Monday, January 23, 2017

कोई अभी तक सोया नही, और कोई कहीं सपनों में जागा हुआ!!


   
                                               दो अजनबी
   
                                     हम भागते हैं
                                     दूर तक थामे
                                     हाथ में एक दूसरे का हाथ.....
                                     और तुम हंसती हो
                                     बेपनाह और प्यारी हंसी.....
                                     देखते हुए तुम्हारी आँखों में 
                                     मै बंद करता हूँ
                                     अपनी आँखें..... और 
                                     तुम फिर हंस पडती हो,
                                     तुम्हारी वो शरारत से
                                     भरी बातें और वो
                                     आँखें...... मै  दीवाना 
                                     हुआ जाता हूँ..... और 
                                     बेख़ुदी में कहता हूँ
                                     न जाने और जाने
                                     क्या - क्या..... और
                                     तुम वैसे ही हंसते हुए
                                     मेरे ही रुमाल से
                                     पोंछते हुए मेरा माथा
                                     कहती हो..... 'सर्दियां
                                     अभी हैं बाकी.... ये
                                     पसीना तुम्हारे माथे पर...
                                     ओह! वो ज़माना
                                     यूनिवर्सिटी का... और ये
                                     आज हम..... फिर मिले
                                     वैसे ही दो अजनबियों जैसे,'
                                     तुम्हारी बातों से झेपता
                                     मै आज भी.... और तुम
                                     मेरा दिल - दिमाग  चुराती
                                     वैसे ही हंसती हुई!!    
 

                                      23.01.2017/ 04:00 सुबह,
                                      इतनी सुबह और ख्याल
                                      तुम्हारा......  और कविता
                                      तुम्हारे लिए...  कोई अभी तक
                                      सोया नही...... और कोई कहीं
                                      सपनों में जागा हुआ!!

   

Friday, January 20, 2017

तुम्हारे चेहरे की लकीरों में एक उम्र मेरी भी गुज़री है...


     
     
                                 तेरी - मेरी बातें
     
                                बाद पतझड़ के
                                लौट आयेंगे पत्ते.....
                                फूलों के खिलने के लिए
                                मौसम बदलने लगा,
                                आसमान साफ - सुथरा...
                                धुल गया हो हवाओं के
                                ठंडे झोंकों से..... बादलों के
                                टुकड़े बिखरे हैं....
                                धीरे-धीरे भर जाये
                                शायद उनसे आसमान,
                                क्या बारिश शहर में
                                आ रही है या जा रही है
                                कही ओर..... रास्ते का
                                 मेरा शहर..... न मालुम
                                 रूक गयी हो इस
                                शहर की सर्दियां
                                देखने के लिए इस बार भी,
   
                                सारी दोपहर अजीब से
                                मज़ाक और ऊंट - पटांग
                                बातों वाली.....
                                उफ! पर मेरी हंसी
                                न ला पायी मेरे शहतूत के
                                पेड़ के पत्ते..... मौसम से पहले,
                                पर डर है इन पागलों जैसी
                                तेरी - मेरी बातों से
                                झड़ न जायें जो
                                झूल रहे हैं हवा के  ठंडे
                                हल्के झौकों में..... वे कुछ
                                पीले - हरे पत्ते...... पेड़ का
                                लगता है मानो मुंडन संस्कार
                                किया हो मौसम ने,   
                                

                                हवा में चक्कर लगाता
                                पालतू कबूतरों का झुंड
                                गोल - गोल घूमता हुआ 
                                रोज़ की तरह.....  ऊँचे
                                और ऊँचे आसमान को 
                                छूने के लिए उड़ता रहेगा,   
                                धूप फैलती रही    
                                दीवारों, छतों और
                                खिड़कियों के पल्लों पर....    
                                धीरे -धीरे बज रहा संगीत
                                और टिक -टिक करती    
                                घड़ी की सुइयां.... ध्यान
                                कहीं ओर गुम हो गया,
                                इंतज़ार करते हुए फ़ोन का....
                                और वही हंसी.... देर तक
                                 होती रही बस बातें....
                                 सुनोगे कभी क्या थी वो बातें!!  


                               20.01.2017/03:40 दोपहर बाद
                               रंग बिखेरती रही हवा,
                              मौसम के साथ देर तक        
                              रुक-रुक के हुई कुछ बातें,
                              

                              तुम्हारे चेहरे की लकीरों में
                              एक उम्र मेरी भी गुज़री है...
                              आज भी बिन कहे समझ
                              जाती है मेरी ख़ामोशी....
तेरा गुस्सा
                             
तेरी झुंझलाहट और तेरा बेबस होना!!



Wednesday, January 11, 2017

उठायेगी ये दुनियां कोई दिन अपने कंधों पर मुझे कभी खुश होते हुए और एक दिन रोते हुए, देखना दूर से तुम भी ये तमाशा..कभी हँसते हुए कभी रोते हुए!!


   
                                                ब्लैक होल
     

   
                               ठंडी हवा की लहरों पर
                               तैरता रहा वो गहरा
                               और गहरा संगीत....
                               देर रात लिखते हुए
                               दिन की बातें और
                               सोचते हुए हर पल...
                               कोई सो रहा होगा
                               थक कर.... किया होगा
                               परेशान सबको, पर रहा होगा
                               खुद ज्यादा परेशान,            
                               देता धोखा चुपके से 
                               सारी दुनियां को.... वो 
                               खा रहा दरसल 
                                खुद धोखा.....
   
                                पहले आता था
                                गुस्सा..... अब वो भी 
                                नही आता.... सब कुछ  
                                हो गया अंदर ब्लैंक...... 
                                गहरे कहीं अंदर..... आत्मा की 
                                गहराई में भी होता है        
                                एक ब्लैक होल.... जहां से 
                                कुछ वापस नही लौटता,    
                                तुम्हारी आत्मा में भी होगा 
                                कहीं एक ब्लैक होल... या 
                                तुम्हारी आत्मा अपने आप में 
                                है एक ब्लैक होल.... 
                                प्रकाशविहीन..... एक डेड स्टार, 
   
                                बाख़ सुइट नंबर 3.... कितना
                                गहरा है ये संगीत.... कही से
                                सरक आयी ठंडी हवा 
                                कमरे में.... खिड़कियाँ 
                                दरवाज़े बंद हैं फिर भी..... 
                                कितनी ठंडी है ये.... 
                                जब भी छू कर गुज़रती है.... 
                                ख्याल आया ये बुन 
                                क्यों नही लेती एक स्वेटर
                                अपना.... कई रंगों वाला..... 
                                कई दिनों वाला.... कई 
                                यादों वाला....  जिसमे हों 
                                सदियाँ, और डिज़ाइन हो 
                                प्यार के, दोस्ती के, खुशी के...... 
                                कुछ किनारे हों उदासी के....  
                                बिछड़ने के और कुछ मिलने के, 
   
                                संगीत बदल गया..... और
                                हवा पूरे घर में घूमती रही, 
                                लगता है कभी-कभी 
                                मुझे ये..... करती है पसंद 
                                ये भी बाख़.....  पर  
                                पूछा नही मैंने कभी...... 
                                और वह कभी बोली भी नही,  
                                 बस ठहर गयी कुछ देर  
                                 फिर चली गयी..... तुम  
                                 दिखती नही हो.... सुनो हवा  
                                 पर तुम किसी रोशनी.... 
                                 किसी चमकते तारे जैसी हो..... 
                                 जो महसूस होता है  
                                 हर पल.....  क्या तुम्हे  
                                 पसंद है शोंपे भी..... 
                                 जो बज रहा है अभी.....  
   
                                 देखा है तुमने अतीत को... 
                                 समय के अंदर भी होता है 
                                 एक ब्लैक होल.....  तुम कैसे
                                 लौट आयी..... तुम कुछ 
                                 कहती नही.....  सुनती हो
                                 बस सुनती हो..... हर पल,
                                 संगीत जो बज रहा है..... 
                                 गहरा और गहरा.....  और 
                                 आँखे जो भारी हो रही है..... 
                                 नींद भी एक दुनिया है 
                                 सपनों की.... सच-झूठ से परे 
                                 एक अजब दुनिया.....  
   
                                 हवा फिर लौट आयी... 
                                 संगीत और हवा दोनों
                                 गहरे और ठंडे..... बहते रहे 
                                 और मै लिखती रही, 
                                 हम तीन और एक रात.... 
                                 सुबह की तरफ बढ़ते हुए!!! 
   
   
                                 11.01.2017/03:44 सुबह
                                 हर रोज़ लौटती है
                                 चाहे कोई मौसम बदले या न बदले, 
                                 कोई लौटता नही पलट के...    
                                 पर तुम लौट आती हो
                                 रोशनी लेकर नये दिन की!   

Friday, January 6, 2017

देह बिना दाता.. भटके न प्राण, सबको सन्मती दे भगवान


                    
                       खुली आँखों से देखती सपने तस्वीरें
   

   
                            कोई देता नही
                            आवाज़ खिडकियों से,
                            दरवाज़ों की सांकल
                            बंद हैं.... पर आहट है...
                            हुई किसी के आने की,
                            कोई देता नही
                            दस्तक दरवाज़ों पर...
                            पर हवा खड़का रही है
                            दरवाज़े बड़ी देर से,
   
                            बिना कहे आ जायेगी
                            छुएगी हर चीज़.....
                            घर के अंदर घूमेगी.....
                            आयेगी - जायेगी, बहेगी
                            बिना रोक - टोक, शायद
                            देखेगी टेबल क्लॉक की
                            सुईयों को बिना आवाज़
                            घूमते, और समय को
                            बदलते - बढ़ते हुए,
   
                            खुली आँखों से देखती हैं
                            सपने तस्वीरें क्या...
                            रुके हुए अपने वर्तमान की,
                            और हम झांकते हैं
                            उनमे अपना अतीत,
                            पर क्या अतीत भी
                            देगा दस्तक ज़िन्दगी के
                            बंद दरवाज़ों पर.... और
                            समय बढ़ा चला आयेगा...
                            और जायेगा हवा की तरह,
   
                            जाने क्या सोचती होगी
                            हवा भी.... बंद तस्वीरों को देख...
                            रुके हुए समय को या
                            छुट गये कहीं पीछे
                            उस वर्तमान को, जो
                            बन गया अतीत अब!!
   
                            27.12.2016/06:58 शाम,
                            ढेर लग गया
                            बरामदे में शहतूत के
                            पीले पत्तो का...
                            दिन भर झड़ते रहे

                            वो बेआवाज़... और बेपरवाह!!