Wednesday, December 6, 2017

जब लौटती है ज़िन्दगी बन बहरूपिया...एक बहरूप और सही


                                वन वे टिकिट
  
                               वो बाहें फैलाये था 
                               और गौर से देखाता
                               चाहता था हँसना 
                               दौड़ता हुआ आता रहा 
                               वो पास, जैसे बढ़ता गया 
                               बनता गया..वो प्यारा  
                               वो खेलता हँसता 
                               एक छोटा सा... 
                               प्यारा बच्चा बन 
                               सीने से आ लगा 
                               कहते हुए...एक दिन 
                               जब होऊंगा बड़ा 
                               तो करूंगा आपसे शादी,
                               हम सभी होंगे बढ़े 
                               धीरे-धीरे और कही न 
                               कही बढ़ेंगे.... पर 
                               अगर रूक जाए समय 
                               एक पल के लिए 
                               हम देखते हैं समय... 
                               हम देखते हैं एक-दूसरे को,
                               मानों हो कोई 'वन वे टिकिट' 
                               देखा गौर से फिर मैंने 
                               उस ठहरे समय को...
                               सर झटक मुड़ने से पहले 
                               चुमते हुए तुम्हारा माथा कहा-
                               होना बड़ा ठीक से 
                               देखना समय को 
                               सोचना समय को 
                               मै रहूंगी तुम्हारे उन 
                               बनते-बिगड़ते ख्यालों में...
                               मुड कर ले लिया मैंने 
                               समय से फिर वो 
                               वन वे टिकिट!  

                               06.12.2017/ 05:00सुबह 

Tuesday, December 5, 2017

We the camera people, Living in a virtual world....


We the camera people






                                       We see life beyond every aspect





                              We are like manikins                        






                   We create illusion, we are masqueraders
                        



                               We speak without sound





                      We tell a story, we give dreams






                             We the camera people
                             Living in a virtual world....







Sunday, December 3, 2017

"Go to sleep. Everything is all right."

                                           
                                        हम क्यों थे मिले



                                                         
                                       वो सोचता रहा.. 
                                       बस सोचता रहा.. 
                                       फिर हँस कर बोला 
                                       मै तुम्हे पकड़ ही लेता 
                                       मगर तुम एक्सपर्ट हो 
                                       भागने में, तुम हर बार 
                                       जाती हो भाग मेरे 
                                       पकड़ने से पहले, और 
                                        मै खड़ा रहता.. सोचता हुआ 
                                        हम क्यों थे मिले...जब 
                                        तुम्हें था यूँ इस तरह भागना!

                                         03.12.2017/ 02:56 सुबह


                          Stills from the short film "Saptpadi"
            


                                                           Roy Orbison - In Dreams
                                       
                                   A candy-colored clown they call the sandman
                             Tiptoes to my room every night
                             Just to sprinkle stardust and to whisper
                             "Go to sleep. Everything is all right."






                             I close my eyes, then I drift away
                             Into the magic night, I softly say
                             A silent prayer like dreamers do
                            Then I fall asleep to dreams, my dreams of you






                       In dreams I walk with you, in dreams I talk to you
                       In dreams you're mine, all of the time
                       We're together in dreams, in dreams






                      But just before the dawn, I awake and find you gone
                      I can't help it, I can't help it, if I cry
                      I remember that you said goodbye





                         It's too bad that all these things
                         Can only happen in my dreams
                         Only in dreams, in beautiful dreams





                         A candy-colored clown they call the sandman
                         Tiptoes to my room every night
                         Just to sprinkle stardust and to whisper
                         "Go to sleep. Everything is all right."



                                 

Saturday, December 2, 2017

कभी कभी फरेब इतना खूबसूरत होता है कि हम खुद ही उसे आगे बढ़ कर गले लगा लेते हैं



                                                
                          Stills from the short film "Saptpadi"



                                          


                             मैने दिल से कहा, ढूँढ़ लाना ख़ुशी,
                             नासमझ लाया गम, तो ये गम ही सही..
                             मैने दिल से कहा ढूँढ़ लाना ख़ुशी


                            बेचारा कहा जानता था
                            खलिश है यह क्या खला है
                            शहर भर की ख़ुशी से
                            यह दर्द मेरा भला है
                            जश्ना यह राज़ न आये
                            मज़ा तो बस गम में आया है






कभी है इश्क का उजाला
कभी है मौत का अंधेरा
बताओ कौन भेस होगा
मै जोगी बनू या लुटेरा
कई चेहरे है इस दिल के
न जाने कौन सा मेरा








                                                                                           
                  

Thursday, November 30, 2017

When crystals fall...


                              If We Try
                                                Don McLean





When I see you on the street, I lose my concentration. 
Just the thought that we might meet creates anticipation.






Faces come and faces go in circular rotation. 
But something yearns within to grow beyond infatuation. 







Won't you look my way once before you go 
And my eyes will say what you ought to know. 
Well you've got me standin' deaf and blind
Cause I see love as just a state of mind
And who knows what it is that we might find, if we try.







You're walking a different direction from most people I've met.
You're givin' me signs of affection I don't usually get.
I don't want you to pledge your future the future's not yours to give.
Just stand there a little longer and let me watch while you live.
'Cause when I see you on the street, I lose my concentration.
And just the thought that we might meet creates anticipation.





Won't you look my way once before you go 
And my eyes will say what you ought to know. 
Well I've been thinking about you day and night
And I don't know if it will work out right
But somehow I think that it just might, if we try. 
Somehow I think that it just might if we try. 
Yes somehow I think that it just might if we try.




Sunday, November 26, 2017

Five Hundred Miles...







आज कुछ ऐसा हुआ कि दो लोगों ने सेम बात कही कि की... मै ये क्या कब्रों के बीच भटकती रहती हूँ! तो मुझे मालुम नही की क्यों मै भटकती रहती हूँ, शायद हिस्ट्री को छूना चाहती हूँ या मुझे ये सब हमेशा से अच्छा लगता है या फिर मेरे सारे स्क्रू ढीलें हैं! मुझे कुछ पता नही... पर सब अच्छा है, सब कुछ अच्छा है, ऐसा मुझे लगता है! अंटिल एंड अनलेस मै फालतू लोगों से दूर रहूँ!










याद नही पड़ता वो कौन सा साल था जब मै यहाँ पहली बार आयी थी! पर अब ऐसा लगता है मानों पिछले जन्म की बात हो! तब मै यहाँ फुदक फुदक कर हर कब्र पर नाम पढती थी पर आज मै एक ही जगह पर काफी देर तक खडी सोचती रहती हूँ! मेरे पतीले का कहना है कि मेरा एमप्ति लेवल हाई हो गया है यानी हाई एमप्ति सिंड्रोम वाला मामला है! कब्रों के आसपास इतनी ऊँची घांस और झाड़ियाँ और न जाने कितने तरह के पौधे उग आयें हैं! वो जगह इतनी सुंदर है कि वहां कई घंटों बिना बोले चुपचाप बैठे सोचना सबसे अच्छे कामों में से एक काम है! मेरे पतीले का मानना है कि चिड़ियाघर के सारे ट्रॉपिकल बर्ड्स को बोलने में मै मात दे सकती हूँ, मै सोचते हुए भी बोल सकती हूँ, पर वहीं मै डेड साइलेंट क्यों हो जाती हूँ ये सीक्रेट अभी रिवील होना बाकी है! खासतौर पर ऐसी जगहों पर.... और फिर मेरी चिंता करना और हर बार ये बोलना अपना ख्याल रखा करो या फिर ये तुम कहाँ कभी-कभी अकेले भटकती हो... तुम कोई फ्रेंड क्यों नही बनाती...तुम अकेले क्यों रहती हो...लडकियों की कितनी सारी सहेलियाँ होती है....और बहूत कुछ! खैर ये जगह और इस तरह की काफी सारी जगह इस इलाके में फ़ैली हुई हैं! मैंने अपने बचपन में जो दिल्ली देखी है वो बहूत ही साफ और सुंदर थी! स्पेनिश में बोले तो 'मूचो बोनितो'!आप हिस्ट्री को छू सकते थे आज सिर्फ और सिर्फ मिनीस्ट्री है! जब भी चेंज होती है तो अपने हिसाब से दिल्ली का और कबाड़ा कर देती है!















इंडियन हिस्ट्री पर अगर किसी इंडियन ऑथर का सबसे अच्छा और हर तरह से अच्छा, जिसमे कि लैंग्वेज भी आती है, अगर किसी का काम मुझे अच्छा लगा तो वो एब्राहीम इरेली थे और हैं! कभी कभी मुझे लगता है कि मै अगर हर कब्र पर नॉक कर पूछूं कि के म्यूटनी के समय क्या हुआ था या फ्रेज़र के मर्डर के वक्त क्या हुआ था या फिर वो जांबाज ऑफिसर जॉन लॉरेंस ने पंजाब में कितने सारे कमाल किये थे... और न जाने कितने सवाल, तो शायद वो मुझे ज्यादा अच्छे से बता पायें रादर देन यहाँ के बाकी बायसड हिस्टोरियन का लिखा कचरा पढने के! 







हिस्ट्री की किताबों में मेरा सर पांव तक घुसा रहता है! मुझे लगता कि किताबें सबसे अच्छी सहेलियाँ और दोस्त होते हैं कुछ शिकायत नही कोई शिकवा नही.... बस आप उन्हें पढ़ते रहते हैं और वो आपकी सूरत देखती रहतीं हैं! इस लिए लोग मुझे इतने अच्छे नही लगते! उनके पास अजीब सी बातें होती हैं!

घर में इतनी सारी किताबों का कलेक्शन है कि मुझे दिन में तीस घंटे चाहिए! हिस्ट्री पर, कलर और ड्राइंग्स और पेंटिंग्स टेकनीक्स की किताबें, कई किताबें अब मिलती भी नही, ओर्निथोलोजी का भी एक अजीबो गरीब कलेक्शन है, घर एक चिड़ियाघर है मेरा... और ह्यूज कॉमिक्स कलेक्शन भी है,......ये तो लोग मेरी शक्ल से पहचान जाते हैं, मै शक्ल से ही कार्टून हूँ! मुझे कभी अपने जैसा मिला नही....हाफ क्रैक और फुल मैड या फिर फुल क्रैक और हाफ मैड! 

इस्सी लिए मुझे यूँ भटकना...फोटोग्राफी करना ज्यादा अच्छा लगता है! या फिर अपना टेबल... जहाँ एडिटिंग है... मेरी कहानियाँ है.... कविताएँ हैं.... ड्राइंग्स है और बहूत कुछ है!






मेरे पास तुम दोनों की बात का या किसी की भी बात का यही जवाब है! और ये लाइन्स हैं!जानतें हो ये पियानो पर बहूत अच्छा बजता है!

Five Hundred Miles

If you missed the train I'm on
You will know that I am gone
You can hear the whistle blow a hundred miles
A hundred miles, a hundred miles,
A hundred miles, a hundred miles
You can hear the whistle blow a hundred miles
Lord, I'm one, Lord, I'm two,
Lord, I'm three, Lord, I'm four
Lord, I'm five hundred miles away from home
Away from home, away from home,
Away from home, away from home
Lord, I'm five hundred miles away from home
Not a shirt on my back
Not a penny to my name
Lord, I can't go back home this ole way
This ole way, this ole way,
This ole way, this ole way,
Lord, I can't go back home this this ole way
If you







Friday, November 24, 2017

The city of lost feelings....






                                        तुम्हारी आँखें 

                                      हम लड़ते हैं 
                                      एक खामोशी की लड़ाई 
                                      बहूत ही खामोशी से 
                                      कई बार कई लोगों से..
                                      कभी-कभी तो होता है 
                                      कुछ अजब सा कि 
                                      हम अजनबियों से भी 
                                      होते हैं खफ़ा... बहूत ही 
                                      चूपचाप...और लड़ते हैं 
                                      दिल में उठे शोर से, 
                                      याद आया वो शहर का 
                                      टूटा हुआ हिस्सा जहाँ 
                                      टूटी इमारतों का शोर 
                                      झाँकता है बंद हवादार 
                                      बेजान खिड़कियों से,








                                  कोई आयेगा देगा आवाज़ 
                                  और पुकारेगा एक बार 
                                  फिर से.... और लेंगी वो 
                                  ईमारतें फिर से एक बार 
                                  गहरी सांस... बंद आँखे किये,
                                  खुली खिड़कियों के टूटे हुए 
                                  पल्लों के दरम्यां क्या फिर 
                                  झांकेगा पलट कर कोई 
                                  रूठा हुआ...वैसे ही हंसता 
                                  गुनगुनाता पुराना गीत....
                                  पर बोलती हैं तुम्हारी आँखें 
                                  कुछ और बहूत कुछ.... 
                                  ख्याल आया तुम्हारे नाम का 
                                  क्या है मतलब... देर तक सोचा 
                                   हम क्यों जाते हैं भूल नाम 
                                   लोगों के... पर कुछ नाम रहतें हैं
                                   याद कहीं गहरे और गहरे 
                                   दिल के गहरे अंधेरों में डूबे हुए...






                                  नाम से याद आयी एक बात 
                                  ये भी डूबी हुई थी कहीं 
                                  दिल के गहरे अंधेरों में... जानते हो 
                                  सिखाया था किसने मुझे पहली बार 
                                  मेरा नाम लिखना.... पहली क्लास के 
                                  पहले दिन... मेरी ही क्लास के एक 
                                  छोटे से...मोटे से लडके ने...जो 
                                  धीरे-धीरे आया था चलके मुस्कराता हुआ
                                  पूछा मेरा नाम और लिख दिया 
                                  मेरी कापी के बाहर...और बोला 
                                  'देखा ये है तुम्हारा नाम' मेरा 
                                  पहला टीचर और सबसे ऊँचा...
                                  क्या सब टीचर ऐसे ही होते हैं 
                                  अच्छे... बताते है सिखाते हैं 
                                  मुस्कराते हुए.... बिना रूठे, 
                                  लगता है इन ईमारतों से भी 
                                  रूठ गया है समय और भूल गये 
                                  लोग इन्हें.... बस याद रहा चलती 
                                   इस हवा को ..... गहरी खामोशी को 
                                  और अंधेरों को.... जो झाँकते रहते हैं 
                                   हर पल बिना किसी उम्मीद के, 
                                   तुम क्या झाँकते हो इन तस्वीरों में 
                                   जो बेजान है पर तुम खो जाते हो 
                                   उन्हें देखते हुए और टूट जाती है 
                                   तुम्हारी नींद.... मुझे आती नही नींद 
                                   एडिटिंग टेबल पर कई बार सर रख 
                                   सोते हुए जगाया है मुझे घरवालों ने...
                                   लगता है कोई आयेगा और अभी भी 
                                   जगायेगा इस सपने के टूटने से पहले..
                                    करते इंतज़ार हम सभी उन भूलायी 
                                    ईमारतों की तरह...पर कैसे होगा...
                                    मै जागी हुई और सोचती हुई कि 
                                    मेरा दिमाग है खराब पिछले जन्म से 
                                   और तुम अपने ईगो के साथ सोते हुए!!

                                    24.11.2017/ 04:30 सुबह