Friday, February 14, 2014

सरे तस्लीम खम है, जो मिज़ाजे यार में आये

                                                 

                                        बारिशों में सांझ ढल गई 
 

और एक दिन 
बारिशों में सांझ ढल गई,
रंग बदल रहा था आसमां 
जिन्दगी बदल गई ...
सरकण्डों के जंगल में 
फूल खिल गए.......
 
सूखे - सूखे है सभी 
पांव गीले हो गए,
उलझ - उलझ कर चल रहे 
सुलझा रहा है बाल कोई,
साथ गर चल सको न 
पीछे - पीछे दौडिए ...
 
  और एक दिन 
बारिशों में सांझ ढल गई ....
 
कितने मौसम बीत गए 
सावन के इंतजार में,
  कितने शामे ढल रही 
बारीश की इस फुहार में,
पर आज ये कुछ कह गई...
 
 और एक दिन 
बारिशों में सांझ ढल गई .....
 
तुम से कुछ कह रहा है आसमां...
                                   तुम से कुछ सुन रहा है आसमां ....
नींद में बेखबर 
                                   तुम तो सो गए,
सपनों की ये लहरे 
नींद को भिगो गई ....
 
और एक दिन 
बारिशों में सांझ ढल गई ......!!
 
                                    14.6.1994  / शाम 
                                   11.7.2004  / रात 
                                            

                              ( एक पुराना और कुछ नया गीत)



Tuesday, February 11, 2014

कुछ अनकही सी कही बात

     
                                            ख़्वाब जो देखा है 

 

                               दूर जंगल से 
                               आती है हवा ...
खेतों से टकराके,
धीरे से खिड़की खोले 
पर्दों को हटाके .....
दूर जंगल से 
आती है हवा....

सपने जो देखें है 
नींद में छुपाके,
सच हो जाये जो 
सामने आके ....
फिर कहेंगे क्या..!!
उन्हें हम 
पास बुलाके ...
या फिर 
हैरां होगे 
उन्हें हँसके गले 
लगा के .... 

दूर जंगल से 
आती है हवा ..... 

ऊचाँ है जो 
आसमां, 
क्या उसको झुका दे ......
या फिर 
खुद चले उस ओर
आँखे झुका के ......

दूर जंगल से 
आती है हवा .....

नींद की गहरायी में 
ख़्वाब उठा है ....
उसमे जो आसमां है 
वो जमीं पर झुका है ....
आँखे झुकाये हुए वो 
चुप क्यों खड़ा है ....
ख़्वाब ये कैसा है 
क्यों जिद पर अड़ा है ....
आँखे न खोलू 
नींद न तोडू ...
ख़्वाब जो देखा है - ये 
दिल से जुड़ा है ....

दूर जंगल से 
आती है हवा ....
खेतों से टकराके 
धीरे से खिड़की खोले 
पर्दों को हटा के ....
दूर जंगल से
आती है हवा !!

                                             14.1.2014 /  5:00 शाम

Friday, February 7, 2014

Life is so beautiful

Dedicated to the wondrous wonders that are little kids 


Eddie Cantor-Little Curly Head In A High Chair

Wednesday, February 5, 2014

एक नाव कागज़ की : एक कविता वाली


                                              कविताओं का शहर 
  
                                     चलो बनायें एक 
                                     कविताओं का शहर,
     जहां खेत हों
                                     किनारे पर 
                                     लहलहाते हुए,
                                     झुके हों बादल जहाँ
                                     छूते हों जमीं को,
                                     चिडियों के झुंड
                                     जहाँ उड़ते हों
                                     हवा की लहरों की तरह,
  
  
     चीड़ के पेड़ हों घने 
                                    आसमान छूते हुए, और 
                                    गैस लाईट हों
                                    सड़क के किनारों पर, और 
     कतारबद्ध सी जगमगाती हों
     रात भर चलती 
                                    हवा के साथ,
                                    हिलते हों पेड़ 
                                    सांय - सांय करती 
                                    हवा की लहरों पर,
  
                                    गुजरती हो जहाँ 
   छोटी सी ट्राम 
    खेतों के किनारे से, और 
  होती बारीश में 
      रात के अंधेरे में 
                                    खिडकियों से आती रोशनी 
                                    बनाती हों पानी में 
    रोशनी की लकीरें,
  
    सुबह होने तक 
                                    जहाँ होती रहे बारीश, और 
                                    सुबह आती हो 
     बादलों से छन कर रोशनी 
                                    खिडकियों के अंदर,
                                    चौक कर कूदती हो 
                                    दीवार से नीचे एक बिल्ली, और 
                                    सुबह की डाक से लाता हो 
                                    डाकिया जहाँ चिठ्ठियाँ,
  
                                    बहती हो जहाँ
                                    एक बरसाती नदी 
                                    साफ - सुथरी, और 
                                    जिस पर हो एक 
                                    छोटा सा पुल,
                                    झाँक कर देखूं
                                    मै ज़रा उससे नीचे, और 
     बहा दूं एक नाव 
                                    कागज़ की-
                                    एक कविता वाली!!
  
                                      3.12.2013 / 12:20 दोपहर 

Monday, February 3, 2014

एक पुरानी कविता - एक दिन एक शहर में


                                      
                                 एक  ढलते  दिन की  यादें  


एक दिन 
दिन चला 
कदमों के साथ,
                                      गली 
एक गली 
और एक गली,
गलियाँ गलियाँ 
                                         चलता रहा,

वो दौडा रहा था 
बकरी का बच्चा, 
या दौड रहा था 
वो आगे,
वो देख कर हँस
रही है, या 
वो यूही 
हंसा करती है,

                                      पुरानी इमारतों का,
                                      घरो का,
हवेलियों का जंगल,
घना, हलचल भरा,
                                      कभी खामोश,
                                      कुछ कोनों का 
पता ही नही,
चले जाओ 
बस 
चलते जाओ,

घना जंगल 
छट ही जायेगा,
दिखेगा 
कुछ तो और,

ढल जायेगा दिन,
सो जाओ, 
सपने यादों से 
जलन करते है, 

पुरानी हवेलियों 
  की दलानों पर 
                                            पडती धूप
की यादें,
एक गली 
और एक गली 
की यादें,
भीड़ में गुम होते 
चहरों की यादें !!


                                        6.2.2004 / सुबह से शाम 


       


एक पुरानी कविता और एक रात की याद




कुछ नरगिस के फूल और एक पुरानी याद 
 


                                              एक किताब 
                                              और 
                                              एक खत 
                                              और 
                                              कुछ फूल,
                                             जो उसने 
                                              भेजे थे,
                                               कोई 
                                                  नाम नही था 
                                                  पर 
                                                  मुझे पता था,
                                                  तुमने भेजे थे- 
               
                                                  ढेर नरगिस के फूल
                                              और 
                                                  एक ठंडी रात,
                                              वो खत 
                                                  आज भी 
                                                  उस किताब में 
                                                  रखा है !!
 
                                              2.1.2004 / रात, 
                                                    रात बीत गई,
                                                    फूल मुरझा गये,
                                                    किताबें भुरभुरा जायेंगी,
                                                    खत के टुकड़े हवायें जाने
                                                    कहाँ ले उडी.... बस आज कुछ
                                                    यादें हैं.... समय गुजरेगा ज़िंदगी के
                                                    गलियारों से ज्यों-ज्यों,वो भी 
                                                    गुम हो जायेंगी....अतीत के
                                                    गलियारों में एक दिन!! 

                                                     13.12.2016/ 07:16  शाम