Tuesday, August 30, 2016

ये कहानी मेरी नानी और कामिनी कौशलजी के लिए



                                          रहीसन 


'कावेरी नानी, देख नाना मेरे लिए कितनी सारी चीज़े लाये है.... ये फ्राक...ये मोती की माला... ये प्यारी सी गुडिया और ये सुंदर सी जूतियाँ!' श्यामली अपना समान दिखती हुई बोली!
अरे वाह, श्यामली अब तो तुम रहीसन हो गयी!' नानी सामान देख बोली!
'रहीसन! वो क्या होता है नानी?' नानी की बात सुन श्यामली ने हैरान हो पूछा!
'रहीसन... नवाबों की बेगमों, अंग्रेजी मेमों और रानीयों के पास कपड़े जूतियाँ और गहनें होते है.... उन्हें ही रहीसन कहते है.. तो ऐसे ही तुम्हारे पास सुंदर फ्राक,जूतियाँ और माला है, तो हो गयी न तुम रहीसन!' नानी श्यामली को समझाते हुए बोली!
'सच! तो फिर तो मै भी रहीसन हो गई, है न नानी!!' श्यामली अपनी नानी के गले में बाहें डाल बोली!
'हूँ!' नानी ने अपनी उस छोटी सी रहीसन को चूम कर हांमी भरी!
'पर नानी, नाना तेरे लिए तो सिर्फ एक स्वेटर ही लाये है..... जानती हो नाना बोल रहे थे कि कि तेरी नानी तो बूढी हो गयी है.... वो फ्राक और जूतियाँ कैसे पहनेगी भला, बस इसीलिये वो विलायत से तुम्हारे लिए स्वेटर ही लाये है!' श्यामली अपनी नानी के लिए अफसोस करती हुई बोली!
जिसे देख नानी को हंसी आ गयी और उन्होंने अपनी उस छोटी सी रहीसन को गोद बैठाया और बोली- 'अरे तुम्हारे नाना सही तो कहते है, देखो अब बूढी तो हो गयी हूँ... मै कैसे फ्राक पहन सकती हूँ!'
'कैसे बूढी हुई हो तुम बताओ तो मुझे!' श्यामली अपनी नानी के गाल को छू कर बोली!
'अरे, कैसे नही बूढी हुई.....देखो मेरे बाल सारे सफ़ेद हो गये, देखो!' नानी अपने बालो की तरफ ईशारा कर बोली!
'बाल सफ़ेद.... बाल सफ़ेद तो 'गबदू' मेरी भेड़ के बच्चे के भी है तो क्या वो बूढा हो गया!' श्यामली समझाती हुई बोली!
श्यामली की बात सुन नानी खिलखिला कर हँस पड़ी और उन्होंने उसे गोद से उतार अपने सामने बैठाया और बोली- 'अरे, ये सब बाते तुमने कहाँ से सीखी..... अरे भेड़ के बच्चे और नानी में फर्क है.... नानी इंसान है और वो भेड़ है!'
'झूठ-झूठ, सब झूठ, अरे तुम्हारे बाल सफ़ेद हो गये तो क्या तुम फ्राक नही पहन सकती..... जानती हो नानी, जब एक बार मै नाना के साथ एक अंग्रेज़ी पार्टी में गयी थी तो वहाँ सब मेमो ने फ्राक और जूतियाँ पहनी हुई थी और उसमे कई मेमो के बाल सफ़ेद थे और उनके हाथ में तो छाता भी था जिसे टिका कर वो चलती थी, तो बताओ कौन ज्यादा बूढा हुआ....तुम तो नानी कितनी सुंदर हो, तुम बूढ़ी थोड़ी हो गयी हो, मेरी कावेरी नानी!' श्यामली समझती हुई बोली और अपनी नानी के गले से लग गयी!
'ये क्या तू-तू लगाई हुई है... नानी आपकी उम्र की है!' कमरे के अंदर आते हुई श्यामली की माँ ने श्यामली की बाते सुन ली थी, जिसे सुन वो गुस्से से श्यामली बोली!
'अरे गुस्सा क्यों होती हो माँ, मै तो अपनी सहेली बासंती से भी ऐसे ही बात करती हूँ.... और कल नानी ने ही तो मुझ से बोला था कि नानी मेरी बड़ी सहेली है... क्यों कावेरी नानी तू बोली थी न?' सात साल की श्यामली अपनी साठ साल की नानी के गले से लगते हुए बोली!
श्यामली की बात सुन नानी अपनी बेटी प्रभा यानी श्यामली की माँ को समझाते हुई बोली-
'हाँ भाई, ठीक ही तो हैं, अगर मै इसकी सहेली हूँ तो यह सहेलियों की ही तरह ही तो बात करेगी..... तुम जाओ, हमे अपनी बाते करनी हैं!'
'ठीक है, फिर मुझ से मत कहियेगा कि मैंने कुछ सिखाया नही!' कहते हुए प्रभा कमरे से बाहर चली गयी!

Saturday, August 27, 2016

"द हुकर्स कुक", एक लम्बी कहानी या कहें एक छोटा सा नावेल है!

                                                                                                                                                     
                                      द हुकर्स कुक 

                                                
                  
 या कहें हसीनों का बावर्ची!! पर थी बड़ी ही अजब! एक किस्सा, एक कहानी है! पर थी अनोखी! मै आज भी सोचता हूँ तो हंसी आ जाती है! आज इतने बरसों बाद, जब भी मुझे वो याद, वो पल, वो सब कुछ याद आता है तो मै हंसते-हंसते कही खो जाता हूँ!
    
    

 गाडी को ब्रेक लगी! गाडी एकदम बगल मे आकर रूकी थी! रात का एक बज रहा था! चौक कर कदम्ब ने गाडी की तरफ देखा! काली गाडी काले शीशे! गाडी का शीशा नीचे हुआ!
‘हाय हैडसम, लिफ्ट चाहिए?’लडकी थी शायद, नही औरत थी, जो भी थी.....!
एक बार तो मन हुआ मना कर दे पर फिर जायेगा कैसे? पिछले एक घंटे से एक भी बस नही आई थी!
कदम्ब ने हाँमी मे सर हिलाया!
पिछला दरवाजा खुला! कदम्ब थोडा चौका, गाडी मे एक नही तीन लडकियाँ....नही ...तीन औरते....शायद ....जो भी थी......थी! कदम्ब बैठ गया! उसने अपना बैग सीट के नीचे रखा और धीमे से बोला-
‘थैंक्स!’
‘अन्धेरे मे क्या कर रहे थे?’साथ जो बैठी थी.....ने पूछा!
मै इसलिए उलझन मे था क्योकि उन तीनों ने खासा मेकप कर रखा था कि मुझे समझ नही आ रहा था कि वो लडकियाँ है या औरते है......मेरा मतलब है कि अच्छी खासी थी.....हर तरह से!
‘जी, कुछ नही,.......बस का इंतजार कर रहा था.....बस नही आ रही थी तो .....वो.....मुझे!’ कदम्ब को समझ ही नही आया कि क्या बोले!
‘तो......वो....मुझे...,कुछ अटक गया क्या.......,मालुम नही तुम्हे क्या, आज बसो की हडताल है!’ ड्राईव कर रही थी...जो भी थी, बोली!
‘अच्छा?’ कदम्ब यह सुन चौका! यहाँ मुझे चौकना ही था और मै सच मे बहुत ज्यादा ही चौक गया क्योकि अब मै इन तीनों के रहमोकरम पर था, पर अब क्या हो सकता था-
‘रहते कहाँ हो...और ये सब सामान क्या है?’जो बगल मे बैठी थी,....ने पूछा!
‘जी, मै इस शहर मे नही रहता.....मै तो यहाँ नौकरी करने के लिए आया हूँ!’कदम्ब बोला!
‘पर अभी तुम्हे कहाँ छोडे...तुम स्टेशन के पास ही क्यो नही रूके.....वहाँ तुम्हे कुछ सस्ता सा मिल जाता!’ड्राइव करने वाली बोली!
‘जी, मुझे किसी ने .....किसी का पता दिया था....तो मै वही पेईग गैस्ट के लिए जा रहा था....स्कूटर रास्ते मे खराब हो गया....फिर कुछ लडके आए और पर्स......घडी, उतार ले गए, बस ये बीस रूपये छोड गए है...हाथ मे!’कदम्ब झेपता हुआ बोला!
तीनों  ने एक साथ कदम्ब की तरफ देखा!
‘तो पता बताओ....कहाँ है वह घर?' इस बार आगे बैठी तीसरी वाली बोली!
‘जी...पता.....(थोडी देर चुप  रह कर कदम्ब फिर बोला)...वो तो मुझे याद नही....पर्स मे था और....पर्स वे लोग ले गए.....!’ये मेरा उन्हे मानो आखरी जवाब था, ढेर सारे दुख और दुख से भरा!

‘तो, फिर तुम्हे कहाँ छोडे?’तीसरी वाली ने फिर पूछा!
‘और तुम्हारे पास तो पैसे भी नही.....गैस्ट हाऊस वाले एडवाँस मागेगे तो कहाँ से दोगे...!’बगल वाली बोली!
‘और बाँय द वे, तुम फिर बस कहाँ की पकड रहे थे, अगर तुम्हारे पास पता नही था तो?’आगे वाली ने पूछा!

इजाज़त


                                          केवबूफ
     


                                धीरे धीरे ही सही पर
                                हालात बदल रहें हैं,
                                एक पुरानी याद ने
                                सब छान दिया....
                                एक मंथन था शायद...
   
                                धुंधला सा था कुछ
                                देखती आँखें...
                                झुकती उठती पलकें...
                                धुंध का छलावा
                                सोच... पलटना था
                                कि आवाज़ सुन तुम्हारी
                                 ...."जाती कहाँ है
                                केवबूफ"...  हँस पड़ी
                                मै.... भाग कर उस
                                धुंध में आगे बढ़..
                                थाम लिए हाथ
                                तुम्हारे..... और पूछा
                                'केवबूफ, यू मीन
                                बेवकूफ?'.....
                                यस, आई मीन
                                केवबूफ!! .....
                                धुंध में खड़े हम
                                थामे हाथ एक दूसरे का...
                                हंसते रहे..... बरसों बाद 
                                आज भी ....जब भी कहते हो
                                'ओ केवबूफ, टाईम से
                                सोती क्यों नही.....
                                इतनी देर तक
                                लिखती रहती हो क्या...
                                एडिटिंग क्यों नही करती... या
                                कितनी एडिटिंग है बाकी...
                                ओ केवबूफ, इधर देख'.....
                                मै उसी तरह.... बिलकुल
                                वैसे ही हंसते हुए.... भाग कर
                                थाम लेती हूँ हाथ तुम्हारे....
                                वही धुंध है.... हवा है
                                ख्यालों में....  आज भी
                                चलते हैं दूर तक उस
                                धुंध में थामे हाथ.... हम 
                                एक दूसरे का!!

   
                               26.8.2016 / 6:54 सुबह,
                               नींद गहरी थी... मगर
                               आँख खुल गयी.... सपने घुल गये
                               हवा में... रोशनी छन कर आ रही है
                               खिडकियों से... पर जाते हैं अब...
                               फिर मिलेंगे कभी, अजनबी बन...
                               सच में, दोस्त होने के लिए.... 

Thursday, August 25, 2016

साइकिल के पहियों सी है-- ज़िन्दगी, घूमती है.. समय के पीछे - पीछे ज़िन्दगी, ओ सहेली... ज़िन्दगी..


                   
                                           ओ सहेली

                                     जल्दी है क्या
                                     समय को दौड़ने की...
                                     बस, यूँही...
                                     जाना है कहां इसे
                                     पूछो तो-- कोई सही...
                                     ओ सहेली... ज़िन्दगी..
                                     जल्दी है क्या
                                     समय को दौड़ने की...
                                     बस, यूँही...  

                                    साइकिल के पहियों
                                    सी है--- ज़िन्दगी...
                                    घूमती है.......
                                    समय के पीछे -
                                    पीछे ज़िन्दगी.....    
                                   ओ सहेली... ज़िन्दगी..

                                   देर तक जागता है
                                   रात का हर लम्हा...
                                   अधखूली आँखों से
                                   देखता है... ये जहाँ,
                                   देखकर खिलखिलाकर
                                   हंस पड़ी... रोशनी
                                   ओ सहेली मिल गयी..
                                   कैसी तुम हो खुशी...
                                   एक शाम मिल गयी
                                   हर सुबह--- फिर मिली...

                                   क्या थी जल्दी
                                   समय को दौड़ने की
                                   बस --- यूँही,
                                  ओ सहेली......
                                   गर्मियों की छाँव सी
                                   सर्दियों की धूप सी..... 
                                   रूठती हो... क्यों यूँही..
                                   थाम कर .... इक कविता
                                   हो तुम्ही...... ग्रामोफ़ोन पर
                                   सुनती हो कहीं ---- अटकी हो
                                   दूर राहों में कहीं--- 


          "ओ सहेली", गाना short film "सहेली " में से है!
            उम्मीद है दिवाली तक हम सारे बन्दर इसे पूरा कर देंगे!
          ( एक साथी बन्दर की ही वज़ह से देरी हो रही है )

Saturday, August 20, 2016

एक दिन सब बीत जाता है.... पर क्या विश्वास भी!!??

                                                  
                                      वो नये लोग
        


                                 कभी ऐसा हुआ
                                 तुम्हारे साथ
                                 नींद से भारी होती
                                 आँखों में..... गहरी
                                 और गहरी होती गयी.... नींद,
                                 पर दिल सोता नही
                                 जगाये रखता है
                                 आँखों को बेवजह....,
                                 रात बीत रही है
                                 सुबह पास है..... समय
                                 बीत रहा है पर
                                 खत्म कभी होता नही....
                                 वो बस गुज़र रहा है
                                 हर पल.... कही दूर
                                 कही आस - पास, 
                                 लोग गुजर जायेंगे
                                 धीरे - धीरे.... अगल - बगल से
                                 दूर कही..... बहुत दूर,
                                 पर समय हर पल
                                 होगा.... बीत रहा.....,
                                 घुल जायेंगे हवा में
                                 हम सब.... परछाईयाँ
                                 होंगी दीवारों पर टंगी
                                 या बंद पुरानी किसी
                                 एलबम में.... फिर
                                 वो भी इतिहास होंगी
                                 किसी दिन..... लोग
                                 सुनायेंगे किस्से कहानी...
                                 शायद करे कभी बात कोई..
                                  जिक्र छिड़े....... गहरी
                                  मुस्कराहट.....  दर्द आँखों में,
                                  छूकर देखें.... तस्वीर
                                  हमारी.... करे महसूस...
                                  वो क्या था... एक
                                  भूला अहसास... एकटक
                                  देखती तस्वीरों को देखते,
                                  बीती पुरानी बातों....
                                  यादों को समेटे.....
                                  बीत रहे समय में....
                                   वो नये लोग!! 
       
                    18.2.2016 / 05:00 सुबह, उन दिनों 
        सर्दियां बीत रही थी धीरे-धीरे!  मैंने लिखी
         कुछ कविताएँ, कहानियाँ, पूरा किया एक नावेल,
        बनाई कुछ ड्राइंग, काम किया कुछ स्केच पर और
        ऐसा कुछ नही जो किसी को हर्ट करे!!
                 

Wednesday, August 17, 2016

उस अनजान बच्चे के लिए जो बोल और सुन नही सकता था! पर देर तक बातें करता रहा अपने हाथों से! जाने कैसी आवाज़ होती उसकी, अगर वह बोल पाता!!!

                                          शोर 
                                          
       
                                    जब हम देखते है
                                    समय के शोर को
                                    कानों से गुज़रते हुए....
                                    बीत रहा हर पल
                                    कागज़ पर बिखेरता रहा
                                    रंग हर दिन के,       
                                    अंगुलियाँ थक गयी
                                    बुनते हुए कलम के
                                    अनगिनत शब्द....
                                    जो तुम कभी सुन
                                    ही नही पाये.... 
                                    हवा है... धूप है
                                    ट्रैफिक का शोर    
                                    गुजरता रहा ....
                                    पर तुम देखते हो
                                    धूप को, रंगों को....
                                    और आकृतियाँ बनाते
                                    अपने हाथों से
                                    आवाज़ की, धूप की
                                     दिन की और अपनी
                                     हंसी की....!!
                                          

                                        22.2.2016/ 08:55 रात  

               
           
           

           
               

Tuesday, August 9, 2016

समय की उम्र है लम्बी..... लोग बीत जाते हैं..


                  
                  
                                     समय की रफ्तार
                  
                  
                                    धूप छोड़ रही थी
                                    निशान धीरे - धीरे....
                                    मिट रहे थे जो बीत रहे
                                    समय के साथ.... हर पल,
                                    दौड़ते समय में
                                    खत्म हो रहे.... दिन - रात
                                    देखने के लिए
                                    धीरे किया मन की
                                    घड़ी की टिकटिकाहट को,
                
                                    आँखें बंद कर सुना
                                    चिड़ियों के पंखों की
                                    फड़फड़ाहट को.... 
                                    छुआ ओस को धीरे से,
                                    महसूस की हवा...
                                    टिटहरी की ऊँची और
                                    तीखी आवाज़.... रात में
                                    बेचैन सी और दिन में
                                    शोर सी लगती..... 
                                    आसमान का नीला रंग...
                                    पंछियों की ऊँची उड़ान....
                                    दीवार से टिकाये तुम्हारी
                                    पीठ और फैलायी बाहों को....
                 
                                    फडफडाते पन्ने.... किताब के
                                    जो सीने पर ही रख
                                    सो गयी थी मैं... हवा
                                    के झौकों ने किताब के साथ
                                    मुझे भी जगा दिया...
                                    तुम्हारी कई बातें.... यादें
                                    याद करते हुए..... खुल गई
                                    ऑंखें..... गौर से देखा
                                     फिर एक बार.... फिर से  
                                     समय की रफ्तार को !!
                  
                                    4.4.2016/ 07:00 सुबह,
                                    समय की उम्र है लम्बी..... 
                                    लोग बीत जाते हैं..

                  

Monday, August 8, 2016

एक अजब और थोड़ी गज़ब कविता


       
       
                                        चोर  vs दरोगाजी
               

               
                                     भागा चोर
                                     पकड़ में आया,
                                     देखो कैसा
                                     खूब छकाया.... 
                                     दरोगा अपना
                                     गोल - गोल...
                                     पीछा करता
                                     हो गया रोल...
                                     सड़क पर
                                     गोल - गोल...
                                     गोल - गोल - गोल...
                                     रोल - गोल - रोल - गोल....
       
                                     टकराया चोर से वो
                                     चोर भी हो गया.... रोल
                                     रोल - गोल - रोल - गोल.....
                                     सडक पर हो गये दोनों
                                     रोल - गोल - रोल - गोल......
       
                                     अरे, उठाओ
                                     हाथ अपने....
                                     लोटा - छतरी
                                     साथ में सपने....
                                     जिनमे बनना चाहो तुम....
                                     सेठ मुटकीया लाल तुम....
                                     हो जाओ मालामाल तुम..... हम्म ..
       
                                     दरोगाजी हाँफते
                                     ज्यादा थे
                                     बोल पाते
                                     थे वो कम.... हम्म ..
                                     चलो - चलो
                                     अब थानें तुम...
                                     बात हमारी
                                     बारहा आने कम...
                                     हो जाए रुपया
                                     चार आने कम....... हम्म ..
       
                                     मैं अकेला
                                     नही हूँ चोर.... साथ में
                                     मेरा इक है साथी...
                                     कहो तो उसको भी 
                                     ले आऊं.... दरोगाजी
                                     क्या मैं जाऊं.....
                                     पर नही है
                                     वो कोई शेर
                                     नही है कोई बन्दर - भालू
                                     वो तो है प्यारा सा साथी
                                     नाम है उसका ठुमरी लाल..... पर
                                      है वो शर्मीला हाथी....
                                      कहो तो उसको भी
                                      ले आऊँ..... दरोगाजी
                                      क्या मैं जाऊं... 
       
                                      सुनकर चोर की
                                     अजब सी बातें
                                     दरोगाजी सोच में पड़ गये
                                     सोच - सोच कर
                                     तोते उड़ गये....
                                     हाथी आया थानें में
                                     नाम है जिसका ठुमरी लाल.....
                                     जाने क्या - क्या गाये वो...
                                     और न जाने कितना
                                     खाये वो...... ऊपर से
                                     शर्मीला वो.... शरमा - शरमा के
                                     तोड़ दी जो
                                     जेल हमारी.... ओह..हो.. ओहो... हो...
                                     फिर भाग जायेंगे
                                     सारे चोर..... और
                                     करूंगा फिर मैं सबका पीछा
                                     हो जाउंगा मैं फिर....
                                     रोल? रोल? रोल?
                                     रोल...गोल...रोल...गोल.........
                                     नही........ अरे नही..... नही...
                                     डर कर चिल्लाये.... दरोगाजी
                                     बन गये वो
                                     रोडरनर के मामाजी
                                     भागे ऐसे मामाजी.... जैसे
                                     पीछे पड़ा हो गामाजी.... 
       
                                     चोर देख चकराया
                                     समझ उसे कुछ
                                     नही आया... पीछे भागा
                                     दरोगाजी के.....
                                     साथ में उसका साथी
                                     ठुमरी लाल हाथी....
                                     अभी तो बैठे ही थे
                                     कुर्सी पर दरोगाजी....
                                     लेते लम्बी साँसें वो..... हम्म ..
                                     देख के चोर और ठुमरी लाल को
                                     हो गये बेहाल वो....
                                     फूल रहा था दम....
                                     हो गये बेहोश..... हम्म ..
       
                                     पंखा झलते
                                     चोर और हाथी
                                     बड़ी गज़ब की बात ये साथी....
                                     भागा चोर पकड़ में आया
                                     साथ में अपने
                                     हाथी लाया.... दरोगा अपने
                                     खो गये होश.....
                                     होश.. होश..होश....
                                     भागा चोर
                                     पकड़ में आया!!!  
       
                         26.7.2016 / 01:26 रात और फिर
                        08.8.2016 / 10:00 एक और रात.... 
               बच्चों के लिए कहानीयाँ - कवितायें  लिखना                         
               दुनियां के सबसे बेहतरीन कामो में से एक
               काम है..... एक खूबसूरत अहसास.... अपने
               बच्चों को सीने से लगाने जैसा....

Sunday, August 7, 2016

वैसे तो मुझे तुम पर पूरा ही भरोसा है, कैसे वो भूला दूं मैं जो आँखों ने देखा है.....


      
                                    ओस की बूँदें
       


                                   वो धूप वाला
                                   था दिन,
                                   जब हम मिले थे...
                                   पहली बार,
                                   सीढियाँ चढ़ते
                                   रुकते कदम मेरे...
                                   छुपके देखता था.... कोई!!
                                   घबरा कर देखता
                                   खिड़की से बाहर...
                                   सर झुका कर
                                   हंसता वो पल....
      
                                   फिर एक शाम
                                   बारिश की बूँदों वाली.....
                                   फिर कई दिन
                                   खाली अकेले....
                                   ढूँढ़ते बारीश की
                                   बूँदों वाली शाम....
      
                                   फिर कुछ हज़ार दिन....
                                   सूखे पत्तों से बेजान  और
                                   गर्म धूप वाले
                                   दिन से अकेले....
   
                                   इस बार मिले तो
                                   सर्दियां होंगी....
                                   धुंध से ढकी सुबह और
                                   ठंडी हवाओं वाले रात - दिन....
                                   ओस की बूँदों में
                                   नहाया शहर होगा....  पर अब
                                   सम्भाल रखना उन्हें
                                   सदा के लिए.....
                                   और एक जन्म के लिए!! 
   
                                      19.7.2016 / 05:07  एक सुबह और                 
                                      07.8.2016 / 10:22 एक रात