Saturday, February 27, 2016

ठंडी हवाओं की चुभन आँखों में है



                                 दुनियाँ तोता चश्म है
 

                                कौन है तेरा!!! 

                                दुनियाँ तोता चश्म है......
                                इसलिए कुछ याद रहा - 
                                कुछ भूल गये.....
                                हवा का अहसास रहा....
                                सब याद रहा..... 
                                दिन रहा.... रात रहा...
                                 हँसती हुई आँखों में 
                                 दर्द का अहसास रहा...

                                आईने के उस पार 

                                बारीश है.... हवा है.... 
                                और हो तुम...
                                इस पार.... झांकता अँधेरा 
                                खिडकियों से...... और लेता 
                                कोई दर्द का आलाप रहा..... 

                                कहते हो तो..... अच्छा 

                                जाते हम है.... वादा है...
                                देगें न आवाज़ कभी हम.....
                                दौड़ रहा है मन का जादू 
                                खेल अजब दिखलाये... 
                                पलट-पलट के  
                                हंसती थी जो.... 
                                जाने कहाँ खो जाये....

                                कौन है तेरा....  

                                दुनियाँ तोता चश्म है......
                                इसलिए कुछ याद रहा - 
                                कुछ भूल गये.....!!!

                                 4.6.2015/ 8:20 रात,
अगर तूझे पहले ही जान जाते कहीं
तो जीते जी यूं जान से न जाते कभी,
ठंडी हवाओं की चुभन आँखों में है, पर
एक भी आंसू गिरा नही, अब खत्म होगा
अब खत्म होगा... सोचते रहे बरसों, पर
तेरे झूठ और धोखो का कहीं कोई सिरा नहीं!!