Sunday, April 26, 2015

हवा अकेली है उस शहर में आज भी... चेरनोबेल- एक याद - 2

                  
 
                                  कोई आहट नही 
 

                                     हवा भटक गयी है 
                                 वहाँ..... चलती है.... 
                                 मगर घुप्प है 
                                 आत्मा उसकी... 
 
                                 नये खिलोने जो 
                                 खेले नही गये... 
                                 वो झूले जो 
                                 झूल रहे हैं बरसों से 
                                 अकेले... बहुत अकेले... 
 
  कोई देता नही 
                                 दरवाजों पर 
                                 वहाँ दस्तक..... 
 कोई आता नही 
 मिलने..... लाता नही 
                                 सुबह कोई फूल 
 मुस्करा कर वहाँ.... 
                                 जाते नही लोग 
 पिकनिक पर.... थाम कर 
                                 बाहें एक दूसरे की, 
 
                                 मुस्कराती नही कोई 
                लड़की पलट कर... लहराते हुए 
                                 अपने  रेशमी बालों को 
   देती हो झटक.... और
   देखती है फिर पलट के 
   अपनी खूबसूरत आँखों में 
   शरारत भर.... बजाते नही 
                                 वहाँ लड़के सीटियाँ.... 
 
                                 सडकों पर..... गलियों में... 
                                 खिडकियों के पल्लों पर 
                                 कोई आहट नही.... 
                                 ले जाता नही कोई 
                                 डाकिया चिठ्ठियाँ वहाँ.... 
 
                                 अब कोई नही 
                                 बस हवा है..... 
                                 सिर्फ हवा और उसकी 
                                 सरसराहट है... बुदबुदा रही है 
                                 अकेले... बहुत अकेले 
   ठहर गये उस 
                                 समय से वहाँ!!! 
 

                                26.4.2015/ 4:55 फिर एक शाम 
                                    बीत रही है कई शामों की तरह.... 
                                    कोई चिठ्ठी भेजे उस शहर को 
                                आज तो हवा के पते पर.... 
 कोई कहने सुनने वाला नही बरसों से वहाँ..... 
     
 
 
  

Thursday, April 23, 2015

दिन लम्बे और शामें छोटी हो गयीं


  
                                बंजारे बादल 
  

                        लौट रहे है पंछियों के झुंड 
                        प्रवास से अभी भी... 
                        जो आये थे प्रवास पर 
                        कब के लौट गये है, 
  
                       घोंसले खाली हैं अब..... 
                       तिनका - तिनका जोड़ कर 
                       बनाये हुए ये आशियाने.... 
                       खाली है... पर कोई आयेगा 
                       फिर बनायेगा नये सीरे से, 
 
                       गिलहरी चौक गयी 
                       मेरी आहट से.... और 
                       भाग गयी सुनते ही 
                       जब मैंने पूछा - 
                       'क्या खा रही हो 
                       अकेले - अकेले.....' 
                       शाम गये हैरान थी मै 
                       जहाँ रखे थे 
                       बिस्कुट उसके लिए.... 
                       खा रही थी दोपहर में वो... 
                       वहाँ चने का दाना था रखा 
                       और वह झांक रही थी 
                       गमले के पीछे से, 
                       बिस्कुट का आख़री टुकड़ा उठा 
                       शहतूत के पेड़ पर ले जा 
                       खाते हुए वह बार - बार 
                       देखती मुझे और उस 
                       चने के दाने को.... 
                       दाना उठा मै सोचती हूँ 
                       गिलहरी का दिया गिफ्ट..... 
                       हंसती हूँ आसमान की ओर 
                       देखते हुए..... सोचती हूँ -
                       कितना ऊँचा और गहरा है..... 
                       गिलहरी का दिल भी...... 
 
                       गौरयाँ आ रही है 
                       पानी पीने...... 
                       गर्मी बढ़ने लगी है, 
                       दिन लम्बे और शामें  
                       हो रही हैं छोटी, 
                       चीटियाँ जा रही हैं 
                       लाइन से कही.... 
                       क्या होगी फिर से बारिश.... 
 
                       धूप से बंद होती आँखें 
                       हवा के झौकों से खुल जाती है.... 
                       कही बरस रहे होंगे बादल.... 
                       आसमान खाली लगता है 
                       पर एक पतली परत है ऊपर 
 चीलें उड़ रही हैं वहाँ 
  दिन ढलते - ढलते 
                       लौट आयेंगी नीचे 
                       इस धूप से तपी 
                       ज़मीन के गर्म आसमान में..... 
 
                       तितलियाँ उड़ रही है 
                       इस गर्म धूप की 
                       नर्म - गर्म हवा में..... 
इंतज़ार है बारिश का 
                       नहला दे जो इस 
                       गर्म धूप और नर्म - गर्म हवा को...... 
                       जो उड़ रही है 
                       तितलियों के पंखों पर..... 
 और ये गर्म धूप 
                       जो फैली है किसी 
                       अक्खड़ प्रेमी की बाहों की तरह.... 
                       धुल जायेगी और निखर जायेगी...  
                       आयेगी इसमें लचक..... 
                       पर बारिश कहाँ है!!! 
 
                       क्या दूर.... कहीं दूर बरस रही है... 
                       शायद लौट आये वह 
  फिर पिछली बार की तरह 
                       अगर भेजूं जो एक चिठ्ठी 
                       उन बंजारे बादलों को..... 
                       हवा के परों पर!!! 
 

                                   22.4.2015 /10:00 एक रात और 
                                   23.4.2015 / 3:40 ढलती दोपहर का ये सफर.... 
                                बादलों के आने और बारिश की न खत्म होने                                                                  वाली बातों का सफर..... 


Thursday, April 9, 2015

चलते-चलते कह दे इक बात- 'हवाओं के घरोंदो में तूफानों का घर है'

            
                                जाने - अनजाने में 


समय बीत जाता है 
समय बीत रहा 
हर पल...., 
हवाओं के घरोंदो में 
तूफानों का घर है!!! 

हर पल दौड़ते - भागते 
ये सैकण्ड और मिनट 
जाने कितने होंगे.... 
आज तक गिना नही... 
पर गिनते है हम 
हर - दिन हर -पल 
बीती - बिताई - बातें... 
उनके ढेर के नीचे 
दब गयी.... 
कोई बात उभर आती है 
कभी - कभी...... 
तेज़ हवा का झौंका  
भीगो जाता हैं उनसे, 

छोर ही नही मिलता... 
कही तो कोई कोना होगा... 
कोई धागा ही उधडा हो... 
या कोई निशान लगाया हो 
कभी पीछे... जब बुनी थी 
वो बात जाने - अनजाने में, 

सोचते - सोचते 
दिन गुजर गये.... 
रातें गुजर गयीं..... 
इसी उधेड़ - बुन में 
कहाँ होगा इसका सिरा..... 
सिर टिका दिया 
अपनी ही बाहों पर.... 
आईना गौर से देखता रहा 
और मै आईने को....... 
आँखें बंद किये 
सोचा - ढूंढा - याद किया 
मगर कुछ नही.... 
कुछ भी तो नही......!!! 

आज जाने क्यों 
वो बात फिर वहीं 
वापस रख दी 
जहाँ से निकाली थी..... 
कई बातों के ढेर में 
अब वह यूँही दबी रहेगी.... 
शायद कभी याद ही 
न रहे कि कोई बात थी.... 
कोई अधूरी बात 
जो हुई थी कभी 
जाने - अनजाने में!!!! 

9.4.2015/ 10:40 एक दिन एक सुबह
                                                 07:20 और एक शाम... 
दोपहर देखती रह गयी 
दो पहर मिलते हुए...!!