Friday, October 21, 2016

एक दिन नया पता भी हो जायेगा पुराना


                             एक पुरानी चिठ्ठी का जवाब
           
           
                            एक पुराने पते पर
                            नई चिठ्ठी मिली.... लिफ़ाफे पर
                            भेजने वाले का
                            कोई नाम नही था,
                            पुराना घर छोड़े
                            बरसों बीत गये.... पता भी
                            वहीं छूट गया, पर
                            आज चिठ्ठी मिली,
                            पहले हरकारे चिठ्ठियाँ
                            थमा जाते थे..... आज
                            पुराने पड़ौसी, पुराने घर की
                            चिठ्ठियाँ दे जाते हैं......
           
                            'आप की चिठ्ठियाँ मिली,
                             तेईस साल पहले लिखी कहूँ, या
                             कहूँ तेईस साल बाद मिली.....
                             भारत छोड़ मेरे माँ-पिताजी
                             नार्वे में बस गये थे..... फिर
                             वहीं वे उजड़ गये, और
                             अलग-अलग हो गये.... आपने
                             जब देखा था मुझे... 
                             मै पांच साल का था.... लौटा तो
                             माली ने सारी चिठ्ठियाँ थमा दी....
                             उनमे आपकी तीन चिठ्ठियाँ भी थी...
                             आप मेरे माँ-पिताजी दोनों की
                             दोस्त हैं...... इसलिए आपको
                             सबसे पहले जवाब देना समझा
                             जरूरी मैंने..... क्या मै आज भी
                             आपको कह सकता हूँ "बूसी", यही
                             तो कहता था मै आपको..... बूसी,
                              बुआ और मौसी का एक
                              शार्टकट नाम .... बूसी,
                              आपका दिया एयरप्लेन
                              आज भी मेरे पास है.....
                               शादी हो गयी है मेरी, और
                               एक बेटी है दो साल की...
                               जिसे मै पूकारता हूँ
                               प्यार से "बूसी", जाने से पहले
                               चाहता हूँ मिलना.... अगर आप
                               चाहे तो..... सादर, आपका
                                लैम्पपोस्ट'..........
                                

                                चिठ्ठी खत्म हो गई और
                               अतीत से वर्तमान में लौट आया
                                मन...... "लैम्पपोस्ट"..... हाँ यही तो
                                दिया था नाम...... उसकी आँखे इतनी
                                चमकीली की थी की मै उन्हें देख 
                                हैरान हो हंस पड़ती थी और कहती...
                                "लैम्पपोस्ट".......... खेल-खेल में
                                चारो ओर लगाता चक्कर.....
                                छोटा सा मोटा सा वो लैम्पपोस्ट...
                                आज जाने लगता होगा कैसा.....
                                बूसी - बूसी पूकारता....  बाहें फैला
                                घर भर में दौड़ता.... शोर मचाता
                                "ये लैम्पपोस्ट एयरप्लेन है"......
           
                                 पूराने - पते, नये - पते,
                                 पुराने - यादें, नयी - यादें,
                                 कुछ भी फर्क नही
                                 बस तारीख बदल गयी.... 
                                 लोग बदल गये.... साथ
                                 जगह भी..... पर अहसास वही थे,
                                 गहरे, और गहरे.....  धुंध की तरह फैले,
                                 कोई छोर नही उनका
                                 जिसे थाम चला जाये 
                                 या रुका जाये...... बस है
                                 एक पड़ाव थोड़ी देर का, पर
                                 वो हर बार घेर लेते हैं,
           
                                  एक दिन नया पता भी
                                  हो जायेगा पुराना..... सोचती हूँ
                                  क्या बाद जाने के मेरे...
                                  यहाँ भी आयेगा..... क्या
                                  किसी चिठ्ठी का जवाब!! 
             


                                  19.10.2016/ 04:36 शाम
                                  कैसी है आती, मानो खेलती हो 
                                  दिन के साथ छुपन - छुपाई,
                                  गिनेगा दिन गिनती क्या......
                                  पुकारेगी शाम छुपकर..... यहाँ आओ!

Tuesday, October 18, 2016

कुछ कहने पर तूफान उठा लेती है ये दुनियाँ....


                                   
                                  वक्त की सीलन
     

                                 अतीत के बंजारे
                                 लौटते हैं कभी-कभी
                                 हर शाम..... धूप ढली भी
                                 नही होती.... धूल के
                                 बबूले उड़ाते उनके काफ़िले
                                 लौटते दिखते है... सूरज की
                                 आख़री चमकीली रोशनी में
                                 धूप - छाँव का खेल
                                 खेलती शाम... और
                                 समय के अंतराल में
                                 भटक गयी आत्मायें,
                                 ढूँढती रास्ता मुक्ती का.... 
                                 जलाएं आकाशदीप..... दिखाएँ
                                 रास्ता उन्हें दूर आकाशगंगा का...,
     
                                 अतीत के खंडहरों में
                                 कुछ भी नही.... जिसे
                                 चाहते हो छूना,
                                 सिर्फ है सीलन
                                 समय की..... पलक झपकते ही
                                 बीत जाती हैं सदियाँ
                                 उस फैले ब्रह्मांड में..... पर
                                 तुम भागते हो उन
                                 गलियारों में..... जहाँ कोई नही
                                 सिर्फ खामोशी है... 
                                 पांव के निशान अनगिनत
                                 गुजरे हुए लोगों के...,
                                 क्यों चाहते हो भटकना  वहां...
                                 वहां कोई नही रहता,
                                 अतीत की परछाइयों के पीछे
                                 भागते मन को सम्भालना
                                 आसान नही..... पर लौट आओ,
                                 मै आज भी यहाँ हूँ!
   
                                  15.10.2016/04:36 शाम
                                 लौटा लाती है वहीं हर बार..
                                 जहां रोशनी नही दिन की
                                  न है रात सितारों वाली!