Saturday, June 20, 2015

हवाओं के मौसम में


                                  डेंडिलायन के फूल 
  

                                 उडाओ.... 
                                 फूंको उनमें जान 
    हर फूंक पर होगा 
                                 एक सपना पूरा..... 
  
                                 हवाओं के मौसम का 
                                 करते इंतजार... 
                                 गर्मियों की धूप से पहले... 
                                 हवाओं के काफिलों को 
                                 सर उठा देखते एकटक.... 
                                 हवा के झौंकों पर 
                                 उड़ते.... वो सूखे बीज 
                                 ढेर छतरियों की तरह 
                                 फैल गये हवा में.... 
  
                                 जायेंगे दूर-दूर 
                                 और बहुत दूर तक.... 
                                 एक नयी जमीं की 
                                 तलाश में..... हवा में फैले
                                 वो सैकड़ों - हजारों फूल..... 
  
                                पीले सूरज जैसे.... 
                                 सफ़ेद चाँद की तरह... और 
                                 फिर बिखरते तारों का 
                                 ये सफर.... अनोखा... अदभुत....   
                                 आकाशगंगा में जन्म लेते 
                                 अनगिनत तारों की तरह..... 
  
                                 धूप... पानी... और मिट्टी 
                                 देगी उन्हें फिर से 
                                 एक नया जन्म.... 
                                 उगेंगे फिर सैकड़ों - हजारों पौधे 
                                 और मौसम आने पर 
                                 फिर खिलेंगे..... मुस्कराते 
                                 आँखे झपकाते.... 
                                 हवाओं के मौसम में... छूकर 
                                 बहती हवा पर सर हिलाते....
                                 हंसते सुंदर पीले ये और वो 
                                 यहाँ से वहाँ तक फैले 
                                 डेंडिलायन के फूल!!! 
  
                                12.6.2015/11:20 रात के पहर 
                                20.6.2015/3:15 दोपहर बाद 
                               हवाओं के मौसम में 
 
   

Wednesday, June 3, 2015

बेआवाज़ गुज़र जाता है समय.... बंद मुठ्ठी की फिसलती रेत की तरह


अगर मै समय होता 

  सोचने वाली बात है! 
खैर, अगर तुम समय होते तो.... 
तब भी वही करते जो 
तुमने किया..... सबकी 
जिन्दगी उलझाते और बस 
रहते यूँही परेशान..... पर 
अगर सच में तुम यूँ 
उलझाके सारे रिश्ते 
लौटते फिर वही.... तो 
क्या.......चाय में दूध 
कम डालते!!!... पर वो चाय 
सब से अच्छी थी..... पर 
अकड आज तक बुरी है!!!! 

हम लौट जायेंगे इन 
समय की यात्राओं से 
फिर वही अपनी-अपनी 
ज़िन्दगी की खिडकियों से 
झाँकने के लिए.... हमारे 
आस-पास फैले लोगों के 
इस सैलाब को... जो डूबो देना 
चाहता है हमारे ख्यालों को.... 

ख्याल जो रूकते नही.... 
वो तैर रहे है हर पल 
सोते....जागते...उठते....बैठते... 
देखते....सुनते...बोलते....हंसते... 
जो अब तक नही डूबे... 
शायद हम घिरे है 
चालाक और शातिर लोगों से 
जो हमारे बन के... हमे... 
हम से ही दूर कर रहे है.... 

बेआवाज़ गुज़र जाता है 
समय.... बंद मुठ्ठी की 
फिसलती रेत की तरह...... आज 
कल में और कल आज में 
बदल जाता है.... मुमकिन है 
समय कभी लौट आये... मगर 
क्या यादें भी बदल जायेंगी... या 
लौटेंगी एक नया रूप लेकर... 

आज सिर्फ यादें है... बाकी 
सब कुछ बेमानी सा लगता है....
तुम क्या चाहते हो.... 
कहो अगर कह सकते हो... 
चाहे कितनी बड़ी हो ये 
दुनियाँ.... मगर कर 
सकता नही कोई  
यादों से मेरी....बेगाना तुम्हें!!!


3.6.2015/ 5:00 शाम है.. 
बादलों से पूछती हवा... क्या 
कोई ज़वाब है.....