Saturday, March 11, 2017

Memoir of a lost princess- No Juliet lives there... (एक गुमनाम राजकुमारी की यादें - वहाँ अब कोई जूलियट नही रहती.. )

              
         

                 (VI)  वहाँ अब कोई जूलियट नही रहती.... 
                                      


                       फिर वही रोज़ वाला दिन

                       रोज़ ही आ जाता है,
                       फैल जाता है कोना - कोना...
                       इतने कोने, कितने कोने....
                       न मालुम कहाँ - कहाँ... और
                       कैसे - कैसे कोने हैं,
                       कुछ उजाले वाले और
                       कुछ अँधेरे वाले हैं सारे, 
   
                       शहर गलियों में गुम
                       आसमान ढूँढ़ता है,
                        ग्रामोफ़ोन पर बजता संगीत
                       और फ़ोन जो लगातार
                        बजता रहा.... फिर हो गया
                        खामोश,   खामोश है
                        सारा गलियारा, लगता है
                        अभी आयेंगे प्रहलाद सिंह जी
                        कहेंगे फिर वही रोज़ की तरह-
                         हुकूम.. dinner is served..
                         हुकूम.... गाड़ी आ गयी है....
                         हुकूम.. फ़ोन है...,  और
                         जाने क्या - क्या, 
   
                        आईने में कुछ साफ
                        नज़र आता नही....
                        प्रहलाद सिंह जी ये आईना
                        बदलवा दीजिए... इसमें
                        हर परछाई अंधेरी नज़र
                        आती है, सुन हमारी बात
                        प्रहलाद सिंह जी ने बढ़ आगे
                        लाईट का स्विच ऑन  किया
                        और फिर बोले वैसे ही -
                        हुकूम.... अंधेरा हो गया था..
                        क्षमा कीजियेगा, रोशनी करना
                        गया था भूल, आईना
                        अपनी जगह ठीक है,
   
                        क्या हर चीज आईने की ही
                        तरह है साफ.... पर क्या
                        उसके पीछे समाया अँधेरा...
                        आता नही क्या नज़र किसी को,
                        छनक कर टूट जायेगा
                        समय का आईना..... क्या फिर
                        लौटेगी.... आयेगी जूलियट
                        वापस फिर वहीं उसी
                        बालकनी में.... झाँकने नीचे,
                        पर अब कोई रोमियों भी तो नही,
   
                        हवा तेज़ है... रात यूँ
                        बारिश कहाँ से आ गयी इस ओर,
                        'सो जाईये हुकूम
                        सुबह जल्दि निकलना है,
                        प्रहलाद सिंह जी कहकर
                        चले गये, पर  है कहाँ 
                        नींद आँखों में आज की रात...
                        जब गीत गाते हैं सपने
                        तो नींद नही आती...
                        जब तक सो न जाएँ सपने,
   
                       संगीत की लहरें सुला न
                       पायेंगी आज की रात हमें....
                       जी चाहता है पुकारे आज
                       फिर वैसे ही कोई हमारा
                       नाम... वैसे ही, फिर यूँही!! 
   
                               कादम्बरी देवी
                               १२ जनवरी १९७२
                               ११ :३० रात्री

   
               AN excerpt from the script of -

             Memoir of a lost princess - No Juliet lives there....






   

Friday, March 3, 2017

देर तक जागी हुई आँखें


 
                              एक दिन 
 
 
                            कोई दिन 
                            होता है ऐसा... 
                            आता है एक दिन  
                            बस जब हम  
                            छोड़ आते हैं....  
                            कोई पहर 
                            कोई दिन  
                            कोई शाम  
                            कोई रात  
                            एक शहर  
                            अधूरी बात   
                            पुराना साथ  
                            नया जज़्बात  
                            भूली हुई मुस्कराहट  
                            देर तक जागी हुई आँखें 
                            वो महक  
                            मासूम आवाज़  
                            किसी की आहट  
                            लम्बा इंतज़ार.....  
                           और जाने क्या  
                           न जाने क्या - क्या 
                           बस छोड़ आते हैं,  
                           लेते हैं लम्बी सांस  
                           देखते हैं आसमान, और  
                           भीड़  की लहरों में  
                           हो जाते हैं गुम!!   

                           16.09.2015/ 04:50 सुबह 
                           आये न हैं  ख्याल 
                             न आये हैं वो सनम 
                           अच्छा है दूर हैं  
                           होंगे फ़साद कम, 
                           ये कैसी तासीर है 
                           तेरे नाम की बेरहम  
                           खंज़र उठा के पूछते हैं 
                           लोग हमसे हमारे गम!