Sunday, December 13, 2015

रात की बात बताएं क्या, अँधेरे यूही घबराये से रहते हैं.....


                                                  प्यार खुशबू चन्दन सा
                         

                                         नही कोई बात है
                                         नही कोई दिन है
                                         नही कोई रात है.......
                                         बस यूहीं हम से फिर मिलो तुम
                                         ऐसे... जैसे, पहली मुलाक़ात है....
                       
                                         थाम कर चलना तुम
                                         बातों के हर.. सीरे....
                                         बाँध कर चलना तुम
                                         छूटते हर लम्हे.....
                                         और बस यूहीं कहीं
                                         राह बीत जायेगी...
                                         फिर यूहीं - ऐसे ही
                                         तुमको याद आयेगी...
                                         ये मुलाक़ात - ये बात
                                         और दिन और ये रात......
                       
                                         नही कोई बात है....
                       
                                         सोचते -सोचते क्या.. तुम
                                         आज भी ...........
                                         सोचते -सोचते क्या तुम
                                         आज भी -
                                         हवा सी लगती हो
                                         किसी ठंडी रात की....
                                         जब कहती थी तुम
                                         बांह मेरी थाम के...
                                         प्यार खुशबू चन्दन सा -  पर
                                         लिपटे हैं सांप भी..
                       
                                         नही, नही, नही, नही कोई बात है
                                         बस कोई उलझी सी
                                         अधूरी सी बीती याद है...
                       
                                         2.12.2015 / 8:50 रात की
                                         बात बताएं क्या... अँधेरे यूहीं
                                         घबराये से रहते हैं.....

Saturday, December 5, 2015

बिल्ली - चूहे की लुका-छुप्पी.... "मैं आऊ-मैं जाऊं"


                                          प्यारी बिल्ली   vs  प्यारा चूहा
                       
                       
                                    भागो जी मैं हूँ आँऊ......
                                    बिल्ली बोली - 'मैं खा जाऊं'....
                       
                                    भागा चूहा.... बोल रहा था
                                    मैं न डरता....
                                    बस मैं शरमाऊं......ऊँ......
                                    ऐसी - ऐसी बिल्लियों को
                                    मैं जंगल से दूर भगाऊं......
                                    ये थोड़ी प्यारी सी है
                                    इससे छुपता.... मैं शरमाऊं...ऊँ...
                                    भागो जी मैं हूँ आँऊ
                                    बिल्ली बोली - 'मैं खा जाऊं'
                       
                                    सुन कर चूहे की बातें
                                    बिल्ली बोली - न शरमाओ
                                    प्यारे चूहे तुम भी प्यारे
                                    रात को खाने पर घर आओ...
                                    देके मूछों पर ताव
                                    बिल्ली बोली - इक बात बताओ
                                    खाने में तुम क्या हो खाते ....
                                    कभी न मिलने तुम घर आते....
                                    सुबह सैर पर कब हो जाते...
                                    आओ जी, जरा सामने आओ
                                    मुझ से अब तुम न घबराओ...
                       
                                    सुन कर बिल्ली की बाते
                                    लग गई हिचकी चूहे को
                                    ... हीक ची ... हीक ची.... हीक ची....
                                    डर कर लेता लम्बी वो साँसे
                                    हूँ हा.... हूँ हा.... हूँ हा.....
                                    सोचे अपना अब वो डर
                                    कैसे-किससे-कब बांटे
                                    सांस थाम कर फिर चूहा बोला-
                                    'प्यारी बिल्ली तुम हो प्यारी
                                    करती कितनी प्यारी बातें',
                                    जाओ जी, मैं घर आ जाऊं
                                    साथ में अपना मामा लाऊं...
                                    शेर अंकल को प्यारा सा है
                                    मामा मेरा न्यारा सा है....
                                    चाप स्टिक से खाता है
                                    एक सांस में बस दो - तीन बिल्ली
                                    प्यारी सी चट कर जाता है....
                                    अब तुम बोलो क्या मैं आऊ
                                    साथ में अपना मामा लाऊं.....
                       
                                    सुन कर चूहे की बातें
                                    बिल्ली बोली - माँ..यां......ऊँ.....
                                    म्याऊँ...म्याऊँ...........म्याऊं.....
                                    आना हो तो फिर फोन करके आना
                                    साथ में अपना मामा लाना...
                                    पर भूल गयी हूँ
                                    मैं अपना नम्बर, ठहरो
                                    पहले वो मैं ले आऊ....
                                    म्याऊं जी - मैं लौट के आऊ... 
                                    प्यारे चूहे, अब मैं शरमाऊ...ऊँ .....
                       
                                    डर कर भागी बिल्ली आगे
                                    चूहा भी फिर जोर से हांफे
                                    हूँ-हाफ ....हूँ-हाफ...... हूँ-हाफ ....
                                    जाऊं जी, मैं तो जाऊं
                                    दूर - दूर मैं जाऊं
                                    पर इस जंगल में
                                    मैं तो - अब तो
                                    फिर लौट के अब न आऊ!!!