  तो है 
                               मै भी तो तपन की पसंद हूँ, 
                               सोच कर मन ही मन हंसी 
                               जशोदा..... लखनऊ में तो 
                               पान भी खाती होगी सारी...... 
                               कैसे खाती होंगी....आईने के 
                               सामने खडी जशोदा मुँह 
                               बना - बना कर पान खाने का 
                               खेल करती रही.... हंसती रही, 
                               चाय लाऊं मेमसाब..... गेंदा 
                               की आवाज़ से खेल टूटा, 
                               जशोदा चौक गई ....हाँ,..ला, 

                               कितने नाजों नखरों से पीती होंगी 
                               वो चाय.... जैसे दिखाया जाता है 
                               फिल्मों में..... उफ़! कितना 
                               आता होगा मज़ा..... जशोदा 
                               सोच रही थी मन ही मन..... 
                               हो रही थी खुश मन ही मन.... 
                               पी रही थी चाय वैसे ही 
                               नाजों नखरों के साथ..... गेंदा थी 
                               हैरान...... गुनगुनाती जशोदा 
                               गाती जशोदा.... दीवानी जशोदा 
                               हंसती जशोदा..... आंचल लहरा-लहरा 
                               कर चलती जशोदा..... संगीत की 
                               लहरों के साथ तैरती पूरे घर में.... 
                               जशोदा....जशोदा....जशोदा..... 
                               अचानक दरवाज़े पर पड़ी थापों 
                               और आवाज़ को सुन लौटा ध्यान... 
                               सामने तपन थे खड़े.... ट्रेन गयी थी 
                               छूट ... जशोदा हैरान नज़रों से देखती, 
                               'आई होप तुम अब दबाओगी 
                                नही मेरा गला' ..... जशोदा 
                                खामोश खडी.... तपन चुप थे, 

                               जशोदा...जशोदा, सब बेगमे गयी हैं 
                               छुप, अपना आंचल सम्भालो...... 
                               आवाज़ कहीं मन के कोने से थी, 
                               तपन नहाने चले गये.... जशोदा 
                               सोच में डूबी.... और डूबी जा रही थी 
                               कि आवाज़ सुन चौंकी..... 
                               'डिनर में चिकन करी बनाऊ, मेमसाब' 
                                जशोदा हैरान नज़रों से देखती 
                                रह गयी गेंदा को..... और तपन 
                                खिलखिला कर हंस पड़े.... 
                                गेंदा भाग कर घुस गयी किचन में 
                                बनाने चिकन करी!!   

                                 24.04.2017/ 04:50 शाम 
                                 करते इंतज़ार किसका था 
                                 पत्तों की सरसराहट में 
                                 कोई आहट थी मौसम की 
                                 आज तुम नही... बारीश ही सही!

Saturday, April 22, 2017

कुछ नही तो एक याद और कुछ बातें रहेंगी इन हवाओं में....


   
                                            हवायें 
  
                        बवंडर में बदल गयी 
                        वो छोटी सी हवा, 
                       आंधियाँ भी कैसी - कैसी हैं 
                       चलती तेज़, बहुत तेज़ 
                       यहाँ से वहाँ तक.... ज़िन्दगी के 
                       इस छोर से उस छोर तक, 
                       उड़ा ले जाती हैं सब कुछ, 

                       सीढ़ियों पर से उतरते हुए 
                      और फिर नीचे खड़े - खड़े 
                      बहुत देर तक सोचती रही 
                      तुम क्या लिख रहे होंगे, 
                      तुमने मुझे भगा दिया 
                      बाहर... निकलो तुम 
                      प्लीज़ कहते हुए... तुम मुझे 
                      कुछ लिखने नही देती 
                      ठीक से... हंसती रहती हो, 
                      बड - बड बोलती रहती हो, और 
                      कुछ नही तो कैमरा उठा 
                      फोटो खींचते हुये जाने क्या 
                      कैसा ऊट-पटांग गाती हो... 
                      मेरे सारे आइडियाज हो जाते हैं 
                      गायब... प्लीज़ तुम जाओ 
                     और अपना काम करो.... तुम 
                     अपना ध्यान लगाओ अपने 
                      काम पर.... बोलते बोलते 
                      हो गया वो चुप, और मै अपना 
                      ताम - झाम उठा आ गयी 
                      बाहर...... ये भी है 
                      एक किस्म की आंधी 
                      जो चलती है ज़िन्दगी में 
                      उथल - पुथल कर देती है  
                      सारे घंटे - मिनट और सैकंड , 

                      बस सैकंड ही लगा और वह 
                      ठंडी हवा आंधी में गयी 
                      बदल.... इंसान होती तो 
                      ट्राईपोड से डराती मगर 
                      ये है आँधी..... ट्राईपोड ही न 
                      ले जाये उड़ा, इसलिए चुपचाप 
                      दिया उसे गुज़रने.... ऐसे 
                     ही लोग गुजर जाते हैं 
                     अगल - बगल से.... बरसों 
                     पुराना शूट याद आ गया, 
                     परफेक्ट शाट देने के लिए 
                     खुद ही दिए कई री टेक... 
                     हंसते रहे अपनी गलतियों पर... 
                     पर कमाल के एक्टर और 
                     इंसान थे आप भी...... अहसास ही 
                     न होने दिया कि मै  एक 
                     नई डायरेक्टर और आप 
                     एक पुराने एक्टर... कही आगे.. 
                     कही ज्यादा अच्छे.... फिर 
                     आंधीयाँ चलती रही और 
                     एक दिन पता चला कि 
                     आप भी चले गये,  

Wednesday, April 19, 2017

चलो करे आज कुछ नयी बात

      
                                सारी दोपहर

                     जब गर्मियां अपने हाथ उठायेगी 
                     पेड़ों तले धूप सीमट आयेगी, 
                     उस तेज़ धूप में क्या छतरी दी थी 
                     तुमने या थामा था धीरे से हाथ... 
                     दोपहर सारी हम करते बातें 
                     किताबें बंद है मगर पन्ने शोर करते... 
                     और संगीत थम - थम कर 
                     थिरकता रहा सारी दोपहर, 
                     अधखुली आँखों से देखती तस्वीरें.. 
                     थक रहा था अब ग्रामोफ़ोन भी.. 
                     हवा भी ले रही थी उबासियाँ... 
                     चलो करे आज कुछ नयी बात 
                     जिसमे न हो कोई सवाल, और 
                     न हो कोई ज़वाब, बस बात हो 
                     कोई दिन की, जो छूटते - छूटते  
                     पकड़ा हो कहीं, जहाँ रात 
                     बीती न हो देर तक, चाँद बस 
                     सोचता हो - देखता हो, और 
                     सुबह हो जाये.. बस रात को 
                     सुनते हुये और देखते हुये!! 

                    19.4.2017/ 05:15 शाम 
                    ढल रही थी और बातें 
                    कहीं अधूरी और कहीं पूरी... 
                    खिडकियों के पल्ले बंद हैं 
                   और किताबें अधखुली... तुम्हारे 
                   बिन कहे सुना मैंने... हाँ चाय, 
                   चलो मिलकर पीयेंगे चाय!!

Tuesday, April 11, 2017

क्या टूटेगा फिर वो समय - दर्पण



                            मौत - एक समय - दर्पण  


                          बारीश की आख़री बूंद 
                          जो गिरेगी रात भर 
                           सुबह होने तक 
                           गीला होगा हर पहलू, 
                           सपनों में बदलती नींद 
                           करवटें.... देखेगी कई और 
                           नये सपने, पर क्या तुम करोगे 
                           मुझसे सदा यूहीं.... इसी तरह 
                            ऐसा ही प्यार.... अनंत काल तक, 
                           बीत जायेंगी सदियाँ, बदलेगा 
                            ब्रह्मांड अपने रंग, इतिहास  
                            बनेंगे सारे भविष्य और हवायें 
                            बनेंगी आंधियाँ.... बिन छुए 
                            तुम्हारे छूने के हर अहसास में 
                            एक याद है.... याद जो  
                            मिटती नही, अहसास जो  
                            मरते नही,  सपने जो  
                            टूटते नही,  लोग जो  
                             मर कर भी रहते हैं  
                            ज़िंदा.... चीज़ों के साथ,  
                            हर चीज़ का रिश्ता है  
                            किसी न किसी के साथ, 
                            जैसे ये संगीत 'नोत्तुर्नो*',  
                             जो बह रहा है इन तेज़  
                             हवाओं के साथ, घर के  
                             हर कोने में बहता  
                             पहुंच जायेगा.... दिलाता है 
                             याद  'कैरोल ज़िमैनोस्की' की, 
                             तो फिर?  क्या पड़ेगा 
                             फ़र्क जो आज रात  
                            बारीश होगी या नही....  
                            प्यार, क्या ऐसा ही रहेगा 
                            बरसेगा - बहेगा..... एक नदी  
                            एक तूफ़ान की तरह,  
                            सदियाँ लेंगी जन्म  
                            अतीत के गर्भ में  
                            खेलेगा वर्तमान, वर्तमान 
                            बदल जायेगा चमकते  
                            तारे सा भविष्य में,   
                            लोग मर कर भी रहेंगे 
                            ज़िन्दा हमारे सपनों में,  
                            हमारी नींदों में, हमारे  
                            बनते - बिगड़ते ख्यालों में, 
                             मौत, कुछ भी तो नही  
                             एक समय - दर्पण है,  
                             छलावों से भरा,  
                             उफ़! ये ख्याल भी   
                             जायेंगे मर, क्या टूटेगा फिर 
                             वो समय - दर्पण, और तुम  
                             भीगते हुए लौटोगे  
                             हर बार दूर जाकर  
                            चाहे कितनी भी होती रहे 
                             बारीश....रात भर,  बस  
                             एक बार...... एक बार
                             आख़री बार छूने  
                            अतीत के भीगते रास्तों से!!  

         11.04.2017/ 01:11 दोपहर 
 जा रही है कई ख्याल लिए, 
यादें जो मरती नही जा चुके लोगों के साथ, 
और पल, जो मर रहें हैं जिन्दो के साथ, 
कुछ लोग मर कर भी जीते है ख़्यालों में, और 
  कुछ लोग जीते जी मर जाते है हमारे हर पल में, सदा के लिए!!

         *Notturno



🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
             
         


                 

Sunday, April 9, 2017

“Birds of a feather flock together" - William Turner



  “The fool doth think he is wise, but the 
     wise man knows himself to be a fool.” 
       ― William Shakespeare,  
         "As You Like It", Act 5 scene 1

Friday, April 7, 2017

William Shakespeare, tell me what to do

                                              
                          अच्छे दोस्त - अच्छे पागल


जब  लोग मुझ से बेवकूफ़ी से भरी बातें करते है तो मुझे समझ नही आता कि मै क्या करूं?? या तो भगवान ने उन्हें कुछ ज्यादा अक्ल दे दी है जो उनसे संभल नही रही है या फिर भगवान ने उन्हें समझने वाले फोंट्स नही दिए मुझे!! सारी गलती उस ऊपर वाले की है! कभी - कभी मुझे, ओ! नर्गिस की पेंटिंग वाले, तुम पर बहुत गुस्सा आता है!! यूं दूसरों की पीठ के पीछे खड़े होकर मुझे तंग करने की बजाए समाने आकर मुझ से लड़ो और खूब लड़ो, दुनियां जहान का गुस्सा उतारो, घर - बाहर, परिवार, बिज़नेस, राईट - लेफ्ट जितनी सहेलियाँ थी या हैं उनका भी गुस्सा उतार सकते हो! जब तक तुम मुझसे लड़ोगे नही तुम यूं ही परेशान रहोगे और करोगे!! बेवकूफ, जो 122640  घंटें खड़ा रह सकता है वो 122640 साल भी खड़ा रह सकता है!अच्छे दोस्त और अच्छे पागल किस्मत वालों को ही मिलते हैं!!







➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤➤





  “The fault, dear Brutus, is not in our stars,          but in ourselves.” 
― William Shakespeare, Julius Caesar








,➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽➽

                           
              मेरे हमराह भी रुसवाइयां हैं मेरे माझी की 



                 

Sunday, April 2, 2017

Time is a great healer

I read somewhere that "God can heal a broken heart if we give Him all the pieces"