Monday, March 23, 2015

छप्पन छुरी कहानी में से - कुछ लोग अपना कद ऊँचा करने के लिए किसी की लाश पर भी खड़े हो सकते हैं..

                                                    सबके रंग हज़ार 


जब नज़र कमज़ोर हो 
तब देखने के लिए 
चश्मा पहनना 
किसी ओर का..... 
साफ दिखेगा नही 
सर में दर्द भी देगा और 
नज़र और भी कमज़ोर कर देगा, 

अपनी आत्मा की नज़र से 
कभी खुद को देखा है... 
खिड़कियाँ बंद कर 
झांकना दुनियाँ को.... 
धूप आज भी 
गर्म - ठंडी है और 
लगती है भली दूर से..... 

कुछ लोग दूर से ही 
लगते है भले.... 
ज़हर से मीठे 
और भले इतने 
जैसे कोई छुपा हुआ 
हंसीन गहरा गुनाह हो... 
हाथ पकड़ कर 
राह भूला देंगे 
कहीं अंधेरे में गुमा देंगे, 

उनकी गिनती 
खुद उनसे शूरू होती है... 
....खत्म होती है अपने पर... 
वो सिर्फ अपने लिए ही होते हैं... 
समुंद्र में तैरते 
हिमशैल से होते है... 
जितने दिख रहे होते हैं 
कहीं ज्यादा डूबे हुए होते हैं... 

दुनियाँ एक झान्झरोखा है 
लोग क्या हैं.. 
क्यों हैं और कैसे हैं... 
किसी को जानना है 
यूँही... तो फिर 
अपनी नज़र से देख... 
सबके रंग हज़ार....!!! 

22.3.2015/ 4:40 शाम एक कल थी  
23.3.2015/ 5:00 शाम एक आज है 
खामोशी से अच्छा कोई सुर नही.... 
तेरी हंसी से अच्छा कोई साज़ नही....  




Saturday, March 21, 2015

प्रिय लारा और बहुत अच्छे मित्र स्व. संजीव की याद में...


                                  फिर मिलेंगे 
 
 जब सच में 
  होता है प्यार... 
  जीतते - जीतते भी 
                                 सब हार जाते हैं हम..... 
 खामोशी से लौट जाना 
 फिर अपनी राह पर 
                                 फिर कभी न 
 लौटने के लिए, 
 
 बादल लौट रहे है 
  छुट्टियों से फिर 
 यूँही बरसने के लिए... 
 आसमान भर गया 
                                 उनके आने से, 
  चिठ्ठी  भेजी थी बारीश की 
                                 बादलों के पते पर... 
   वो साथ ही ले आये उसे, 
 
         पर... लिखे जो खत तुझे 
                                 अपने ही पते पर 
   किये पोस्ट फिर 
   याद आया जो पते 
   संभाले थे सबके 
   वो कहाँ खो गये!!!! 
 
   आह! कुछ खो गये 
   कुछ पुराने है... और 
                                 जो पुराने दोस्त थे 
   वो कही दूर जा बसे 
                                 और जो करीब है 
   उनका खो जाने का डर 
                                 उस दिन हो गया गहरा 
                                 जब यूँही मिले एक दिन 
                                 फिर कभी न मिल सके.... 
 
                                 उसकी तस्वीर के पास 
गुलाब के फूल रख देखा 
    उसका वो हंसता चेहरा 
                                 रोते हुए तब 
     सर्दियां आ रही थी... 
     यूँही मौसम बदलते रहेंगे 
                                 और हम सब बस ऐसे ही 
                                 मिलते - बिछड़ते रहेंगे.... 
 
                                 जो हाथ रखा है 
                                 दिल पर वहीं कुछ 
                                 रह जायेंगे और जो 
   ख़्वाब से मिले हमको 
                                 वो नींद की गहराइयों में 
                                 गुम कोई आंधी से 
                                 धूल की तरह उड़ जायेंगे..... 
 
                                 धूल छट जायेगी 
                                 कुछ साफ दिखेगा.... 
                                 बस यही कि 
                                 होना जरूरी है चाहे 
 कही भी हो तुम... 
 करीब होने से कही ज्यादा 
                                 तेरा होना जरूरी है....!!
 
                               15.3.2015/ 2:00 दोपहर बादलों वाली... 
                                                    आँख भर देखा 
इक-दूसरे को.... और 
हवा छू कर गुज़र गयी... 




Friday, March 13, 2015

उलझन सुलझे न




                                         नींद 
 
नींद भी एक उलझन है 
अपने में उलझा ही लेती है, 
बहुत कोशिश की मगर..... 
आंख खुली तो 
सर टेबल पर टिका... 
किताब पर रखा पाया, 
फर्श ने पेंसिल सम्भाली हुई थी 
रंग बिखरे हुए.. 
पेपर फैले हुए थे, 
चिपक के अंदर झाँकती 
एक गिलहरी चाहती थी 
कुछ कहना शायद 
दूसरी टेबल पर रखे 
अंगूर चाहिए थे उसे, 
झगड़ रही थी 
ढेर सी गौरयों की आवाज़ 
भी आ रही थी 
शायद उन्ही की आवाज़ से 
टूटी थी नींद, 

नींद उलझन भी है और 
एक बेवफा प्रेमी भी है 
जो दिखाता है झूठे सपने 
और उन सपनों में 
डरता भी है... खैर 
फर्श को थैंक्यू कहा.. 
मेरी पेंसिल, पेपर और 
ढेर रंगों को सम्भालने के लिए... 
और रख दिए थे अंगूर 
उस छोटी - मोटी सी 
गिलहरी के लिए खिड़की से बाहर, 

आसमान दोपहर में 
बादलों वाला था 
उतर रहीं थी चीलें 
गोल - गोल घूमती हुई, 
अभी भी नींद उलझा रही है.. 
सुबह आस - पास है 
सो जाना चाहिए.... 
सपनों की डोर कहीं 
उलझ रही है 
नींद की उलझन है शायद....!!! 

12.3.2015/ 2:20 सुबह की 
रोशनी में देखना चाहा था 
तुमको.. पर नींद की उलझन 
उलझा रही है... सपनों की डोर 
तुम थामे रखना...!!



Thursday, March 5, 2015

यूँही बेख्याली में छू लेते तुम कोई ख्याल...


  वो गीत तुम्ही तो हो 
  
  वो गीत जो कभी 
   गाया ही नही गया.... 
  वो समय जो कभी 
  बिता ही नही.... 
                            वो उम्र जो कभी 
  बढ़ी ही नही कही...
  उस उम्र के उस 
  दिन में वो गीत 
  सुना था मैंने....
  जब समय की रफ्तार 
   थम गयी वो पल 
   जीया था मैंने, 
  
    रात के हर पहर में 
     आवाज़ देती हवा, 
     ठहर - ठहर जाते उसके कदम 
           जब झांकता चाँद बादलो से 
                            खिड़की के अंदर... 
                            क्या सोचता होगा!! 
                            कौन सो रहा है चादर ताने,
                            नींद से भारी आँखों को 
  धीरे से मूंद लेता चाँद, 
  चलती हवा और ये ठंडक है... 
                            खींच कर बादलों की चादर 
  ओढ़ कर सो जाता, पर 
  खींच कर चाँद की चादर 
                            हवा मुस्कराती है, 
  
    अकेले डोलती 
     पत्ता - पत्ता 
           बादल - बादल
                            बस यूँही बहती जाती है, 
                            रात की फैली गहरायी में 
                            गुमसुम सी बही जाती है, 
                            झाँकती हर खिड़की के अंदर 
                            और फिर दूर चली जाती है, 
                            चिड़ियों के घरोंदों 
                            और डोर से लटकी 
                            पतंग को झूलाती 
    इधर से उधर बही जाती है, 
  
                            सुनो हवा, आज सुन लो 
    वो गीत तुम्ही तो हो 
    जिसका आलाप कोई 
    ले न सका.... 
    तुम्हारी उम्र कही बढ़ी नही, 
    बस तुम अपने ही 
                            आगोश में लिपटती 
    मानों आँखें बंद किये 
                            कहीं शून्य में ठहर गयी हो.... 
                            समय रूक गया और 
                            तुम देखती रही 
                            दुनियाँ को यूँही 
                            बढ़ते और बदलते हुए!! 
  
                            19.10.2014/ 3:25 सुबह 
                                 कोई दिन ऐसी आती 
                                 जो पूछते कोई सवाल.... 
                                 यूँही बेख्याली में 
                                 छू लेते तुम कोई ख्याल...!!