Sunday, December 13, 2015

रात की बात बताएं क्या, अँधेरे यूही घबराये से रहते हैं.....


                                                  प्यार खुशबू चन्दन सा
                         

                                         नही कोई बात है
                                         नही कोई दिन है
                                         नही कोई रात है.......
                                         बस यूहीं हम से फिर मिलो तुम
                                         ऐसे... जैसे, पहली मुलाक़ात है....
                       
                                         थाम कर चलना तुम
                                         बातों के हर.. सीरे....
                                         बाँध कर चलना तुम
                                         छूटते हर लम्हे.....
                                         और बस यूहीं कहीं
                                         राह बीत जायेगी...
                                         फिर यूहीं - ऐसे ही
                                         तुमको याद आयेगी...
                                         ये मुलाक़ात - ये बात
                                         और दिन और ये रात......
                       
                                         नही कोई बात है....
                       
                                         सोचते -सोचते क्या.. तुम
                                         आज भी ...........
                                         सोचते -सोचते क्या तुम
                                         आज भी -
                                         हवा सी लगती हो
                                         किसी ठंडी रात की....
                                         जब कहती थी तुम
                                         बांह मेरी थाम के...
                                         प्यार खुशबू चन्दन सा -  पर
                                         लिपटे हैं सांप भी..
                       
                                         नही, नही, नही, नही कोई बात है
                                         बस कोई उलझी सी
                                         अधूरी सी बीती याद है...
                       
                                         2.12.2015 / 8:50 रात की
                                         बात बताएं क्या... अँधेरे यूहीं
                                         घबराये से रहते हैं.....

Saturday, December 5, 2015

बिल्ली - चूहे की लुका-छुप्पी.... "मैं आऊ-मैं जाऊं"


                                          प्यारी बिल्ली   vs  प्यारा चूहा
                       
                       
                                    भागो जी मैं हूँ आँऊ......
                                    बिल्ली बोली - 'मैं खा जाऊं'....
                       
                                    भागा चूहा.... बोल रहा था
                                    मैं न डरता....
                                    बस मैं शरमाऊं......ऊँ......
                                    ऐसी - ऐसी बिल्लियों को
                                    मैं जंगल से दूर भगाऊं......
                                    ये थोड़ी प्यारी सी है
                                    इससे छुपता.... मैं शरमाऊं...ऊँ...
                                    भागो जी मैं हूँ आँऊ
                                    बिल्ली बोली - 'मैं खा जाऊं'
                       
                                    सुन कर चूहे की बातें
                                    बिल्ली बोली - न शरमाओ
                                    प्यारे चूहे तुम भी प्यारे
                                    रात को खाने पर घर आओ...
                                    देके मूछों पर ताव
                                    बिल्ली बोली - इक बात बताओ
                                    खाने में तुम क्या हो खाते ....
                                    कभी न मिलने तुम घर आते....
                                    सुबह सैर पर कब हो जाते...
                                    आओ जी, जरा सामने आओ
                                    मुझ से अब तुम न घबराओ...
                       
                                    सुन कर बिल्ली की बाते
                                    लग गई हिचकी चूहे को
                                    ... हीक ची ... हीक ची.... हीक ची....
                                    डर कर लेता लम्बी वो साँसे
                                    हूँ हा.... हूँ हा.... हूँ हा.....
                                    सोचे अपना अब वो डर
                                    कैसे-किससे-कब बांटे
                                    सांस थाम कर फिर चूहा बोला-
                                    'प्यारी बिल्ली तुम हो प्यारी
                                    करती कितनी प्यारी बातें',
                                    जाओ जी, मैं घर आ जाऊं
                                    साथ में अपना मामा लाऊं...
                                    शेर अंकल को प्यारा सा है
                                    मामा मेरा न्यारा सा है....
                                    चाप स्टिक से खाता है
                                    एक सांस में बस दो - तीन बिल्ली
                                    प्यारी सी चट कर जाता है....
                                    अब तुम बोलो क्या मैं आऊ
                                    साथ में अपना मामा लाऊं.....
                       
                                    सुन कर चूहे की बातें
                                    बिल्ली बोली - माँ..यां......ऊँ.....
                                    म्याऊँ...म्याऊँ...........म्याऊं.....
                                    आना हो तो फिर फोन करके आना
                                    साथ में अपना मामा लाना...
                                    पर भूल गयी हूँ
                                    मैं अपना नम्बर, ठहरो
                                    पहले वो मैं ले आऊ....
                                    म्याऊं जी - मैं लौट के आऊ... 
                                    प्यारे चूहे, अब मैं शरमाऊ...ऊँ .....
                       
                                    डर कर भागी बिल्ली आगे
                                    चूहा भी फिर जोर से हांफे
                                    हूँ-हाफ ....हूँ-हाफ...... हूँ-हाफ ....
                                    जाऊं जी, मैं तो जाऊं
                                    दूर - दूर मैं जाऊं
                                    पर इस जंगल में
                                    मैं तो - अब तो
                                    फिर लौट के अब न आऊ!!! 
                       

Saturday, October 31, 2015

रोशनी आयी है बांह थाम कर अंधेरों की...रहे अँधेरे झांकते दिनभर दरवाज़ों के अधखुले पल्लों से...

                            दिन चमकीले उजालों का 
  
                         सुबह की रोशनी 
                         फैल रही थी 
                         उबासीयाँ लेती हुई..... 
                         हल्की सी ठंडक 
                         और ख़याल आया 
                         सर्दियों का......... 
                         इस बार जल्दी ही 
                         आ जायेगी ठंड 
                         अपनी छुट्टियों से 
                         वापस फूलों और 
                         हवाओं के मौसम में......, 
                         हाथ बढा छुआ 
                         शहतूत की पत्तियों को 
                         गीली - ठंडी हरी पत्तियां... 
                         तितलियाँ इतनी सुबह 
                         उडती - घूमती - ढूँढतीं 
                         फूलों के घर और 
                         पत्तियों का शहर.... 
                         धीरे - धीरे रोशनी 
                         चमकीली और गर्म 
                         हो जायेगी......... 
                         थाम कर हाथ मेरा 
                         कहना मुझसे..... 'अरे कहाँ 
                         गुम हो इन पत्तों में.....' 
                         दिन चमकीले उजालों का 
                         रात हर बार छोड़ जाती है 
                         पेड़ों की पत्तियों पर... और 
                          तितलियों के पंखों पर....!! 
   
                            16.8.2015/ 5:50 सुबह, 
                            रोशनी आयी है बांह थाम कर 
                            अंधेरों की... रहे अँधेरे झांकते दिनभर 
                            दरवाज़ों के अधखुले पल्लों से....

Monday, July 27, 2015

एक खामोश आवाज़ के लिए

                               
                                                          
                               एक अहसास और दूसरा अहसास 
 

क्या कर रहे हो तुम.... 
                           कुछ पढ़ रहे हो... 
सुन रहे हो कुछ... या 
कर रहे हो अपने इस 
दुश्मन से नफरत.... 
 या हो नींद में भी 
 परेशान... तुम्हारी 
 गहरी खूबसूरत आँखों पर 
छाये ये काले घेरे.... 
                           सोते नही हो चैन से... या 
                           रहने नही देते लोग 
चैन से.... क्या 
तुम खुश हो.... क्या 
खुश रहे बीते सभी 
सालों में तुम... 

रात के सन्नाटें में.... 
बादलों से भरा आसमान..... गहरा 
और गहरा रंग..... खामोशी का.... 
                           तेज़ धीरे सरसराती ये हवा..... 
पानी के बुलबुलों से 
                           फूटते बनते और आते जाते 
                           ये ख्याल...... 
 
एक दिन समुंद्र की 
                           टकराती लहरों को 
                           देखते..... एक अहसास 
टकराया दिल के 
किनारों से और आत्मा को 
भिगोता चला गया...... 
सारा गुस्सा सारी नफरत..... 
दुःख और फिर खामोशी में 
                           बदलती चली गयी.... इस तरह 
बीत गए कई साल खामोशी में... 
खामोशी की आवाज़ सुनते 
रात के अँधेरे में  देखते
आसमान में फैले बादल और 
हवा की गुनगुनाहट सुनते हुए.... 
 
उस अहसास से उबरते 
किसी दिन... दूसरा अहसास 
बहा के और दूर ले गया.... 
वो तुम्हारा मुरझाता चेहरा... 
वो सुंदर आँखों के काले घेरे.... 
वो तुम्हारे बनते बिगड़ते 
                           बेचैनी भरे अजीब से रिसते
रिश्ते..... साथी - सपने और 
वो ढेर सारी खड़ी की हुई 
उलझने..... और उलझती हुई.... 
जगाती  होंगी  टाईम बे-टाईम..... 
 
ये इतनी सारी भीड़ जो 
फैली है अपने परायों की..... 
उनका शोर... तुम्हारे मन की 
  खामोशी..... दिन और रात 
कहाँ गए तुम्हारे.... 
उस भीड़ का हिस्सा बन 
                           तुम्हारी बेचैनी बढाने का 
कभी मन नही मेरा.... 
खामोशी से दूर 
चले जाना कही अच्छा है...... 
 
जब कभी आसमान पर 
छाये बादल और चले  हवा 
 तो.... देखना नज़र उठा 
उस ऊँचे आकाश को..... 
भूल जाना सारी भीड़ को.... 
मुस्कराना अपने लिए.... 
बस ऐसे ही...... 
किसी अहसास के लिए.... 
एक खामोश आवाज़ के लिए 
जो तुम सुन न सके कभी.... 
तुम्हारे अपने मन की आवाज़.....!!!
 
27.7.2015/ 3:44 सुबह 
                                  उन गहरी खूबसूरत आँखों के लिए 
 जिनकी मुस्कराहट कहीं गुम हो गई...
          






Saturday, July 25, 2015

लोग परछाईयों में जाते हैं बदल...

                                                      आलाप 
      
                                              जागती रात है और 
                                              खामोश है दिन का 
                                           सफर.... हवा ले रही 
आलाप... मगर धीरे से 
कोइ सुन न ले.... 

लोग परछाईयों में 
जाते हैं बदल... 
समा जाते है 
हवाओं में.... 
कोई दिन नहीं 
रात नहीं 
कोई आहट नहीं.... 
बस सरसराहट है 
पत्तों की.... जो 
सरकते है हल्के से 
हवा के झौंके से.... 
पुकारता है कोई शायद... 
पलट कर देखा 
सिर्फ हवा थी..... 
सिर्फ हवा..... कोई 
आहट नही..... सरसराहट है 
पत्तों की... रात 
बारिश की.... 
भीगती रही चुपचाप यूहीं... 
कोई अंजान सी 
जानी पहचानी आवाज़ 
भीगती रही बारीश में.... 
ख्वाबों में कहीं... तुम्हें 
देखने सुनने की चाह में 
रात की नींद उड़ गई.... 
बिखरे पानी में अक्स 
अँधेरे उजालों के... रातभर 
हवा लहरें बनाती... गुनगुनाती  
बहती रही... और बस कुछ नही 
सरसराहट है पत्तों की... हवा 
ले रही है आलाप.... मगर 
धीरे से.........!!! 

6.7.2015/ 4:06 सुबह 

Saturday, June 20, 2015

हवाओं के मौसम में


                                  डेंडिलायन के फूल 
  

                                 उडाओ.... 
                                 फूंको उनमें जान 
    हर फूंक पर होगा 
                                 एक सपना पूरा..... 
  
                                 हवाओं के मौसम का 
                                 करते इंतजार... 
                                 गर्मियों की धूप से पहले... 
                                 हवाओं के काफिलों को 
                                 सर उठा देखते एकटक.... 
                                 हवा के झौंकों पर 
                                 उड़ते.... वो सूखे बीज 
                                 ढेर छतरियों की तरह 
                                 फैल गये हवा में.... 
  
                                 जायेंगे दूर-दूर 
                                 और बहुत दूर तक.... 
                                 एक नयी जमीं की 
                                 तलाश में..... हवा में फैले
                                 वो सैकड़ों - हजारों फूल..... 
  
                                पीले सूरज जैसे.... 
                                 सफ़ेद चाँद की तरह... और 
                                 फिर बिखरते तारों का 
                                 ये सफर.... अनोखा... अदभुत....   
                                 आकाशगंगा में जन्म लेते 
                                 अनगिनत तारों की तरह..... 
  
                                 धूप... पानी... और मिट्टी 
                                 देगी उन्हें फिर से 
                                 एक नया जन्म.... 
                                 उगेंगे फिर सैकड़ों - हजारों पौधे 
                                 और मौसम आने पर 
                                 फिर खिलेंगे..... मुस्कराते 
                                 आँखे झपकाते.... 
                                 हवाओं के मौसम में... छूकर 
                                 बहती हवा पर सर हिलाते....
                                 हंसते सुंदर पीले ये और वो 
                                 यहाँ से वहाँ तक फैले 
                                 डेंडिलायन के फूल!!! 
  
                                12.6.2015/11:20 रात के पहर 
                                20.6.2015/3:15 दोपहर बाद 
                               हवाओं के मौसम में 
 
   

Wednesday, June 3, 2015

बेआवाज़ गुज़र जाता है समय.... बंद मुठ्ठी की फिसलती रेत की तरह


अगर मै समय होता 

  सोचने वाली बात है! 
खैर, अगर तुम समय होते तो.... 
तब भी वही करते जो 
तुमने किया..... सबकी 
जिन्दगी उलझाते और बस 
रहते यूँही परेशान..... पर 
अगर सच में तुम यूँ 
उलझाके सारे रिश्ते 
लौटते फिर वही.... तो 
क्या.......चाय में दूध 
कम डालते!!!... पर वो चाय 
सब से अच्छी थी..... पर 
अकड आज तक बुरी है!!!! 

हम लौट जायेंगे इन 
समय की यात्राओं से 
फिर वही अपनी-अपनी 
ज़िन्दगी की खिडकियों से 
झाँकने के लिए.... हमारे 
आस-पास फैले लोगों के 
इस सैलाब को... जो डूबो देना 
चाहता है हमारे ख्यालों को.... 

ख्याल जो रूकते नही.... 
वो तैर रहे है हर पल 
सोते....जागते...उठते....बैठते... 
देखते....सुनते...बोलते....हंसते... 
जो अब तक नही डूबे... 
शायद हम घिरे है 
चालाक और शातिर लोगों से 
जो हमारे बन के... हमे... 
हम से ही दूर कर रहे है.... 

बेआवाज़ गुज़र जाता है 
समय.... बंद मुठ्ठी की 
फिसलती रेत की तरह...... आज 
कल में और कल आज में 
बदल जाता है.... मुमकिन है 
समय कभी लौट आये... मगर 
क्या यादें भी बदल जायेंगी... या 
लौटेंगी एक नया रूप लेकर... 

आज सिर्फ यादें है... बाकी 
सब कुछ बेमानी सा लगता है....
तुम क्या चाहते हो.... 
कहो अगर कह सकते हो... 
चाहे कितनी बड़ी हो ये 
दुनियाँ.... मगर कर 
सकता नही कोई  
यादों से मेरी....बेगाना तुम्हें!!!


3.6.2015/ 5:00 शाम है.. 
बादलों से पूछती हवा... क्या 
कोई ज़वाब है..... 

Friday, May 29, 2015

एक दिन सब बीत जाता है.... जिस तरह प्यार बीत गया... एक दिन नफरत भी बीत जायेगी....



चलो गिनों आज तुम 


जाने से पहले 
उन सभी यात्राओं पर 
जहाँ चलना पड़ेगा 
फिर अकेले..... क्या 
लौटते है पहले हम 
या देखते भी नही 
बस चल पड़ते है...... 

हवा तेज है.....
कुछ सुनती नही..... 
उसने कभी सुना भी नही..... 
न जाने क्या 
कहती... बह रही है.... 
हम सुन पाते 
उसकी बात..... समझ पाते 
उसकी हर आहट का 
मतलब.... शायद हम 
ज्यादा महसूस कर पाते 
हर ख़ामोशी का मतलब..... 

चलो गिनों आज तुम 
आँखें बंद कर 
सारी गिनती...... याद है 
तुम्हे जितनी..... देख 
हैरान हो.... सुन कर हो 
परेशान मेरी बात.... 

अच्छा तो गिनों 
अपने सारे वो झूठ 
जो बोले है तुमने 
अपने आप से..... 
स्टोर में कही 
ढेर सामान के पीछे 
नोस्टाल्जिया से भरा 
कोई सामान नही हूँ.... 
जब कुछ ढूढ़ने गये 
तो याद आया....... 
आह! ये तो वो है..... 
फिर बंद कर रख दिया 
वह डब्बा वापिस..... 
न जाने कितनी 
सदियों के लिए...... 

चलो बात वही 
ले चलते है 
जहाँ से हुई थी शुरू.... 
यात्राओं पर जाते हुए 
हम लेते है विदा...... 
अगर हो कोई.... आये पीछे 
हाथ थाम... ले आख़री 
महक..... देखता हो 
आँखों में..... बिन कहे 
कहता हो.... फिर मिलेंगे....... 

चलो, अच्छा तो गिनों 
तुम अपने वो आंसू 
जो गुस्से..... और गुस्से 
ढेर सारे गुस्से में 
बहाये है तुमने..... 
                          ओह!!! तुम बड़े हो गये...  
भूल गये सारी गिनती..... 
तुम क्या सोच रहे हो..... 
हमेशा की तरह....... 
सोचते क्या हो.... 
देखते कहाँ हो.... 
बातें कहीं और..... 

अच्छा तो लिख रखना 
सारी गिनतियाँ..... सारे झूठ... 
सारे आंसू...... और जो भी 
आये याद तुम्हे.... जब भी.... 
एक दिन..... जब यूहीं...... 
कहीं भी..... कभी भी.... 
मिले तो दे देना 
हिसाब सारा...... नही तो 
बहा देना उसे नाव 
बना..... किसी बर्फीली 
घाटी की तेज़ बहती  
ठंडी हवा की नदी में.....!!! 

15.5.2015/ 10:05 रात बीत जाती है 
दिन के बिना.... एक दिन सब बीत जाता है,
जिस तरह प्यार बीत गया.... 
एक दिन नफरत भी बीत जायेगी.... 





Saturday, May 2, 2015

कोई तो नाम याद आये किसी चेहरे का

                 

अजनबी चेहरे 


याद रह गये 
अजनबी चेहरे..... 
हर चेहरे की कहानी 
कोई नयी नही.... 
पुरानी भी नही.... 
बस सुनी जा सके 
ऐसा भी नही था 
पर कई चेहरे थे 
नाम याद न रहा उनका..... 
चेहरे ..... बस याद 
रह गये वो चेहरे, 

कभी मिल जाये 
भी तो क्या होगा.... 
एक बार पलट कर 
देखा तो ख्याल आया 
शायद देखा था कहीं...... 
पर कहाँ.... याद नही..... 
वो पल..... वो पहर.... 
वो सड़क..... कुछ भी तो 
याद नही..... हर मोड़ पर 
मुड़ गये वो चेहरे..... 
वो खूबसूरत चेहरे..... 
हसीन मुस्कराते चेहरे..... 

भीड़ में गुम हो गये 
आँखें झपकाते चेहरे..... 
खूबसूरत आँखों से 
हैरान देखते मुझे... 
आईने के इस पार 
और उस पार के चेहरे, 
उंगलियों से छू कर 
तेरे चेहरे को..... 
बंद आँखों में डूबते 
उतरते वो चेहरे.... 

नाम देते उन्हें या 
पूछते उनका नाम..... 
ख्वाबों - ख्यालों में 
गुम होते चेहरे...... 
कहीं दूर..... बहुत दूर 
पीछे छूट गये 
वो अजनबी चेहरे!!! 

2.5.2015/ 5:30 इस शाम का 
सफर अब चल पड़ा..... अब तो 
मुस्कराओ.... के हम दूर जा रहे है तुझसे....