Monday, July 25, 2011

Dunny and Doodoo

                                                      Dunny  and  Doodoo

The season of the cold breezes had arrived, but it had not yet begun to snow. Two very young animals, Dunny and Doodoo, were passing through a large forest. The forest was dark and scary.

“We must hurry. We have to reach your aunt’s house,” said Dunny. He was feeling scared

“You are right,” said Doodoo,“I have read in a book that all sorts of terrible creatures live in a forest. I have heard about dinosaurs….they have big sharp teeth.” He spread his hands out wide, “This  big.”


Chicapica



Chicapica


There was once a tiny village in Spain. It was a happy village. The people laughed and danced and sang as they went about their work.
But Fidel the carpenter was different. He worked quietly from morning till late at night. Then after a supper all by himself he went to bed. Fidel had a white cow, jolly and plump, called Blanca, and a golden hen,Chicapica.

Chicapica loved to sing. She pranced and and fluttered about the house, singing and dancing without a care. When Blanca saw her, she laughed and tapped her feet. Her head bobbed with the beat and her bells tinkled to the rhythm.

When Chicapica sang, with every note her passion grew stronger and her voice louder. At its climax, she seemed not to be singing but letting out an ear-piercing screech. It scared some passerby’s but Blanca seemed to love it.


Friday, July 15, 2011

Little Boggy Bear and the ladybird

                                          Little Boggy Bear and the ladybird



Papa bear and mama bear had a podgy little son whose name was Boggy bear.
On the windowsill in his room, in a tiny pot, Boggy had a small a plant of sunflower.
Every day he watered it with great care. He was eagerly waiting for it to flower.


Many days passed. One day papa bear brought home a story book for Boggy.
It was about a ladybird and had beautiful picture.
He was very happy to see the book. At bed time, Boggy opened the book and began to read-

Thursday, July 14, 2011

चश्म-ए-बददूर

       
                                    चश्म--बददूर

                

गुलाब सिंह और उनका क्लीनर बीथोवेन दोनों जीप की ठोक पीट में लगे हुए थे! लगता है इंजन में कुछ खराबी हो गई है, पर मुसीबत तो यह है कि ये खराबी रोज़ की है! खैर, ऊपर डाल पर गुलाब सिंह का दोस्त कौवा   चश्म-ए-बददूर उर्फ... आगे पता चल जाएगा, बैठा अखबार पढ़ रहा था!


बस रोज़ का यही काम है! उफ, कितना ऊबाउ है सब कुछ....,   चश्म-ए-बददूर ने सोचा! कुछ अलग सा होना चाहिए, कुछ तो ...कुछ भी....कैसा भी, पर अलग सा और कुछ मज़ेदार भी! बस फिर क्या था अलग सा हो गया!


लेखक
:    एक था कौवा बड़ा दिलेर,  

                नाम था उसका बबर शेर,

बीथोवेन  :  बबर शेर? माफ कीजिए कविता थोड़ी गडबडा गई है...

                कौवे का नाम बबर शेर...!

  लेखक   : अरे चुप, आगे सुनो, बीच में मत कूदो,
                आगे ऐसा हुआ....

               आधा ही पढ पाए अखबार
               बजे नही थे अभी तो चार,
               धमधम- धमधम हुआ धमाल
               आया जैसे हो भूचाल,
               गिर गए प्यारे बबर शेर
               हो गया कैसा ये अंधेर,


बीथोवेन  :  अपना चश्मा पहनो, 

चश्म-ए-बददूर :  मेरा चश्मा, मेरा चश्मा कहाँ गया?
                          हे भगवान- हे भगवान!!!

                         आया कौन है ये शैतान!
                         दाए देखा- बाए देखा
                         एक नही, देखा कई बार,
                        कौन है ये समझदार
                        गिरा दिए जिसने
                       कौवे चार,

बीथोवेन   : पीछे देखो अपने इक बार
 

 चश्म-ए-बददूर  : ओ बेटा कान..फू.फू.सस प्यारे,
                        ओह कैसा कांफुसिंग सा नाम है,
                       उछल-कूद कर
                     दिन दहाड़े,

                   दिखा दिए क्यों
                चाँद सितारे,
              ओ मेरे राजदुलारे,
              ओ बेटा कन्फ्यूशियस प्यारे,
              उछल-कूद कर दिन दहाड़े

              दिखा दिए क्यों 
             चाँद सितारे,

बीथोवेन  : इसका तो मुंह फूला हुआ है,
 

चश्म-ए-बददूर   : कविता न कह पाओ
                       तो कहानी के बोलो में बोलो,
                    अरे कुछ तो बोलो
                अपना पाला मुंह तो खोलो,

कन्फ्यूशियस  :  बूहू हूहू – बूहू हूहू...

बीथोवेन   : अरे ये तो रोने लगा, 
 

कन्फ्यूशियस  : क्या बोऊ मै अंकल छेल,

चश्म-ए-बददूर   :  नही-नही बोलो-बोलो,
                         अरे नही, बोलेगा मेरा बेटा,

कन्फ्यूशियस :   मै हूँ बेटा अच्छा सा
                      तो सुनो कहानी सच्चा सा,
                     ‘इक हाथी का बच्चा था,
                      वो खाता केला कच्चा था,
                      गोल-मोल पाला छा बंदल

  बीथोवेन    :  साथ में मोटा भी,
 

कन्फ्यूशियस  :  वो लहता उच्चे गुच्छा था,
 

बीथोवेन    :  पर क्यों?
 

कन्फ्यूशियस  :  शोमबाल से लबिबाल,
                     जाने कितने दिन बेकाल 
                     किया मैनें पकने का इंतजाल,
                     थे वो केले इक ह्जाल,
                     लोज गिने थे मैंने कई बाल,
                     बूहू-हूहू, बूहू-हूहू.....
                     इक दिन इक बुधवाल,
                     हो गया मै थोड़ा बीमाल,

                     जाने कहाँ से आया
                    वो मोटा,
                    हाथी का वो बच्चा छोटा,
                    खा गया केले
                    वो इक ह्जाल,
           

 चश्म-ए-बददूर   :  अरे रुक क्यों गए, आगे क्या हुआ,
 

कन्फ्यूशियस  :  लड पड़े हम दोनों,
                      जो था गुथम गुत्था था,
                      मै फिल बोला,
                     आज जो तोड़ा
                     वो आखली गुच्छा था,
                     रोक न पाया मै तुमको
                     क्योकि मै गुच्छा था,
                     बूहू-हूहू, बूहूहू....
                     हँसकल फिल वो भागा मोटा
                     जो हाथी का बच्चा था,
                     मुझे चिढाता, शोल  मचाता-

                    “देखा मैंने इक न्याला बंदल
                     छोटा सा तुतलाता बंदल,
                    जो कहता गुच्छा-गुच्छा है,
                    मोटा सा है
                    प्याला सा है,
                    पल वो

                    बंदल का बच्चा है,”
                    हा हा हा हे हे हे...
                    कलता जो भागा था
                    वो हाथी का बच्चा था’
                    बूहूबूहू......

         
चश्म-ए-बददूर   :  ओ मेरे
कन्फ्यूशियस प्यारे
                         चुप हो जा मेरे राजदुलारे,
                        रो-रो कर फिर न
                      हो जाओ बिमार,
                    केले ले आऊगा

                   मै दो हजार,
 

बीथोवेन    :  दो हजार केले! झूठ बोलना पाप है अंकल,
 

 चश्म-ए-बददूर  :  चुप
                        अबके जो तुम
                     बीच में बोले
                 पड जायेगे तुमको ढेले-

 कन्फ्यूशियस  : ‘नही-नही, बस नही
                       मुझे चाहिए मेले केले,
                       मेले केले – मेले केले’,

                  
चश्म-ए-बददूर   :  पाँव पटकता और चिल्लाता,
                           वो बंदर का बच्चा था,
                           मै समझाता
                         उसे बहलाता
                      मै कौवा हूँ बड़ा दिलेर
                   नाम है मेरा बबर शेर!’
 

लेखक     :   बस इतना जो सुनना था,
                  पड गया मुँह पर जो,
                 वो एक बड़ा सा पंजा था,
                 चिड़ियाँ, उल्लू
                 फिर तो क्या
                 सारे उड़ गए
                तीतर – बटेर,
                सबने देखा
               जो था देखा
               वो थे राजा बबर शेर,
 

गुलाब सिंह  :  कान लगा कर भी
                    न मै सुन पाऊ
                   अपने इंजन की आवाज,
 

‘अरे-अरे, मै ये क्या कर रहा हूँ, मै भी इनकी तरह क्यों गाने लगा!’गुलाब सिंह बोले!   
‘सर, आज की थीम यही है-
                     गा कर बोलो

                    जब भी बोलो
                    धीरे बोलो
                    चाहे जोर से बोलो
                    अपना मुँह               
                    जब भी तुम खोलो!' बीथोवेन बोला!
 

 ‘ये किसका आईडिया है?’ गुलाब सिंह ने पूछा!
  बीथोवेन अपने सारे दांत दिखा कर बोला- ‘सर, आपके दोस्त बबर शेर उर्फ चश्म-ए-बददूर अंकल का!


उधर बबर शेर अपना सर सहला रहा था, उसने धीरे से सर उठा कर गुलाब सिंह की तरफ देखा जोकि उसे घूर कर देख रहे थे!


‘क्या बताऊ, क्या मै समझाऊ, बैठा- बैठा मै सो जाऊ, कहाँ झाँकू कहाँ ताक लगाऊ, मै बूढा कौवा मै बेकार! कितने पढू दिन में अखबार, तुम इंजन में सर हो खपाते, घंटो-घंटो सर न उठाते, मै बूढा कौवा मै बेकार, पास मेरे न बस या कार!’


बेचारा बबर शेर! वापिस उड़ कर अपनी डाल पर बने अपने घर में चला गया! सभी अपने-अपने काम में लग गए! इधर हमारे राजा साहिब यानी गुलाब सिंह ‘जामुनवाले’ वापिस अपनी गाड़ी के पास आ गए पर उनका मन अब गाड़ी में नही लगा, तो वे घर के अंदर चले गए!


जब वे और बबर शेर जवान थे तो दोनों दूर-दूर घूमने निकल जाते थे! फोटो एलबम में तस्वीरों पर नजर पड़ते ही गुलाब सिंह सोच में डूब गए! कितने बड़े कार रेसर थे वो और बबर शेर तो कमाल का तलवारबाज था!

कितने ही तो ईनाम जीते थे हम दोनों ने! वो भी क्या दिन थे!
 

सुबह पाँच बजे का अलार्म लगा कर गुलाब सिंह सो गए! पाँच बजे बाहर अभी भी अन्धेरा था! तैयार हो कर उन्होंने बीथोवेन को जगाया!

‘उठो, तैयार हो कर गाड़ी स्टार्ट करो, शहर जाना है, मै अपना झोला लाता हूँ!’

‘बीथोवेन! इसका भी क्या अजब नाम रखा है!’ गुलाब सिंह बडबडाते हुए घर में अपना झोला लेने चले गए!थोड़ी देर बाद जब वे बाहर आये तो देखा गाड़ी स्टार्ट नही हो रही थी!
‘छोडो, चलो बस से ही चलते है!’ गुलाब सिंह बोले!
‘ये क्या ले आया?’ बीथोवेन के हाथ में केले का गुच्छा देख गुलाब सिंह ने पूछा!
‘इतने दिनों बाद जा रहे है तो ..गीफ-फट करने के लिए!’ बीथोवेन अपने पूरे दांत दिखा कर बोला!

गुलाब सिंह ने हैरान नजरो से एक बार बीथोवेन को और एक बार उसके उस गिफ-फट को देखा और फिर चल पड़े!

जंगल से बाहर आ बस स्टाप पर दोनों बस का इंतजार करने लगे! बस आई! सुबह-सुबह ज्यादा यात्री नही थे बस में, ड्राईवर था और कंडक्टर था! गुलाब सिंह आगे और बीथोवेन दूसरी तरफ एक सीट छोड़ पीछे बैठा था! गुलाब सिंह फिर जाने क्या सोच रहे थे! वे अक्सर अपनी कार रेसिंग के बारे में ही सोचते रहते थे! बस रूकते ही उनका ध्यान वापिस आया!


दरवाजे की घंटी बजी! दरवाजा खुला! दरवाजे के बीचोबीच एक छोटा सा लड़का खड़ा था! उसे देख गुलाब सिंह ने पूछा-

‘हेलो रमटम, माँ है क्या?’

‘मुझे केला अच्छा नही लगता!’ रमटम बोला!
‘कोई बात नही, माँ खा लेगी!’ गुलाब सिंह सीढ़ियाँ चढते हुए बोले!
‘इतने सारे केले कैसे खायेगी?’ रमटम ने पूछा!
गुलाब सिंह पर चुपचाप चलते रहे!
‘तुम मेरी पूछ क्यों हर बार पकड़ लेते हो?' बीथोवेन ने सीढ़ियाँ चढते हुए पूछा!
‘अच्छा लगता है!’ रमटम हँसता हुआ बोला!


‘राधा, सुबह-सुबह आकर तुम्हे परेशान किया.....क्या है न..वो जरा कुछ, वो मै क्या बोलना चाहता हूँ कि तुम जरा अपनी कहानी में थोड़ा चेंज करो...वो मेरा दोस्त कौवा है न..जरा तुम उसकी हालत देखो, उसके पास कुछ काम धाम नही, जंगल में सब उलटे सीधे काम करते रहते है...कल देखो तो कितना झगडा हो गया...तुम्हे  तो पता होगा, तुम ने उस छोटे मोटे बंदर का नाम
कन्फ्यूशियस क्यों रख दिया...वो तो एकदम गधा है, मेरा मतलब है बेवकूफ है...जब देखो केला खाता रहता है...स्कूल भी नही जाता! तुमने इस गधे का (बीथोवेन की तरफ ईशारा किया, जोकी बड़े ध्यान से टिनटिन पढ़ रहा था) नाम क्या सोच कर बीथोवेन रखा है! अच्छा खासा नाम था बबर शेर का रखा हुआ, “चश्म-ए-बददूर”,फिर तुमने उसका नाम बबर शेर रख दिया, सब उसका मजाक उड़ाते है!’ गुलाब सिंह इतना कह चुप हो गए!
 

राधा बहुत ध्यान से कुछ लिख रही थी!

‘और मेरा नाम, मेरा नाम पहले तुमने बंदूक सिंह गाडीवाले रखा, फिर ये गुलाब सिंह जामुनवाले कर दिया, तुम ये सब बदलो प्लीज, जानती हो तुम्हारी इन्ही उटपटांग कहानियों की वजह से तुम्हारी किताबे नही छपती है!’ गुलाब सिंह बोले!

पर ये क्या बोले!!!

बीथोवेन फिर अपने पूरे दाँत दिखा रहा था! उसके बाद ये हुआ कि दोनों दरवाजे के बाहर थे केले के गुच्छे समेत!


दोनों फिर बस स्टाप पर थे! गुलाब सिंह बैठे थे, बीथोवेन खड़ा था! बस आई! दोनों बस के अंदर थे पर बस के अंदर जगह नही थी तो दोनों बस की छत पर बैठ गए! एक अटैची के ऊपर गुलाब सिंह और दूसरी पर बीथोवेन और तीसरी पर केले का गुच्छा था!

गुलाब सिंह फिर कार रेसिंग के बारे में सोचने लगे!

हवा चल रही थी, बस चल रही थी, ख्याल चल रहे थे! बस रूकी! दोनों छत से नीचे उतर गए! बस जा चुकी थी!

दोनों जंगल की ओर चल पड़े! रास्ते में फिर खेत को पार किया, छोटे से पुल को पार किया, एक पवन चक्की के पास से चलते हुए वे जंगल में पहुच गए!


‘बापरे, ये क्या हो गया?’बीथोवेन के मुँह से निकला!

अचानक बीथोवेन को अपने पिताजी कैसे याद आ गए??!!

अरे, ये क्या हो गया!!! जंगल का रंग रोगन बदल गया था! पिताजी तो याद आने ही थे!

‘सफारी टूर एंड ट्रवेल्स’,नीली पीली धारियाँ और जाने क्या-क्या डिजाईन गुलाब सिंह की जीप पर बने हुए थे! अपनी जीप की ऐसी हालत देख गुलाब सिंह चुपचाप घर के अंदर चले गए!

बबर शेर जी डाल पर से गायब थे! कन्फ्यूशियस की माँ उसका कान पकड़ कर स्कूल ले जा रही थी! वो केले–केले कहता हुआ रोता हुआ जा रहा था! तीनो कौवे पेड़ की सफाई कर रहे थे, उनके कपड़े भी बदल गए थे!


अरे, ये क्या!!! ये तो बहुत ही बुरा हो गया-

गुलाब सिंह के दरवाजे के बाहर उनका नाम गुलाब सिंह जामुनवाले की जगह ये क्या लिखा है-

“गुलाब सिंह बनारसी पान वाले"


       

      

Saturday, July 9, 2011

बंदर बैंड पार्टी

 यह कविता सात शैतान बंदरों के बारे में है जोकि सुबह-सवेरे नदी किनारे मस्ती कर रहे है



 बंदर बैंड पार्टी

नदी किनारे
उछल-कूद कर
नाचे-गाएं बंदर
सेंटू-पेठा
मोटू-पेटू
डोसा-बडा-सिकंदर,
नाम बहुत अजब थे
करते वो गजब थे,
थे वो बंदर बड़े शैतान
करते सबको यूं हैरान-

हाथी आया लोटा लेकर
कहते - वह क्या टब है,
मस्त कलंदर
सारे बंदर
हो-हो हँसकर बोले
क्या चिड़िया गाये गाना
अरे कौवे ताल मिलाना
ढोल बजाए प्यारी बकरी
उफ, गर्मी दूर भगाना,
लाओ पंखा-लाओ पानी
शरबत खूब बनाओ,
भाग जायेगी सारी गर्मी
मिलकर गाना गाओ,
अरे, सा-सा,रे-रे
गा-गा,मा-मा,
मामा?
अरे रुक
किसका मामा,
कैसा मामा,
हमको न बनाओ,
सूट-बूटवाला मै बंदर
अंकल न बुलाओ,
सुबह-सवेरे मै काँफी पीता
जेंटलमैन बुलाओ,
बंद करो ये देसी गाना
अंग्रेजी बैंड बजाओ,
अरे-दो,रे,मा-सी,
मासी?
अरे चुप-
क्या ये बोले मुझको मासी
मै हूँ तेरी चाची,
आओ मिलकर गाएं गाना
अंग्रेजी हमे न भाती,

फिर लोटा लेकर भागे बंदर
पीछे-पीछे हाथी,
शोर मचाते-गाना गाते
सारे बंदर साथी,
इक लोटा-इक हाथी है
हम बंदरों का साथी है,

नदी किनारे
उछल-कूद कर
नाचे गाएं बंदर
सेंटू-पेठा
मोटू-पेटू
डोसा-बड़ा-सिकंदर!!