Saturday, July 12, 2014

दिन ढलता जाये परछाईयों मे


  
                      मै हूँ परछाई ....
 
धूप की परछांईयों मे
गुम है परछाई मेरी,
मैने टटोला है 
दिन को, और 
देखा है आंसमा की ओर, 

बिखरे पत्तों को 
हटा कर ढूँडी है 
अपनी परछाई,
रेत मे झांक कर 
ढूंडा है अपना अक्स...
जैसा खेलता है 
बिल्ली का बच्चा 
अपनी ही परछाई से ....

उम्र के साथ 
रंग ढलती तुम्हारी 
आँखों की पुतलियों मे....
मैने देखा है 
अपना चेहरा मुस्कराता हुआ,

तुम्हारे चेहरे की लकीरों मे
मैने देखा है गुजरते 
समय को, और 
तुम्हारी परछाई में
देखी है अपनी परछाई,

सुबह की परछाई को 
दोपहर की गर्म हवा मे
बदलते देखा है,और 
ढलते दिन को 
खामोश रात के 
घर मे देखा है....

यूही खो जाती है 
अंधेरे मे परछाईयाँ.....
रोशनी बिन नही 
बनती है परछाईयाँ ....
तुम मेरे दिन हो..... और 
मै हूँ परछाई...... !!!

                           23.6.2014 / 3:40 ढलती दोपहर

Sunday, July 6, 2014

जिन्दगी एक सर्कस है


 
 
                            चलो ...चले ... चलते हैं..
 

                           ऐसा लगता है, मानो 

                           कुछ लोग निकले है 
                           मिस्त्र की खुदाई मे,
                           हजारों साल पहले 
                           संरक्षण करते हुए 
                           जिनका मस्तिष्क 
  दिया हो निकाल,
 
                          वो करते है 
                          बाते ही कुछ ऐसी, या फिर 
                          लगते है किसी सड़क के 
                          कौने मे या संकरी 
                          गली में लिए बैठे 
                          भारी लोहे की सिलाई मशीन....
                          कोई दरजी.....,
 
                          जो उधेड़ता हो पुरानी 
                          पैंट या कोट, और 
                          करता हो फिर से सिलाई...
                          बेदर्दी से एक - एक तार 
                          सिलाई का उधेड़ता हुआ 
                          देखता हो दांय - बांय,
 
                          उधडती सिलाई से उडती 
                          धूल मे दिन बिताता ..
                          देखता है हर 
                          आने - जाने वाले को, मानो
                          पूछता हो ....
                           है कोई पुरानी पैंट...
                           कपड़ा नये पजामें का,
 
                          हैरान हो!!! अरे ...
                          ऐसे ही होते है लोग,
                          पैबंद लगी अपनी 
                          जिन्दगी की पैंट 
                          भूल जाते है, मगर 
                          सामने वाले के नये 
                          कोट पर हंसते है 
                          अपने दांत दिखा कर,
 
                          वर्तमान से ज्यादा 
                          अतीत में जीते है,
                          पता नही जीते भी है
                          या भ्रम है उन्हें...कि वे 
                          ज़िंदा हैं, बहरूपिये हैं.....
                          रूप बदल लेगे सब,
                          सामने भी हंसके मिलेगे...और 
                          पीठ पीछे हंसी उड़ायेंगे,
 
                         क्या कभी उडायी है पतंग...
                         मांजे से कटी है हथेली.....और 
                         अंगुलियां.., दर्द 
                         याद है वो .....या भूल गये,
                         फिर भी हंसते हो औरों पर ....,
 
                         जिन्दगी एक सर्कस है -
                        रूप बदल कर दिखते है .....लोग,
                        रूप कई - रंग कई, या 
                        लोग है मदारी के बन्दर....
                        जो टटोलता है खेल ही खेल में 
                        आपकी जेब ....और 
                        चुपके से चुरा लेता है 
                            आपका बटुआ या घड़ी,
 
                        घड़ी!!! इसी तरह 
चुरा लेते है लोग 
                        हमारा समय, बेकार 
                        बेमतलब की बातो - बहस से,
                        दिन ढलता जाता है....,
 
चलो, चले, चलते है,
                        किसी नयी राह पर, जहाँ 
                        जानता न हो कोई, और 
 न मिले कोई मदारी का बन्दर......
                       खुदाई से निकले लोग न हो....
                        और न हो कोई दरजी पूछता,
 
                        धूप अभी गर्म है 
                        और तेज है -
                        खिड़की से झाँक कर 
                        दिन को गुजरते देखना,
चलो...चले....चलते है -
एक नये दिन की ओर -
 धीरे - धीरे आती 
                       इस शाम से जुडी रात के साथ !!!
 
 
                                    14.6.2014 / 10:30 रात 
                                    22.6.2014 / 3:40 दोपहर