Sunday, September 25, 2016

एक दिन खो जायेगा हर पल, बस रहेगा प्यार बहता हवा में...


   
                                                         उफ! ये क्या बात है
    


                                                         उस खुबसूरत सी
                                                         बात पर
                                                         चार चाँद लग गये..
                                                         जब तुम ने कहा
                                                         'बड़ी अच्छी बात है'...
                                                         तुम और तुम्हारा साथ
                                                         घबरा कर फिर
                                                         खींचा हाथ...
                                                         उफ! ये क्या बात है,
                                                         बड़ी खुबसूरत बात है,
    


                                                         हर बात पर हंसती
                                                         तुम्हारी आँखें, और
                                                         गहरी नज़रों की
                                                         वो गुनगुनाहट....
                                                         कोई गीत था झांकता
                                                         मेरे हाथों ने सुना था
                                                         वो गीत उस पल,
                                                         उफ! फिर वही बात है,
                                                         बड़ा खुबसूरत  साथ है,
   
   

                                                         पलट कर देखना
                                                         सीढ़ियाँ चढ़ते हुए
                                                         धीरे से, कोई आहट
                                                         नही हो उस अहसास की,
                                                         विदा लेते हुए भी
                                                         थाम कर रखना
                                                         दिल ही दिल में हाथ
                                                         जैसे बिछड़ने की
                                                         चाहत न हो कोई,
                                                         पर मै ही ये पूंछू....
                                                         'कल फिर मिलोगे......'
                                                         ये कोई मेरी आदत नही,
                                                         उफ! ये क्या बात है,
                                                         बड़ी खुबसूरत बात है!!  
   
  


                                                         19.10.2014/04:05 सुबह,
                                                         एक दिन खो जायेगा हर पल,
                                                         बस रहेगा प्यार बहता हवा में,
                                                         झांकेगा हमारी तस्वीरों से,
                                                         पलटेगा अतीत के पन्ने
                                                         किसी के वर्तमान में!! 





Saturday, September 17, 2016

औरतें, बिल्लियों सी होती हैं....लौटतीं हैं वो, हर बार वहीं

        
       
       
                                       फिर वहीं
       
       
                                   कुछ लोग होते हैं
                                   बिल्लियों जैसे....
                                   शायद औरतें
                                   खासतौर से... लौटती हैं,
                                   बिल्लियों की तरह,
                                   हर बार, उन्ही जगहों पर...
                                   जहाँ से गुज़री हो, रहती हों
                                   कभी..... खंडहर हो गयी
                                   इमारतों में भी लगाती हैं
                                   चक्कर..... देखतीं हैं
                                   टूटी खिडकियों से झांककर
                                   नीचे फैले वीरानों को...
                                   ऊपर नीले आसमान को....,
       
                                   ख्यालों की खिड़की से
                                   देखतें हैं हम अतीत को... पर
                                   छू नही सकते उसे.... हवा
                                   उड़ा  रही थी फैले
                                   सूखे पत्ते.... धीरे -धीरे
                                   चलते हुए, लौटी मै,
                                   वहीं, हर बार, हर साल.....,
                                   बारीश थी, मगर
                                   आसमान सूखा था.....,
       
                                   लम्बे, खाली गलियारे, खाली कमरे,
                                   चलती हवा, बेचैन सी
                                   सांय - सांय करती..... घूमती रही,
                                   ढूँढती रही, हैरान नज़रों से देखती...
                                   उन बिल्लियों को, सधी चाल
                                   चलती हुई जो, घूमती हैं
                                   अतीत के गलियारों में,
                                   खंडहर हो गई इमारतों में...
                                   झांकती
हैं जो खिडकियों से....
                                   देखती हैं जो हैरान नज़रों से, 
                                   करती हैं इंतज़ार... ढूँढती हैं
                                   कुछ, टटोलती पुराने पड़े
                                   सामान में, जाने क्या...,
       
                                   हर बार अतीत को छूने की
                                   चाह में... बेचैन भटकतीं  हैं
                                   यहाँ से वहाँ....... देखती हैं
                                   हर पल को, अतीत में
                                   बदलते हुए...... धुंधला
                                   होते हुए...., वो औरतें
                                   बिल्लियों सी, जियेंगी, करेंगी
                                   इंतज़ार अनंत काल तक!!
       
                                    17.9.2016/ 01:55 दोपहर,
       

       
       
       
       
       
       
        

Friday, September 16, 2016

यायावर सुनायेंगे किस्से नये लोगों को....


   
                                   कहानियाँ बनती हैं
   
   
                                    मन दौड़ता है जब
                                   प्रकाश की गति से भी तेज़....
                                    पार करता है कई
                                    आकाश गंगा यादों की,
                                    दूर कहीं आसमान
                                    खाली है बिन परिंदों के...
                                    बादलों से भर गया
                                    मन... गिर रहीं हैं
                                    बूँदें बारिश की, क्या
                                    कहीं खिल रहे होंगे
                                    फूल मौसम के बाद भी,
                                    जाग रहा है दिन
                                    धीरे-धीरे, फैल रही है
                                    लालीमा, आसमान के
                                    गालों पर.... और रात
                                    ले रही है सपने... रोशनी से
                                    भरे चमकते दिन के.... कैसा
                                    होता होगा दिन का रूप... शायद
                                    सपनों में ही मिल पायेगें...
                                    सुनायेगा कोई कहानियाँ,
                                    परियों की, बौनों की और एक
                                    प्यारी सी जादूगरनी की...           
                                    फिश - ऑय लेंस की तरह
                                    सपनों के आकार है फैले...
                                    समय बुन रहा है पल..
                                    सुना रहा है हर पल
                                    एक कहानी... जो हर बार
                                    लेती है एक नया रूप...
                                    यायावर सुनायेंगे किस्से
                                    नये लोगों को.... समय
                                    देखता है टकटकी लगाये
                                    गुजरते लोगों को.... अपलक
                                    निहारता उनकी कहानियों को!!
           
           
                                         16.9.2016/ 06:10 सुबह
   

Thursday, September 15, 2016

मन दौड़ता है प्रकाश की गति से भी तेज़....

    
   
                                            
                                       शापित
     


                                   दिन के पहर
                                  धीरे - धीरे होने लगे
                                  फिर से छोटे, और
                                  बीत रहे हैं अपनी ही
                                  बेकल रफ्तार में,
                                  धूप तेज़ नही, पर
                                  अभी भी उसमे कुछ
                                  गर्मी है बची, क्या
                                  बची है आज भी... कुछ
                                  गर्मी हमारे इस ख़ामोश
                                  रिश्ते में.... अच्छा है
                                  इस में कोई शोर नही..
                                  कोई वज़ह नही...
                                  उम्मीद भी नही...
                                 और न ही कोई हक है..
                                  पर छू - छूकर कर दिया है
                                  रिश्ता शापित.... जाने क्यों
                                  सबने......, जब भी चाहा
                                  हाथ बढ़ा कर थाम लूँ
                                  कोई बात... सुनू कोई
                                  आहट दिल की.... उससे
                                  पहले ही सब बिखरने
                                  सा लगता है.... समय की
                                  हर लहर के साथ होते
                                  दूर हम.... कभी न
                                  मिल सकेंगे... पर
                                  ख्यालों में लौटती हर
                                  लहर के साथ, हर पल
                                  वापस आयेंगे हम
                                  फिर से दूर होने के लिए!! 
   
   
                                 15.9.2016/ 02:46 दोपहर,
                                 15.9.2015/ 06:46 शाम
                              
     
   

Sunday, September 11, 2016

अच्छा है कि दिल में कोई हड्डी नही होती!!

                       
                       
                                    तुम जो देखती हो
   
   
                                   तुम जो देखती हो, तो
                                   देखती हो कैसे...
                                   मानो कोई भूला हुआ
                                   सवाल करती हो...
                                   जाने  कैसे -कैसे,
                                   भीगे - भीगे ख्याल
                                   करती हो.... तुम जो
                                   यूँही सवाल करती हो...
         
                                    हर पल, हर पल
                                    मुझे सताती हो
                                    जब भी चुपके से मेरे
                                    ख़्वाबो - ख्यालों में आती हो...
                                    मेरे कुछ से कहने से पहले ही
                                    तुम हंस पड़ती हो... और
                                    हाथ छूने को उठे मेरे..
                                    उससे पहले ही
                                    फिर वैसे ही हंसती हुई
                                    भाग जाती हो.... उफ!
                                    तुम जो यूँही सवाल करती हो...
       
                                    दस्तां होती कोई तो
                                    सुनाई जाती, हो कोई
                                    याद जो भूली सी तो
                                    बताई जाती, तुम तो कोई
                                    जवाब लगती हो, किसी
                                     बिछड़े हुए सवाल का...
                                     मिल जाए चाहे ख़्वाब में
                                     ही सही, तेरी शोखियाँ, ये तेरा
                                     बाकपन, कितनी तुम
                                     लाजवाब लगती हो.... उफ!
                                      तुम जो यूँही सवाल करती हो... 


                                     बिखरा - बिखरा है
                                     जुल्फों में पानी,
                                     जैसे ख्वाबों में
                                     शाम ढलती हो,
                                     बेवजह लौटता है दिल क्यों..
                                     उन्ही राहों में, जहाँ
                                     आप चलती हो,
                                     हो कोई धोखा
                                     मेरी नज़रों का, फिर भी..
                                     उन्ही राहों में
                                     आज भी मिलती हों..... 
       
                                     तुम जो देखती हो, तो
                                     देखती हो कैसे...
                                     मानो कोई भूला हुआ
                                     सवाल करती हो...
                                     जाने  कैसे -कैसे,
                                     भीगे - भीगे ख्याल
                                     करती हो.... तुम जो
                                     यूँही सवाल करती हो...!!!
         
                                   31.3.2016/ 07:40 शाम, 
                                   11.9.2016/ 04:58 शाम
                                    30.9.2016/ 06:38 सुबह

         

       
         
         
         
         
         
         
         
         
         
         

Friday, September 9, 2016

हम कर रहें हैं तस्वीरों में समय यात्रा


                               तस्वीरों में समय यात्रा
   


                                 तस्वीरें ही तस्वीरें हैं
                                 अनगिनत, तरह-तरह की,
                                 डब्बे को उल्टा तो
                                 ढेर बन गया उनका,
                                 फ़र्श पर फैली तस्वीरें
                                 जाने किस -किस की..
                                 देखती, बस देखती रही,
                                 हम सब की यात्रायें, मंज़िलें
                                 अलग - अलग, फिर भी,
                                 तस्वीरों में हम साथ - साथ
                                 ठहर गये उस पल में
                                 सदा के लिए.... एक याद
                                 रह गयी.... और दिन -
                                 रात बदलते रहे,
  
                                 एक तस्वीर पर निगाह गई,
                                 पलट कर देखा... कुछ
                                 जो लिखा था, उस समय में
                                 ठहर गये शब्द... पर बात
                                 चलती रही.... "क्या आज भी
                                 बजाती हो 'सी शार्प' गलत"
                                 याद आ गयी एक पुरानी याद....
                                 हर तस्वीर में एक संगीत था,
                                 हर तस्वीर की एक धुन थी,
                                 हर तस्वीर कर रही थी
                                 एक समय यात्रा... दे रही थी
                                 एक याद, एक पल.... पर
                                 हम कहीं दूर निकल गये,
  
                                  तस्वीरें परछाईयाँ है
                                  उस पल की.... क्या होती होगीं
                                  उनमे भी आत्मा,.... उफ! जाने
                                  कितनी हैं ये तस्वीरे....कितनी सारी!!
                                  बन सकते हैं इनसे
                                  कई 'डेक ऑफ़ कार्ड्स'
                                  पर हवा ने सब
                                  बिखेर दिया.... हर
                                  तस्वीर को फिर से सम्भाला,
                                  और रख दिया बंद कर
                                  वह डब्बा फिर कई
                                  सदियों के लिए.... शायद
                                  अगली बार मिले फिर
                                  कुछ नया पढ़ने को,
                                  किसी और तस्वीर के पीछे
                                  करते हुए एक समय यात्रा!!
  
  
                                  9.9.2016/ 06:40 शाम
  
 

Sunday, September 4, 2016

सर्दियां, आ रही हैं शहर में, ज़िन्दगी के दरख्त पर भी जमेंगी बर्फ की परते, अपनी आँखों की नमी गर्म रखना.... !!

                                                                     

                                     धूप का अहसास



 

                                    धूप, बदल रही है
                                    रंग अपना..... सुबह
                                    लौटते हैं अँधेरे...
                                    दूर कहीं, गीरने वाली है
                                    बर्फ.... ऊँची चीड़ की
                                    डालों पर.... पत्तियां छोड़ने
                                    वाली हैं टहनियां..... ,
                                    इस बार जल्दी ही
                                    आ जायेगी सर्दियां
                                    लौट कर, बर्फ की ऊँची
                                    चोटियों पर... हवाएं तेज़
                                    बहने लगी हैं.... चील की
                                    तीखी - तेज़ आवाज़ भी
                                    यही कहती है.... लौट रही हैं
                                    सर्दियां..... प्रवासी पंछी
                                    फिर उड़ेंगे नये बसेरों की
                                    ओर..... करेंगे लम्बी यात्राएँ,
                                    दे विदा धूप को...
                                    जो बदल रही है रंग अपना,
                                    शहतूत की पत्तियों पर
                                    बना रहे ड्रैगनफ्लाई
                                    घर अपना... उड़ रहे है
                                     झूंड में.... लग रहे है परीयों से,
                                     मौसम बदल रहा है..... आओ
                                     चलो, लौट चले
                                     समुन्द्र की ओर... छुएँ
                                     लहरों को... सुने आवाज़ उनकी,
                                    आवाज़ टिटहरी की
                                     लौटा लाई ख्यालों को...
                                     हिलते पर्दे... तैरती मछलियाँ,
                                     बज रहा संगीत... गहरा और
                                     गहरा..... पर फिर भी, देखो,
                                     सच में रंग बदल रही है
                                     धूप अपना... सर्दियां
                                     पास हैं... चढ़ेंगी सीढियाँ
                                     धीरे - धीरे, और फैल जायेगी
                                     सब तरफ..... आँखें बंद कर
                                      महसूस करो धुंध को...
                                      ठंड का अहसास है...
                                      धूप फिर उतरेगी
                                      सीढियाँ धीरे - धीरे....
                                      बदलते अपने रंग के साथ!!

                                 4.9.2016/ 08:00 सुबह,
                                 सर्दियां, आ रही हैं शहर में,
                                 ज़िन्दगी के दरख्त पर भी
                                 जमेंगी बर्फ की परते,
                                 अपनी आँखों की नमी
                                  गर्म रखना.... !!











Saturday, September 3, 2016

मुझे नही पूछनी तुम से बीती बातें

  
                                      रेत का खेल
  
  
                                   आँखें चौंधियां रही थी       
                                   लहरों पर पड़ती रोशनी से,
                                   धूप का चश्मा लगा
                                   मूंदी आँखें खुल गयी....
                                   लहरें  जा..जा कर
                                   लौट आती थी,
                                   जाती लहरों को मानों
                                   आवाज़ दे बुलाता था
                                   किनारा.... यहाँ से दूर
                                   जाने कहाँ तक जा रहा था...
                                   नारियल के पेड़ झुंड में
                                   खड़े देखते लहरों का खेल....
                                   नावें, जहाज़.... डूबता सूरज..
                                    लहरों का हवाओं से तालमेल
                                    पत्तों की सरसराहट ....
                                    मानों कर रहें हो कोई
                                    पुरानी बात..... पर
                                    अभी तो रोशनी तेज़ है...
                                    दूर तक फैला किनारा
                                    टकराती लहरों और
                                    ये हवा..... किसी की 
                                    हंसी से चौका मन...

                                    नारियल बेचने वाली
                                    खेल रही थी, अपने

                                    बच्चे के साथ.....
                                    रेत के बना रही थी
                                    खिलौनें.... रेल का डब्बा
                                    महल, बॉल, गाड़ी
                                    जाने क्या - क्या.....
                                    बच्चा खेलता - तोड़ता
                                    दौड़ता - हंसता हुआ....
                                    बनाता फिर कोई नया
                                    अनौखा कुछ अपनी
                                    माँ के साथ.... मै
                                    हैरान देखती खेल उनका....
                                    करीब जाकर देखा
                                    हैरान हो पूछा....
                                    बोली वह - 'हाँ, बह जायेंगे
                                    सारे खिलौनें हर बार,
                                    फिर बनाउंगी नया खिलौना....
                                    पर कोई चिंता तो नही...
                                    डर नही चोरी का....'
                                    छोटा बच्चा अभी भी
                                    खेल रहा था... लहरों संग
                                    अपने ढेर खिलौनों से....
                                    नारियल हाथ में थमा
                                    वह बोली धीरे से - 'खिलौना
                                    लाकर रखूँगी भी कहाँ...
                                    कोई दरवाज़ा नही कहीं...
                                     जिसकी सांकल चढा
                                     मै बेचने आती नारियल....'
                                     अपने बच्चे की आवाज़ पर
                                     पैसे और विदा लेती...
                                    
वह बना रही है खिलौने,
                                     खेलती होगी अपने
                                     बच्चे और लहरों संग...,
                                     बैग में कही कोई
                                     होता ऐसा चश्मा
                                     जो ढकता उदासी को,
                                     लोगों की आवा-जाही
                                     बढ़ने लगी... दे रही थी आवाज़
                                     अब नारियल वाली उन्हें,

                                      नारियल के पेड़ों की सरसराहट ...
                                      हवा कर रही है बातें....
                                      खिसकती रही रेत.... हर बार
                                      पांवों के नीचे से
                                      जब भी लौटी लहरें... और
                                      आँखें बंद होती रही
                                      खुलती रही... रोशनी का खेल
                                       लहरों संग.... बस चलता रहा!!


                                          19.10.2015/ 05:10 सुबह, 
                                                               05:25सुबह