Saturday, October 31, 2015

रोशनी आयी है बांह थाम कर अंधेरों की...रहे अँधेरे झांकते दिनभर दरवाज़ों के अधखुले पल्लों से...

                            दिन चमकीले उजालों का 
  
                         सुबह की रोशनी 
                         फैल रही थी 
                         उबासीयाँ लेती हुई..... 
                         हल्की सी ठंडक 
                         और ख़याल आया 
                         सर्दियों का......... 
                         इस बार जल्दी ही 
                         आ जायेगी ठंड 
                         अपनी छुट्टियों से 
                         वापस फूलों और 
                         हवाओं के मौसम में......, 
                         हाथ बढा छुआ 
                         शहतूत की पत्तियों को 
                         गीली - ठंडी हरी पत्तियां... 
                         तितलियाँ इतनी सुबह 
                         उडती - घूमती - ढूँढतीं 
                         फूलों के घर और 
                         पत्तियों का शहर.... 
                         धीरे - धीरे रोशनी 
                         चमकीली और गर्म 
                         हो जायेगी......... 
                         थाम कर हाथ मेरा 
                         कहना मुझसे..... 'अरे कहाँ 
                         गुम हो इन पत्तों में.....' 
                         दिन चमकीले उजालों का 
                         रात हर बार छोड़ जाती है 
                         पेड़ों की पत्तियों पर... और 
                          तितलियों के पंखों पर....!! 
   
                            16.8.2015/ 5:50 सुबह, 
                            रोशनी आयी है बांह थाम कर 
                            अंधेरों की... रहे अँधेरे झांकते दिनभर 
                            दरवाज़ों के अधखुले पल्लों से....