Thursday, July 20, 2017

तोड़ा हुआ भरोसा बड़ी मुश्किल से जुड़ता है..



                                           चाहत 


                                   चला मैंने बरसों 
                                   अकेले एक रास्ता..
                                   कोई चाहत नही 
                                   कोई उम्मीद भी 
                                   थी नही.... तुम चल 
                                   पाये नही दो भी 
                                   कदम... क्यों?
                                   मेरी नजरें देख 
                                   रही थी बस तुम्हें 
                                   और तुम देखते 
                                   मेरी सारी दिशायें
                                   मेरे पीछे और 
                                   मेरे साथ को....
                                   और छोड़ के मेरा
                                   साथ बिना कहे 
                                  तुम चले गये...
                                  किसी और के साथ...
                                  आज भी तुम क्या 
                                  चाहते हो....और क्यों 
                                  नही तुम खुद ही 
                                  चलते वो दो कदम....
                                  और क्यों नही करते 
                                  एक बार कोशिश फिर से..
                                  दोस्ती निभाने से पहले 
                                  निभाना साथ चाहिये....
                                  बिन कहे सुनने वाला 
                                  दिल चाहिये... खुशी में 
                                  दुनियाँ के आगे करने 
                                  वाला और दुःख में 
                                  सबसे छुपा कर 
                                  सम्भालने वाला साथी 
                                  होना चाहिये....
                                  चलो कुछ कदम 
                                  कुछ पल तुम भी 
                                  अकेले... देखो, करो 
                                  महसूस उस उदासी को...
                                  अकेलेपन को... कोई याद 
                                  खींच लाये जब तुम्हें 
                                  मुझ तक... फिर पलट कर 
                                  देखना मत... बस चले आना..
                                  ज़िन्दगी करती है सदियों का 
                                  सफ़र.... आकाशगंगा के 
                                  एक किनारे से दूसरे किनारे तक,
                                  फिर जाने मिले या न मिले 
                                  और करें सदियों तक हम 
                                  जन्मों का अंतहीन सफ़र!


                                 20.07.2017/ 10:00 रात 
                                बीत रही है जाने क्या कहते हुये..
                                

Sunday, July 16, 2017

क्या मिलोगी फिर से एक बार फिर एक और जन्म में...


                                  जन्म 

                                जब भी लौटती हो 
                                तुम... बारीश से बने 
                                झरने की तरह 
                                हर बार मेरा होता है 
                                जन्म दोबारा... सुनता हूँ 
                                मै अपनी ही धडकने 
                                तुम्हारी धडकनों के साथ...
                                तुम हवा की लहरों सी 
                                बहती हो मेरी साँसों में 
                                और मै आँखें बंद कर 
                                करता हूँ तुम्हें महसूस 
                                अपने ही सीने में... और 
                                तुम्हारी साँसे करता हूँ 
                                महसूस अपने चेहरे पर...
                                आईना बना के तुम्हारी 
                                आँखों को सुनता हूँ मै 
                                हर पल अपनी उम्र...
                                और तुम देखती हो 
                                मेरी नजरों में अपनी 
                                हँसी और मेरा दिल,
                                काँपते हाथों को थामें 
                                हम चलेंगे उम्र के इस 
                                पल से आख़री पल तक...
                                क्या मिलोगी फिर से 
                                एक बार फिर एक और 
                                जन्म में.... कहीं किसी दिन 
                                किसी दूसरे रूप में...
                                और देखोगी वैसे ही 
                                पलट कर... और बहोगी 
                                बारिश में बने झरने जैसी...
                                होगा मेरा फिर जन्म 
                                ऐसे ही हर बार की तरह!

                                16.7.2017/ 03:30 सुबह 
                                आ रही नींद को 
                                क्यों भगा रहा है दिल...
                                बंद दरवाज़े और खिड़कियाँ...
                                फिर जा कहाँ रहा है दिल...

Friday, July 14, 2017

सपने जो फूटते हैं और बनतें हैं नींद की गहराइयों में



                                   सपने
  
                          जब सपने सच बन 
                          सुबह खिड़की से झांकते हैं.... 
                          और तुम बढ़ा कर 
                          हाथ अपना लिखते हो 
                          हवाओं के झौकों में   
                          हर बार अलविदा.... फिर 
                          और तेज़ी से लौटते हो 
                          मेरी तरफ..... हंसते हुए 
                          वो पल थाम लेना.... 
                          क्योकि लौटेंगे नही वो 
                          फिर कभी..... देख 
                          न पाओगे तुम कभी 
                          फिर यूं छुपकर.... 
                          जिसे तुम चाहते हो छूना 
                          चाहते हो देखना सपनों में... 
                          सपने जो फूटते हैं और 
                          बनतें हैं नींद की गहराइयों में, 
                          जागते ही बीत जाते हैं..
                          करवट ले बंद कर आँखें 
                          एक बार फिर से देखने की 
                          चाह रोक न पाया मन....
                          बुलबुले फूटने लगे नींद में 
                          सपनों के..... और तुम 
                          पाँव रख उन बुलबुलों पर 
                          तैरती...हँसती....गाती रही 
                          यहाँ से वहाँ देर तक.... 
                          आयेंगी सर्दियां धीरे-धीरे 
                          जायेंगी गर्मियां धीरे-धीरे... 
                          मौसम जा कर लौटेंगे, पर 
                          क्या लौटेंगे लोग फिर से 
                          वहीं...... जहाँ बस अब हवा 
                          बदलते मौसम और बीतते 
                          समय के सिवाय कोई नही... 
                          हवा से उड़ते पत्तों का खेल.... 
                         और खामोशी का संगीत फैला है  
                          बस और कुछ भी नही....! 

                           7.12.2016/05:00 शाम 

Sunday, July 9, 2017

"The whole world is like a perfect museum, it's only on you that you want to be exhibitor or be the exhibited." rin


                 No song remains...

               When the wind sigh slowly 
               and chimes stop singing..
               I free you my love..
               it was my fault, 
               my hands were small and feeble,
               not your heart..!   rin 

Friday, July 7, 2017

"living in an illusion is also a kind of an illusion." rin

              
एक पुरानी कविता की लाईनें ऐसे याद आ रही हैं जैसे छोड़ कर जाते हुए घर को उसके बागीचे में लगे पेड़-पौधे आख़री बार एक बार  फिर से देखने का मन करता है! खाली कमरों और उनके खिड़की-दरवाज़ों, यहाँ तक बिखरे कागज़ के टुकड़ों तक को उठा कर पढ़तें हैं, जाने किस ख्याल में!!
               

                              ....उम्र के साथ 
रंग ढलती तुम्हारी 
आँखों की पुतलियों मे....
मैने देखा है 
अपना चेहरा मुस्कराता हुआ,

तुम्हारे चेहरे की लकीरों मे
मैने देखा है गुजरते 
समय को, और 
तुम्हारी परछाई में 
देखी है अपनी परछाई,....



                 
             

One sided love always like an optical illusion...



                                   It's only sand and dunes
 
                   One sided love always 
                   like an optical illusion...
                   You see an oasis 
                   and you run towards it, 
                   and the more you run 
                   towards it.. the more 
                   you get disappointed.
                   It's only sand and dunes!! rin

Monday, July 3, 2017

कहानियाँ बनती हैं



अठाहरवीं मंजिल 
  

'तुम अँधेरे में क्यों चलती हो?'
अचानक अँधेरे में किसी को आता देख उसने पूछा!
'मुझे पसंद है, और मुझे ठंडक मिलती है!' वह बोली!
'पर अँधेरे में तुम्हारी पाजेब की आवाज़ मुझे क्रीपी फीलिंग देती है!'
वह उसकी पाजेब की आवाज़ याद करता हुआ बोला!
'पर मुझे ये आवाज अच्छी लगती है!' वह वैसे ही बोली!
'पर तुम नंगे पाँव क्यों चल रही हो?' उसे स्लीपर की कोई आवाज 
नही सुनायी दी तो उसने पूछ! उसे लग रहा था वह कमरे में यहाँ से वहाँ 
घूम रही है, पर क्यों? उसे परेशानी हो रही थी!
'मुझे अच्छा लगता है, ज़मीन की ठंडक मुझे अच्छी लगती है!' वह फिर 
उसी तरह बोली!
'तुम्हारे घर में कोई तुम्हारे जैसा नही है!' वह बोला!
'क्योकि यहाँ मेरे सिवाय कोई पाजेब नही पहनता!' वह फिर वैसे ही बोली!
'कोई भी नही?!!' अब वह हैरान था, इतने बड़े घर में कोई नही पहनता!
'हाँ, कोई भी नही, क्योकि यहाँ सिर्फ मै ही रहती हूँ और कोई नही!' 
वह अजीब तरह से बोली तो वह डर गया और चौक कर बोला-
'लाइट ऑन करो!' वो घबरा गया था! वो तो अपने दोस्त के घर आया था और उसके घर में तो ढेर सारे लोग रहते हैं, एकदम जम्बो जेट जितनी बड़ी फॅमिली! 
'लाइट काम नही कर रही है!' वह फिर उसी टोन में बोली!
'पर बाहर तो कॉरिडोर में लाइट है!' वह कहते-कहते खड़ा हो गया!
'ऐसा है तो जाओ चेक कर लो!' वह थोडा करीब आ कर बोली, पर अँधेरे की वजह से वो उसका चेहरा देख नही पाया! वह तेजी से उठ कर बाहर आ गया!
बाहर लाइट थी! अचानक उसकी नज़र लिफ्ट के डिस्प्ले पर पड़ी और वह 
हैरानी से देखने लगा! और सोच में पड गया!
'18वीं मंजील! मुझे तो बारहवें फ्लोर पर जाना था और मैंने बटन भी बारहवे नम्बर का दबाया था, तो...क्या मै बाहरवे पर हूँ और ये लिफ्ट 18वें फ्लोर पर है... क्या है ये... जहाँ तक मुझे पता है तो इस अपार्टमेंट्स में 18वीं मंजील नही हैं तो.... तो....??' वह चौंका और उसने कुछ कहने के लिए पीछे पलट कर देखा तो बुरी तरह वो डर गया! और वह तेजी से सीढियों से नीचे की तरफ दौड़ने लगा! वह दौड़ते-दौड़ते सोच रहा था की.....
'ये कैसे हो सकता है... ये कैसे हो सकता है.... पूरा का पूरा फ्लोर ही नही है... कोई फ्लैट नही था वहां... मै कहाँ आ गया हूँ.... वो कौन थी....!'
वह सोचता हुआ नीचे की तरफ दौड़ा जा रहा था! जाने कितनी सीढियाँ वो एक साथ कूद जाता था वो बीच-बीच में! दौड़ते-दौड़ते उसे महसूस हो रहा था की कोई और भी उसकी पीछे दौड़ रहा है! उसे अब साफ-साफ पाजेब की आवाज सुनायी दे रही थी! वह बुरी तरह डर गया था! वो पागलों की तरह नीचे तरफ दौड़ने लगा और उसके पीछे कोई ओर भी उसी रफ्तार से 
दौड़ रहा था! ग्राउंड फ्लोर आते ही वह बाहर की तरफ भागा! पर बाहर पहुच वह और हैरान हो गया!
'मै कहाँ हूँ? ये कौन सी जगह है? ये कैसी सी जगह है?' वह अपने आप से बोल रहा था! 
तभी उसे पीछे वही पाजेब की आवाज सुनायी दी और उसने पीछे पलट कर देखा और वह बुरी तरह डर गया और चीख पड़ा -
'तुम कौन हो और मेरे पीछे क्यों पड़ी हो?'
'मै तुम्हे चाय देना भूल गयी थी... तुम मेरे घर पहली बार आये... बिना चाय पीये कैसे जा सकते हो...मै तुम्हारे लिए चाय लायी हूँ.... लो पीयो!' 
उसने अपना हाथ बढ़ाया! वो सिर्फ़ उसका बढ़ा हुआ हाथ देख पाया और डर कर बोला-
'नही, मुझे कोई चाय नही चाहिए, मुझे जाने दो!'
अचानक अन्धेरें में दो हाथों ने उसे पकड़ लिया और उनकी जकड़ कसने लगी! वो डर कर चीखा-
'मुझे छोड़ दो... प्लीज़ मुझे मत मारो!'
वो बुरी तरह हिलने लगा और किसी की आवाज़ से उसे साफ़-साफ दिखने लगा! 
'कितनी बार तुमसे कहा है की लेट नाईट डरावनी फ़िल्में मत देखा करो.... किसी दिन मै तुम्हारा ये डब्बा छुपा दूंगी...देख लेना, हाँ नही तो!!' 
'ओह! सपना, तुम, थैंकस सपना, अच्छा हुआ तुमने मुझे जगा दिया!' एकलव्य बोला और गहरी सांसे लेने लगा!
'अच्छा-अच्छा ठीक है, अब तुम जल्दी से तैयार हो जाओ... लेट हो रहे हो फिर से तुम आज भी!'
सपना कमरे से बाहर जाती हुई बोली! सपना की पाजेब की आवाज़ सुन एकलव्य को अपना सपना याद आ गया और वह कूद कर पलंग से नीचे आ गया और रेडिओ ऑन कर नहाने चला गया! गाने के बोल सुन उसने थोडा सा दरवाज़ा खोला और बंद कर दिया और गाने के साथ-साथ गाता वह नहाने लगा-
डर लगे तो गाना गा.... डर लगे तो गाना गा....

Wednesday, June 28, 2017

आये कोई चुपके से पीछे से... और रखे मेरी हथेली में बारिश में भीगा अपना चेहरा.



                                       कोशीश 

                                जाने कितने बीत गये 
                                बरस... तुम्हें सोचते.. 
                                देखते.... और तुम 
                                वही.... कुछ तो 
                                आता फर्क तुममे 
                                ये सोच कर...अब 
                                क्या मै करूं.. जाऊं 
                                के रहूँ... तुम तो 
                                बिलकुल भी नही 
                                बदले..... तुम क्या 
                                यूं ही दुखाओ दिल 
                                मेरा हरपल...ऐसे ही... 
                                हर बार जब... जब भी 
                                मै कहूँ तुमसे चलो 
                                मिलते फिर से...एक बार 
                                करते है कोशीश.. फिर से,
                                कभी करता है मन तुम्हारा
                                रोने का लग के गले मेरे...
                                या हँसने का थाम कर 
                                हाथ दोनों मेरे और दौड़ने का 
                                होती इस बारीश में... जो 
                                भीगो रही है अभी भी 
                                इस शहर को.... हर कोना 
                                हर लम्हा... और हम अकेले 
                                रूठे हुए, जाने किस बात पर 
                                दूर, बहुत दूर अपनी ही 
                                लिखी कहानियों में गुम...
                                कभी करता है मन ये 
                                कहने का फोन पर 
                                मै तुमसे हूँ बहुत गुस्सा...
                                तुम बात क्यों नही करती मुझसे...
                                सारी दुनियां में मै ही हूँ 
                                जिससे करती नही तुम अब बातें..
                                क्या तुम चाहते हो उठाऊं 
                                मै तुम्हारे सारे नाज़ो नखरे..
                                तो फिर रूठ कर एक बार 
                                मुझसे कहो तो पहले..!!


                                28.06.2017/ 03:15 दोपहर 
                                बाद कोई तो बात होती...
                                और आये कोई चुपके से 
                                पीछे से... और रखे मेरी हथेली में 
                                बारिश में भीगा अपना चेहरा... 


Tuesday, June 27, 2017

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते, दुनिया की इनायत है के हम कुछ नहीं कहते


                                 
                                    फुलचुकी


                                 जब भी देखती हो 
                                 तुम यूँ  मुड़-मुड़ कर 
                                 उठाती फूल धीरे-धीरे 
                                 फैले हैं वो ज़मीन पर 
                                 जाने कब से.... शायद 
                                 शाम से... या आज सुबह 
                                 बिखरा गई हवा उन्हें 
                                 अपने रोज ही के न 
                                 खत्म होने वाले खेल में,
                                 फिर हंसती हो, वैसे ही 
                                 पलट-पलट कर देखती 
                                 तुम.. शरारत का बादल 
                                 बन बरस जाओगी क्या.. 
                                 जब भी पूछूंगा तुम से 
                                 मै....'ऐसे क्या हो देखती 
                                 तुम, यूं पलट-पलट कर 
                                 हर बार..जब भी उठाती
                                 हर एक फूल.. बोल न 
                                 मेरी..' आगे न कह सका 
                                 और तुम हंसने लगी 
                                 और ढेर फूलों का,मुझ
                                 पर तुमने उछाल दिया..
                                 कहते हुए..हंसते हुए...
                                 'ओह हो... अच्छा जी.. 
                                 मेरी... मेरी...' तुम्हारी 
                                 मिचमिचाती आँखें और 
                                 न खत्म होती बातें और 
                                 गुनगुनाहट.... मेरी पलकें 
                                 भारी होने लगी हैं... क्या 
                                 तुम सपनों में भी जगाओगी 
                                 यूं ही बिखेर कर मुझ पर 
                                 ढेर सारे फूल... तुम मेरी.. 
                                 सिर्फ मेरी...फुलचुकी!!                                         


                                27.06.2017/ 04:10 शाम 
                               आज फिर लौट आये बादल 
                               और तुम झूलते टहनियों से.. 
                               सोचते बारिश को हर पल..  

Wednesday, June 21, 2017

No remorse left in my soul


                                          The longest day

               The longest day of the year
                started from yesterday
                and has not ended yet...
                am I maverick 
                or pretending to be someone 
                that I am not..
                no remorse left in my soul
                I am free from every pain..!  rin
                 
                21.06.2017/ 07:26 p.m.
                





Tuesday, June 20, 2017

कुछ फूल थे जो मुरझा गये और कुछ रंगों में बदल गये



                             फूल थे....जो मुरझा गये 


                          मुड़ कर देखने की चाह को 
                          रोक कर... कदम आगे गये 
                          बढ़ते... मेरे साथ देखती 
                          तुम्हें कई और भी आँखें..
                          बचाने के लिए उन आँखों से 
                          दिल को रखा दिमाग के 
                          काबू में... पर आसूँ रहे न 
                          काबू और कदम बिना मुड़े 
                          आगे बढ़ते गये... जब कभी 
                          मिले अनजान से...मेरी आँखें 
                          जब भी देखें तुम्हारी आँखों में... 
                          याद रखना तुम दिल में अब भी 
                          रहते हो वहीं.... जहाँ एक जगह 
                          एक दिन दी थी तुम्हें... कुछ 
                          यादों और बातों के साथ 
                          कुछ फूल थे....जो मुरझा गये 
                          और कुछ रंगों में बदल गये!!

                           19.06.2017/ 05:20 शाम 
                           साथ रहता है दिन भी नही,
                           ज़िन्दगी के उजाले भी 
                           डूब जाते हैं... पर रहेंगे 
                           किसी की यादों में हम.. 
                           और करेगा कोई बातें 
                           तस्वीरों से हमारी...!!

Saturday, June 17, 2017

Oblivion

       

           "The course of true love never did run smooth." 
          "A Midsummer Night's Dream" by William Shakespeare


Monday, June 12, 2017

मेरी आँखें देखती रहेंगी तुम्हे ऐसे ही सदा... दूर से भी हर-पल



                                 मेरी जगह


                      वो रो पड़ी लगते ही गले, और 
                      आँसू बह रहे थे उसकी भी आँखों से...
                      'तुम रो रहे हो?'
                      'नही तो!'
                      'शायद भीग गये बारिश में!!'
                      'हाँ, शायद... दोनों ही भीग गये..
                      तेज़ थी बारिश और कुछ न रहा 
                      याद देख तुमको!!'
                      'क्या हम यूँ ही रहेंगे भीगते..
                      होती ज़िन्दगी की तेज़ बारिश में!!'
                      'नही, शायद अब नही... या तो 
                      जाने दोगे या फिर बढ़ कर लोगे 
                      थाम... न जाने के लिए!!'
                      वो सोच रहा था... 
                      वो सोचता रहा...
                      ज़िन्दगी कर रही थी हैरान, और 
                      दूर और पास की दुनियाँ कर रही थी 
                      परेशान.... वो गुम सा हो गया,
                      यूँ गुम देख उसे, वो चुपचाप 
                      रही देखती.. फिर धीरे से बढ़ा 
                      हाथ छुआ उसकी ठोड़ी को 
                      धीरे से.. और हंस पड़ी..
                      'अच्छा, बस यहाँ इन होटों 
                      और इस ठोड़ी के बीच है 
                      मेरी जगह ... और कुछ भी नही 
                      चाहिये... नही बढ़ानी तुम्हारी 
                      उलझन.. उस शोर का नही 
                      बनना हिस्सा जो करता है तुम्हें 
                      हर पल बेचैन... और कुछ नही 
                      कहना... न चाहना कुछ और!'
                      और वो चली गयी....कहते हुए-
                      'मेरी आँखें देखती रहेंगी तुम्हे 
                      ऐसे ही सदा... दूर से भी 
                      हर-पल..... मुझे पाओगे अपने 
                      ख्यालों में, अपने पास....बस सोचना 
                      मुझे और मेरी जगह!!'

                      12.06.2017/ 07:00 शाम, 
                      तुम और मै 
                      न बन पाये कभी हम..
                      किसी राह के 
                      मोड़ से, और बस 
                      एक दिन मुड़ गये 
                      और बन गये दो राह 
                      और हो गये दूर और गुम!!

Sunday, June 11, 2017

वो चिठ्ठी कहाँ भेजूँ!!



                                   चिठ्ठी 


                          वो चिठ्ठी कहाँ भेजूँ.. 
                          जिसका पता मुझे याद नही,
                          बंद लिफ़ाफा वैसे ही 
                          बरसों से... खोला ही नही, 
                          क्या था लिखा... कुछ अधुरा 
                          और कुछ पूरा.... अब कुछ 
                          याद नही.... धुंधला सा भी नहीं, 
                          लिखे हुए हो गये उसे 
                          साल कई... पढ़ना चाहती हूँ  
                          उसे हर रात.... हर रात उसे 
                          बस अकेले में छुपाके.. 
                          नींद की गहराईयों में 
                          डूबकर... पर अपने 
                          सपनों से भी छुपाकर,पर... 
                          वो चिठ्ठी कहाँ भेजूँ!! 

                          11.06.2017/ 06:00 सुबह 
                          अचानक टूट गयी नींद 
                          देख तेरी भीगी पलकें..
                          ऐसा तो न चाहा था कभी..
                          देखूँ तेरे आँसू अपने ही 
                          गालों पर... अब करता है 
                          दिल... दूर भाग जाने का!

Thursday, June 8, 2017

मैंने कहा और तुम समझे नही, तुम चुप रहे और मै समझ गयी


                                     
                            तेरा - मेरा साथ


धूप अभी ढली नही थी, मगर तेज़ भी नही थी और हवा चल रही थी! उमस थी थोड़ी बहुत! पन्ना ने घड़ी में टाइम देखा तो वह पूरा पैतालीस मिनट लेट थी! वह लगभग दौड़ रही थी, मगर कनाट प्लेस की भीड़ ढंग से चलने नही देती कभी-कभी तो भागने क्या देगी! 
....आज तो बेक हो गया होगा मेरा बंटू... ऊपर से उसका जो छोटे बच्चों जैसा आलूबुखारे जैसा मुहँ बना होगा वो अलग.... पन्ना तेज़ चलते चलते सोच रही थी! उसे दूर से ही तपन दिख गया था! वो धूप में खड़ा था, यह देख पन्ना को हैरानी हुई!
'मुझे लगता था ये यूँही कहता है मगर ये सच में मुझसे ज्यादा पागल है... ' पन्ना अपने आप से बोली!

पन्ना को देख तपन मुहँ फेर कर बैठ गया!
'अरे अभी तो तुम सियाचिन बॉर्डर पर तैनात संतरी की तरह खड़े थे.. और मुझे देखते ही मुँह बना कर संतरे की तरह बैठ गये?' पन्ना ने हंसते हुए पूछा! 
'ड्यूटी खत्म हो गयी!' वैसे ही मुँह बनाये हुये तपन बोला!
सुनते ही पन्ना जोर से हंस पड़ी! पर तपन, वो तो बस मुँह फेर कर बैठा रहा! 
'ओ फूल, ले फ़ूल, ओ टिन के डब्बे.... अब क्या तुम्हें गुदगुदी की जाए!' पन्ना ने अपने दोनों हाथ बढ़ाए तो तपन चौंक गया! उसकी आँखे फ़ैल गयी, जिसे देख पन्ना फिर जोर से हंस पड़ी!
'ले न... बन्दर के बच्चे!' पन्ना फिर बोली!
'अच्छा दो!' तपन ने फ़ूल ले लिया!
'अरे ये बुका मार कर क्यों बैठे हो....देर से आयी इसलिए!' पन्ना बोली!
'हाँ, मै तो बुका मार के बैठा हूँ.... वहाँ तो ये बड़े (अपने हाथों को फैला कर) हाथी के बराबर बूके दिए जाते हैं लोगों को... और मुझे ये.....ये एक फ़ूल!' तपन कभी-कभी लडकियों जैसे शिकायत करता था और पन्ना को ये बहुत अच्छा लगता था!
'अरे, तुमको कैसे पता? तुम थे वहाँ?' पन्ना ने वैसे ही मुस्कराते हुए पूछा!
'हाँ... सब देखा मैंने!' तपन वैसे ही मुँह बनाये हुये बोला और पन्ना ने सुनते ही उसके दोनों कानों को पकड़ लिया और चेहरे को अपने चेहरे के करीब लाकर वो बोली-
'ओह, अच्छा, तो तुम जेलस फील कर रहे हो!'
तपन ने अपने कान छुडाये और बोला-
'जेलस!अरे वो कद्दू क्या तुम्हें इतना प्यारा है?'
पन्ना को अब बहुत मजा आ रहा था, उसे तपन की लडकियों जैसी नौटंकी  बहुत अच्छी लगती थी! वो वैसे ही हंसती हुई बोली-
'अरे, उसकी फिल्म को अवार्ड मिला है और हम दोनों एक ही फील्ड के हैं तो.. उसने कहा कि ट्रीट देना चाहता है, बस!'
'बस! अरे ये अपनी माँ..!' तपन की बात पूरी होने से पहले ही पन्ना ने उसे चौंक कर टोका-
'ओ, क्या बोल रहा है!' 
'पूरा तो बोलने देती नही... मै बोल रहा था कि ये अपनी माँ-बहनों को ट्रीट क्यों नही देते? इन्हें दूसरों की माँ-बहने ही क्यों याद आती हैं ट्रीट देने के लिए!' तपन चिढ़ता हुआ बोला!
पन्ना ने तपन की ठोडी को धीरे से छुआ ओर बगल में बैठती हुई बोली -
'अच्छा, पर जब तुम कुछ अचीव करते हो तो तुम भी तो ट्रीट देते हो!'
सुनते झटके से तपन पन्ना की तरफ पलट कर बोला -
'हाँ, पर हम तुम तो पक्के साथी हैं!'
'कहाँ के पक्के साथी? तुम्हे तो इतना बड़ा बूके देख परेशानी हो रही है!' पन्ना आसमान की तरफ देखती हुई बोली!
'फिर भी सोचो.. ये..ये एक फ़ूल!' तपन फ़ूल को उलटता पलटता हुआ बोला!
'तुम सारा टाइम गुलदस्ता पकड़े रहना चाहते हो?' अभी भी पन्ना आसमान की ओर देख रही थी!
तपन ने पन्ना की तरफ देखा और उसका चेहरा अपनी तरफ किया और पूछा-
'क्या मतलब?'
पर पन्ना फिर आसमान की तरफ देखने लगी, तपन ने भी फिर ऊपर देखा! 
'ओ, मै यहाँ हूँ बार-बार आसमान की तरफ क्या देख रही हो?' तपन ने पूछा!
'बारिश होने वाली है.... तू नाजुक सा भीग न जाए ये सोच रही हूँ.... अच्छा तुम क्या पूछ रहे थे, हाँ, ऐसा हुआ कि भाईसाहब फोन पर बड़े रोमांटिक हो  रहे थे... रोमांटिक शेर मार रहे थे, इसलिए मै उनके लिए ज्यादा घास और कम फ़ूलों वाला गुलदस्ता ले गई... कॉफ़ी होम में बुलाया.. जहाँ बड़े-बूढ़े घंटो.-घंटों बैठे रहते हैं ..... मैंने फोन पर बहुत टाला था मगर माने नही... मैंने कहा  कि सिर्फ बुधवार को ही मै फ्री होती हूँ.... उस दिन मुझे घर के लिए ग्रोसरी शोपिंग करनी होती है.... आप क्या करेंगे .... बहुत सामान होता है.... पर नही, वो तो माने नही, बोले.... हम किस लिए हैं, हम 
सामान उठा लेंगे... वगरह-वगरह, तो जी ,ये बड़ा गुलदस्ता और ढेर भर थैले थमा दिए मैंने उन्हें....धूप में यहाँ से वहाँ घूमाया, सारा रोमांस निकाल दिया... क्या समझा!' पन्ना ने तपन की ठोडी पर एक छोटा सा पंच किया! 
'ओह तो भाईसाहब को सूझता था रोमांस तो किसी बहनजी को साथ ले जाना था न शोपिंग के लिए!'तपन ने कहते हुए पन्ना का हाथ पकड़ लिया!
'तू  है न मेरी सहेली, चल गधा कही का....छोड़ हाथ नही मारूँगी!' पन्ना हाथ छुड़ाती हुई बोली!
'सारी दुनियाँ यही कहती है!' तपन हाथ छोड़ता हुआ बोला!
'चल नही तो खायेगा घूंसा!' पन्ना बोली!
'फिर भी एक फ़ूल!!' तपन फिर वही बोला!
'तुम सारे टाइम अगर गुलदस्ता पकड़े रहना चाहते हो तो मै तुम्हारे लिए भी हर बार बड़ा सा गुलदस्ता लाऊँगी!' कहते हुये पन्ना ने तपन का चेहरा अपनी तरफ किया और खडी हो गयी!
'क्या मतलब है इस बात का?' पूछते हुए अभी भी तपन का मुँह बना हुआ था!
'तुम्हारा मेरा हाथ पकड़ने का या मुझे गले लगाने का दिल नही करेगा.... साथ चलते-चलते...यूँही... बस ऐसे ही.... यू इडियट!' पन्ना ने कहते कहते तपन के सर की चम्पी कर दी!
'तेरा क्या भरोसा..... यहाँ गले लगाया वहाँ घूंसा पड़ा!' तपन अपने बाल ठीक करता हुआ बोला!
'अब यहाँ से चलता है या नही!' पन्ना तपन को कंधे से हिला बोली!
'अच्छा चल!' तपन खड़ा होता हुआ बोला!
'पहले लगायेगा गले?' पन्ना ने हँसते हुए पूछा!
'पागल है क्या?' तपन झेपता-हंसता हुआ बोला!
'हाँ!' अपनी दोनों बाहें तपन की गर्दन पर लपेटते हुए पन्ना बोली!
'ठीक है...चल आ..बुद्धू!' तपन हँसते हुए बोला!
गडगडाहट के साथ अचानक बारिश शूरू हो गयी!
'देखा, दो मिनट पहले गले नही लगा सकता था!' पन्ना बारिश से बचने के लिए तपन का हाथ पकड़ शेड की तरफ जाते हुए बोली! पर तभी अचानक-
'यहाँ... सीधे यहाँ खडी रहो!' तेज बारिश के बीच तपन ने पन्ना को खड़ा कर दिया, पन्ना उसे हैरान देख रही थी!
तभी तपन ने पन्ना को गले से लगा लिया! आसपास से आते जाते लोगों के चेहरों पर मुस्कराहट थी!

दोनों छोटे बच्चो की तरह रास्ते में पानी उछालते घूमते रहे! बारिश भी उस दिन देर तक होती रही!

Tuesday, June 6, 2017

हम जुड़ते हैं सबके साथ अपनी आत्मा की न दिखने वाली डोरों के साथ...


                             आत्मा का रिश्ता 


बारिशों के दिन थे, जब वह पहली बार अपने पिताजी के साथ हमारे 
घर आयी थी! दरसल उसका पिताजी ही उसे हम से मिलाने लाया था!
वो इतनी प्यारी सी छोटी सी थी मानो कोई सॉफ्ट टॉय हो! पर मैंने उसे 
छुआ नही, वजह यह थी कि मैंने अपने एक्सपीरियंस से जाना है कि चाहे 
बर्ड्स हो या एनिमल्स, उन्हें पकड़ना या टच नही करना चाहिये! ख़ासतौर 
पर अगर वो आपके पाले हुये न हों तो! इससे वो ट्रस्ट नही करते, उन्हें 
टाइम देना चाहिये कि वो खुद पास में आयें! शुरू से ही कोई न कोई
 बिल्ली हमारे किचन की खिड़की की मालिक रही है! और वह जगह
 छोड़ने से पहले वह अपनी जगह अपने बच्चे को दे देती है! सबसे पहले
 जो प्यारी सी बिल्ली आयी उसका नाम मैंने 'लैला' रखा था, उसका नाम 
 बस लैला पड़ गया पर वो फीमेल नही मेल कैट था!!सोचो एक टॉम कैट 
 का नाम गलती से लैला हो तो!! बुरी बात है राधा... बहुत  ही अजीब बात!! 
 पर क्या करते वो जब छोटा सा था तब वह आया था और बड़ी अकड के 
 साथ खिड़की पर बैठ कर डिमांड करता था! खैर छोडो अब बात कही 
 से कही पहुँच जायेगी, न मालुम बिल्लियों के न्यूज़ पेपर तक, उनकी कोर्ट 
 तक! चीख चीख कर बिल्ली वर्ल्ड के न्यूज़ चैनेल कह रहे हो..........
'मियांऊ  मियांऊ  मियांऊ  मियांऊ  .....गौर से देखिये इस इंसान..जो भी 
है को... ये औरत बिना देखे जाने हमारे कैसे कैसे नाम रख देती है'....
खैर ऐसा कुछ नही हुआ, पर लैला नाम बदला नही जा सका! उसे अपना 
नाम शायद पसंद आया! मैंने इतना डिसेंट बिल्ला आज तक नही देखा, अरे बिल्ला तो क्या बन्दा भी इतना जेंटलमैन नही देखा! वो जैसे जैसे बड़ा हो रहा था उतना ही रोबदार और खूबसूरत होता जा रहा था! फिर एक दिन वो अपने साथ एक अपना छोटा सा बच्चा लाया! हमे दिखाने और शायद उसे वो जगह भी देने के लिए! और फिर मैंने उसका नाम रखा 'मूसी'! होनी को कौन रोक सकता है मैंने फिर वही किया... बिल्ले को बिल्ली वाला नाम दिया, इस बार तो लगा वो पक्का मुझ पर बिल्ली कोर्ट में केस करेंगे..... 'हज़ूर.. माय लार्ड...ये.... ये....ये जो भी है.... ये औरत नही पजामा है, इसे कैसे - कैसे नाम सूझते हैं, इसका कुछ कीजिये हज़ूर, नही तो हमारे सारे आई डी कार्ड्स में आइडेंटिटी क्राइसिस शुरू हो जायेंगे....' ... पर इस बार भी कुछ नही हुआ, खैर मूसी भी बड़ा हुआ, खाता-पीता और आता-जाता रहा, एक दिन वो अपने साथ अपने दो बच्चे लाया, एकदम ट्विन्स जैसे! एक बच्चे की आँखे इतनी मासूम जैसे थी कि मेरे बेटे ने उसका नाम 'मासूम' रख दिया! इस बार नाम सही था, दूसरे का नाम 'मूसा' रखा गया! पर खिड़की की मिल्कियत मिली मासूम को! इन तीन पीढ़ियों में हर पीढ़ी का टाइम पीरियड तकरीबन ओन एवरेज फाइव टू सिक्स  इयर्स रहा! फिर एक दिन मासूम अपने साथ किसी को लाया... बारिशों के दिन थे! वो सॉफ्ट टॉय जैसी छोटी से प्यारी सी बिल्ली... मैंने उसका नाम रखा 'बरखा', और सोचा इस बार गलत न हो! खैर मासूम चार पांच महीनें आता रहा! फिर एक दिन बरखा आयी, सर्दियां अभी बस पहुचने ही वाली थी पर उससे पहले बरखा सुबह सुबह आ गयी, साथ में लेकर अपने बहुत ही छोटे छोटे पाँच बच्चे! मैंने उसे गौर से देखा, उसकी आँखों में एक विश्वास था कि मै उसके बच्चों को अपने उस छोटे से कोर्ट यार्ड से नही हटाऊंगी! मैंने ऐसा ही किया! वो बच्चे जैसे जैसे बड़े होते गये उन्होंने मेरे सारे पौधों की ऐसी की तैसी 
की! पर हमने उन्हें वहाँ खेलने दिया बड़े होने दिया! पर जैसे बारिश हर बार आती है वैसे ही बरखा प्यारी हर फाइव सिक्स मंथस में अपने साथ बच्चा पार्टी लाने लगी! मुझे समझ नही आता था कि कौन से बच्चे को अब खिड़की मिलेगी?? उसका पति 'हरी प्रसाद' क्या सुंदर रोबीला बिल्ला था, था इस लिए क्योंकि काफी टाइम से नज़र नही आया! पर फिर खिड़की मिली बरखा की एक बिटिया 'रौंदी' को! उनके उजाड़े हुए यार्ड में दो तीन बड़े पेड़ पौधों के अलावा अब कोई पौधा नही उगता! मैंने उगाया भी नही, मैंने ये उन्ही के खेलने के लिए छोड़ दिया! गमलों और मिट्टी का ढेर, एक्स्प्लोर करने और एक दूसरे की पीछे दौड़ने के लिए बहुत अच्छा है! मै मेरे आसपास सारे बर्ड्स और एनिमल्स को रेगार्ड्स करती हूँ कि वो मुझ पर विश्वास करते हैं और अपने बच्चे मुझे दिखाने लाते हैं! जैसे आज 
मिस्टर बुलबुल, जिसका नाम मैंने 'बुल्ला' रखा था अपना छोटा सा बच्चा लेकर शहतूत के पेड़ पर आया! इससे दोस्ती हुई थी जब ये मेरे विंड रायिज़र में से हरा और लाल कपड़ा लेने की उसने कई दिन तक कभी अकेले और कभी अपनी बीवी के साथ कोशिश करता रहा, और एक दिन मैंने एक अजीब नज़ारा देखा, मैंने अपने पतीले से कहा देखो ये यूनिक चीज़! एक दिन बुल्ला अपने साथ लाया एक कौवा, उस कपड़े को ले जाने के लिए! ये सच में बहुत ही अजीब बात थी, मैंने अपनी लाइफ में ऐसी काफी सारी अजीब चीज़े देखी हैं पर ये अब तक की यूनिक थी कि एक अलग स्पीशीज हेल्प के लिए आये! पर सोचो बुल्ला उसे क्या कह कर लाया होगा...! खैर वो दोनों मिलकर कोशिश करते रहे पर कुछ नही हुआ! मैंने कई तरह के कपड़े के टुकड़े पेड़ के ऊपर रखे मगर उस बुल्ले को वही चाहिये था! फिर मैंने उसे एक लाल रिब्बन दिया, वो शायद बहुत खुश हुआ कि उसने ऊँची आवाज़ की और रिब्बन लेकर उड़ गया! आज वो अपना बच्चा बीवी समेत आया! हम जुड़ते हैं सबके साथ अपनी आत्मा की न दिखने वाली डोरों के साथ! जिनसे हमारी डोरें मजबूत जुड़ती हैं वो जन्मों तक बंधी रहती हैं चाहे वो इंसान हो या कोई और स्पीशीज!




Sunday, June 4, 2017

आखिर भाग ही आये तुम मौन


                                  शब्द जाल 

                            शहर, सडकों गलियों 
                            बिल्डिंगों और लोगों का 
                            बुना जाल नही, शब्द जाल है, 
                            शब्दों का जाल है... होते हैं 
                            शहर शब्दों के जाल, 
                            शब्दों में बुने नाम हैं
                            कई अनगिनत लोगों के...
                            सडकों के.... दोराहों के...
                            तीन राहों के... चौराहों के...
                            और सबके, नाम नही होता तो...
                            क्या करते.... कैसे रहते....
                            कहाँ जाते? भटक जाएँ 
                            जो किसी जंगल में तो...
                            देवदार के ऊंचे लम्बे 
                            खड़े पेड़ों वाला जंगल... 
                            क्या कहोगे!! चौथे पेड़ से 
                            दायें मुड जाना.. या फिर 
                           आख़री पेड़ के आगे जाता है 
                            रास्ता शहर को.... पर 
                            ये भी तो शब्द हैं.... पहला,
                            दूसरा, चौथा और आख़री,
                            आखिर में क्या है बचता 
                            'एक नीरव मौन'.... जो 
                            फसता नही किसी शब्द 
                            जाल में... न चाहता है भटकना..
                            फिर से किसी भी शब्द जाल में,
                            घेर न ले फिर सब 
                            चाहता है भाग जाना 
                            चुपके से, पर जाएगा 
                            कहाँ ये नीरव मौन,
                            घेर ही लेंगे फिर सब 
                            कहीं न कहीं.... कहेंगे 
                            'आखिर भाग ही आये 
                            तुम मौन.... बुद्ज़िल 
                            मौन.... डरते रहे हो तुम 
                           और रहोगे डरते.... तुम 
                           सीख क्यों नही लेते बोलना,'
                           फसा रहा था शब्दों का 
                           जाल.... डर गया मौन और 
                           फिर चीख ही पड़ा..... नही!!

                           26.03.2017/ 03:54 शाम 
                           सोचता रहा दिन.... कि 
                           किसी दिन मिलूंगा रात से