Friday, April 18, 2014

बदलता है रंग आसमान


                              अपनी - अपनी जिन्दगी 
  
                              हम सब जीते है 
                              अपनी - अपनी जिन्दगी 
                              अपनी तरह से,
                              साल, महीने 
                              हफ्ते, दिन 
                              घंटे, मिनट 
                              सेकंड और 
   साँसे
  तेज और धीरे,
  
                              इतिहास बनाते है, या 
                              बन जाते है 
                              उसका हिस्सा,
                              देखते है निर्माण, और
                              उडती धूल और बालू,
  
                              आसमान बदलता है
                              रोज सुबह से रात तक 
                              कई रंग,
                              पर जाता नही वो 
                              किसी ओर,
                              सदियों से वह वही है 
                              फैला - अकेला,
                              देखता है समय को 
                              बदलते - बीतते,
  
                              लोग - मौसम
                              दिन - रात 
  सब कुछ तो 
                              बदलता रहा,
                              सब है पता 
                              पर कह नही पाता,
    शायद इसलिए 
  चमकती है बिजली 
                              गरजते है बादल,
  
                              हम कह सकते है 
                              मगर कहते नही,
                              वो जो कल थे 
                              हम वो आज है,
                              देशाटन से लौटता है 
                              इतिहास,
                              वर्तमान बन कर,
                              कई कहानियाँ लेकर 
                              करता है इंतजार 
                              नये इतिहास का !!
  
                                 16.4.2014 /  4:10 सुबह 

बस यूही, कुछ कहते सुनते


                                 आईने के उस पार 
 
 जब हम 
लौटते है 
उन लम्बी - अकेली 
टूटे रिश्तों की
यात्राओं से ...
फिर जुड़ने के लिए,
जान डालते हैं 
उन टूटे रिश्तों में 
                                  फिर एक बार, 
 
लड़ते - झगड़ते 
नफरत करते 
हम सभी,
 कई साल बस ...
 यूही बिखेरते हुए 
बढ़ते जाते है,
 
कितना अजब है
सब कुछ, और 
सबसे बड़ा 
 अजब है कि 
आईने के इस पार 
एक - दूसरे से 
नफरत करते हम 
आईने के दूसरी ओर 
होते ही नही,
 
हम बस एक ही 
पल है, और 
दूसरे पल कुछ भी नही,
किसी को कुछ 
याद न रहेगा
कुछ सदियों बाद, और
कुछ और यात्री 
फिर ऐसे ही 
लौटते होंगे,
कैसी irony है ये !!
 
 17.4.2014 / रात या सुबह 1 बजे

Tuesday, April 8, 2014

बस यूही बदलता है मौसम

                                                     

                                  धूप की परछाईयाँ 
 
 दोपहर की खामोशी में 
 ली थी धूप की 
                               कुछ तस्वीरें,
 
 झड़ते पत्तों की 
                               खनखनाहट, और 
  लहलहाती हवा से बनी 
 उन पत्तों की सरसराहट,
 
 झाड रहा है नये 
 मौसम के लिए
    इस मौसम मे
                             बोगनवेलिया अपने 
                               सारे चमकते 
                               गुलाबी फूल,
 
                               धूप और पत्तों की 
  छाँव से बन रही थी 
          खेलती परछाईयाँ,
                               बिखरे फूलों को 
                               और बिखेरती 
 एक मैना 
                                चलती हवा से चौकती है,
 
                                धूप की परछाई पर 
   चलती है हवा 
 और धीरे से,
                                उसकी चहलकदमी पर 
  हैरान थी 
 खामोश दोपहर,
                                नींद से भारी 
 आँखों को खोला उसने,
 
                                क्यों नही सोती
                                ये हवा भी 
 हर दोपहर मे,
                                खेलती रहती है 
 धूप - छाँव की 
                                इन परछाइयों मे,
 
 पलटती है बेचैन हो 
                                डायरी के सारे पन्ने,
                                बिखेर देती है 
                                मेज पर पड़े 
 सारे पेपर, जब 
 कुछ नही पाती है -
 कुछ अपने लिए - तो
 बेचैन सी घूमती है
 कोना - कोना, 
 
  फिर आ जाती है 
  खिड़की से बाहर, वहीं 
                                बोगनवेलिया के फूलों से खेलने, 
                                धूप और छाँव की बनती 
                                परछाई को पकड़ने, अपनी 
 बड़ी - बड़ी आँखों से 
                                बदलते मौसम को 
                                बदलते देखने,
 
 धूप की परछाई मे
 अपना रंग देखने, पर 
 वो हैरान है, कि
 धूप के पांव 
                                नही होते है, मगर 
                                धूप की है परछाईयाँ !!
 
                                  7.4.2014 / 10:06 सुबह

Tuesday, April 1, 2014

प्रिय, अप्रैल फूल



                                               बूढ़े प्रेमियों की दूकान 
 

                                     बूढ़े हो गये सारे....
                                     मेरे प्रेमी,
                                     टैक्स भरते हैं मार्च में, और 
                                     नये साल की बात करते हैं,
 
                                    सर्दियों में लगती ज्यादा ठंड, और 
                                    गर्मियों में उंघते हैं,
                                    न उठती हैं, उनसे वो 
                                    खानदानी तलवारे अब,
                                    काश तूशे... कहते वो, मगर 
                                    चाय के साथ तोशे खाते हैं,
 
                                    अब भड़कते नही वो 
                                    किसी बात पर, पर 
                                    धडकते है दिल उनके जोर से ,
                                    कहां नाचते थे फिरकनी से, वो 
                                    अब चौकते है थोड़े शोर से,
 
                                     तुम्ही बताओ करू क्या मै 
                                    अब उनका,
                                    वो कहते है... अब कहां 
                                    वो दिन...,
                                    वो क्या जाने 
                                     विरह की रातें काटी है 
                                     हमने तारे गिन,
 
                                   जाने ध्यान कहां रहता है, 
                                   भूलते है हर बात को,
                                   जब कुछ नही सूझता, तो 
                                   कहते है... आज भी लगती हो 
                                   तुम बड़ी प्यारी बच्ची...,
                                   समझ नही आता झूठ 
                                   कहने की आदत है, या 
                                   उम्र के साथ कहने लगे है 
                                   झूठी बाते भी सच्ची,
 
                                   सीधे कदम भी 
                                   उलटे रखते है,
                                   फिर भी कहते है...हम
                                   आज भी तुम से 
                                   बेपनाह मोहब्बत करते है, और 
                                   फिर जब कुछ नही सूझता तो 
                                   कहते है...छोडो जाने दो
                                   उम्र का तकाजा है...
                                   आज सब्जियों का मौसम है ...
                                   और फल भी ताजा है...,
 
                                  गुलाब के फूलों की नही 
                                  गोभी की बात करते है,
                                  बहाने ढेर से है,
                                  लगते बेर के पेड़ से है,
                                  जरा हवा का झौका, और 
                                  झड़ने लगे टपाटप,
 
                                 फूलों का क्या करोगी....
                                 जरा घूमा करो...... 
                                 झूला, झूला करो.....
                                 इस उम्र मे सैर जरूरी है.......
                                  मै नही चाहता ...
                                 तूम बूढी हो जाओ, और 
                                 अखरोट की जगह सिर्फ
                                 शोरबा खाओ, और 
                                 जाने क्या - क्या ........
 
                                 सुनाओ दो लाईने उन्हें, तो 
                                 उघने लगते है,
                                 अपनी ही उबासीयों में 
                                 झूमने लगते है,
                                 क्या करू इन नमूनों का,
                                 एक से बढकर एक है सारे,
                                 बूढ़े, बेर और बोर है सारे,
 
                                 क्या कोई है जिसे चाहिए 
                                 तो ले जाये....
                                 कोई दाम नही, पर 
                                 शाम होते घर छोड़ जाये,
                                 एक आदत सी है 
                                 जो रहेगी आख़री साँस तक, 
 
                                 बूढ़े प्रेमियों की दूकान है, सिर्फ 
                                 दिन भर के लिए,
                                 रात सकूं से बीते, इसलिए 
                                 घर लौट आये सारे .....
                                 राह तकते रहे हम,
                                 वो कहां ....
                                 हम ही है बेचारे !!
 
                                        6.3.2014 / 5:10 शाम,