Friday, November 10, 2017

"The crop of my sins was sown on the field of sinful desires of others,Raja Sahib!" Damiyanti to Raja Baikuntha Dev,story 'Dak Bangla'

'डाक बंगला' कहानी का एक हिस्सा है ये! ये एक अजीब दास्ताँ है, रहस्य है और कहानी है एक इतिहास में दबे एक राज़ की, जिसे खोजते हुए कई लोग अपनी जान गंवा देते हैं! 

                                        डाक बंगला

'क्या आप डाक बंगले तक पैदल जायेंगी?' 
'नही जेट मंगवाया था,अभी तक पहुंचा नही!' मीता पगडंडी की ओर मुडती हुई बोली!
हीरा सिंह मीता की बात सुन चौका फिर हंसते हुए बोला, 'आप, साहिब, आप मजाक कर रहीं हैं क्या.. वो मैंने इस लिए पूछा था कि, की रास्ता दो-ढाई किलोमीटर है और बारिश होने वाली! बारिश में...पहाड़ों में रास्ते मुश्किल हो जाते हैं, यू नो भैरी डिफिकल्ट,और बहूत सारी बातें हैं.... पहाड़ी लोग बहूत सारी बातों में विश्वास करते हैं, अब क्या बोलूं जी मै आप से!'
मीता चुपचाप सुनती हुई चलती रही! बादल घिरने लगे थे! दोनों की चाल में तेजी आने लगी!
'आप क्या पहले भी यहाँ आयी हैं?' हीरा सिंह ने मीता को तेजी से आगे बढ़ते हुए देख कहा! ये रास्ता डाक बंगले तक जाता है ये बात सिर्फ वही लोग जानते हैं जिन्हें इस इलाके का पता हो! 
'हाँ, काफी साल पहले, तकरीबन दस साल पहले!' मीता आगे बढती हुई बोली!
अपनी ही बात पर मीता चलते-चलते सोचने लगी! 
....ऐसा क्यों होता है कि मै यहाँ हमेशा दस साल बाद ही आती हूँ, इसी पगडंडी पर से लौटते हुए उस दिन मै रास्ता भूल गई थी और शाम होने लगी थी! मुझे लगा हवा में उड़ते पत्तों के बीच पेड़ के तने से पीठ टिकाये कोई खड़ा है, पास पहुँच देखा तो.. हैरानी से मेरी आँखे फ़ैल गयी, हाथ बढ़ा उसने कहा, 'आओ जंगल के बाहर तक छोड़ दूँ... रास्ता खतरनाक है और इस इलाके में बाघ होते हैं', मैंने उसका हाथ थाम लिया, वही पुराना अहसास... वही मुलायम पर ठंडा हाथ.... एक सिहरन सी मेरी रीढ़ में दौड़ गयी थी,....वो धीरे से बोला, 'तुम्हें यूँ अकेले इस रास्ते पर नही आना चाहिए था'. इतना कह वह रूक गया और उसने मेरी तरफ देखा.... मै एकटक उसे देखती रह गयी, वह वैसे ही हाथ थामे ही धीरे से बोला, 'मै तुम्हें डराना नही चाहता था, पर मुझे मजबूर होकर सामने आना पड़ा!' मै चूपचाप उसे एकटक देखती रही, फिर नजरें झुका मैंने पूछा.. 'मुझे आजतक समझ नही आया कि तुम उस दिन कहाँ चले गये थे, फिर पुलिस को तुम्हारी लाश मिली..... तुम कैसे मरे थे, बताओ मुझे, प्लीज़!' कहते हुए मेरी आँखें बंद हुई खोला तो सामने कोई नही था और मै जंगल के बाहर खडी थी! एक पल के लिए मै डरी पर फिर मैंने चीख कर पुकारा.. 'रतन', आवाज़ गूंज गई मगर कोई जवाब नही आया! मैंने फिर से आँखें बंद कर ली और मुझे तुम्हारी धीमी सी आवाज़ अपने कानों में सुनायी दी...... 'जब भी लौटती हो तुम.. बारीश से बने झरने की तरह...हर बार मेरा होता है जन्म दोबारा...' 
 'आप कहाँ खो गई,साहिब?' अचानक हीरा सिंह की आवाज़ सुन मीता ने चौक कर देखा! हीरा सिंह शायद कुछ पूछ रहा था मगर मीता अपने ही ख्यालों में गुम तेज-तेज चल रही थी!
बारीश की बूँदें गिरने लगी थी! 
'आईये, साहिब, वहां एक घर है!' हीरा सिंह घर की तरफ ईशारा कर बोला! 
दोनों तेजी से घर के दरवाजे के पास पहुंचे, दरवाजा पहले से ही खुला हुआ था! एक बूढा भेड़ों के साथ बैठा हुआ था भेड़ वाले ने सर ऊपर उठा उन लोगों की तरफ देखा तो मीता  हैरान देखती रह गयी.........क्रमशः




Monday, November 6, 2017

हम-तुम सौदाई तमाशबीनों के मज़े का सामान बनते गये

  

                                       आख़री दुःख 
  
                                      बह जायेगा आख़री 
                                      दुःख भी... समय की 
                                      बारीश में एक दिन 
                                      ऐसे ही आखीर, और 
                                      रहेगी नही फिर मुझे 
                                      किसी से, और मुझसे 
                                      किसी को कोई भी 
                                      कैसी भी शिकायत 
                                      कभी भी...और न ही 
                                      कहीं..., दूर कहीं कोई 
                                      भीगता है रोज़ जाने 
                                      क्यों और किसी दुःख में 
                                      देर तक उलझा हुआ 
                                      रोज़ वो सोता है...अपने 
                                      ही उलझाए हुए ख्यालों में,
                                      अपनी छोटी सी हथेलियाँ 
                                       फैलाये वो छोटी सी 
                                       प्यारी सी गुड़िया की तरह 
                                       आ लिपटती है मेरी अधखुली 
                                       आँखों मे... बुझे सपनों में 
                                       आज भी, धुँआ सा उठता है 
                                        उस राख की धूल में... बुझाए 
                                        कई बार उस राख के 
                                        अंगारे मैंने अपने ही आंसुओ से..
                                        पर वो राख मेरे सपनों की 
                                        न बुझती है न हुई ठंडी कभी, और 
                                        धूल बन उडती रही मेरे 
                                        न ठहरे न बढ़ते ख्यालों में,
                                        वो जाने अटक से गये 
                                        एक दिन किसी रोज़, कहीं  
                                        किसी छोडी हुई बात पर...
                                        आज सोचता हूँ तो याद भी 
                                        आता नही... वो थी क्या बात 
                                         जो अटकी है कहीं .... और 
                                         सताती है मगर आ आ कर 
                                         मेरे सपनों की धधकती आग में,
                                         क्या कोई बात थी या कोई था 
                                         सामान...जो मै लौटा न पाया तुझे..
                                         पर हम लड़े थे किस बात पर
                                         आज याद पड़ता नही, मगर 
                                          हम-तुम सौदाई तमाशबीनों के 
                                          मज़े का सामान बनते गये!!


                                          06.11.2017/ 11:18 रात  
                                          
  
  

Saturday, November 4, 2017

and the songs go on....

                                   
                         I felt all flushed with fever
                         Embarrassed by the crowd
                         I felt he found my letters
                         And read each one out loud
                         I prayed that he would finish

                         But he just kept right on...
                
                              Andy Williams 💓
                        a great singer, a beautiful voice

 
                       

Friday, November 3, 2017

लौटेंगे हम सभी मिलने तुमसे.. प्रिय..




                                      चलो भूल जाएँ 


                                      चलो भूल जाएँ  
                                      वो रास्ते,वो घर,
                                      वो सडक,गीली पटरियां
                                      और सारे फूल...
                                      क्योंकि सबसे बड़े 
                                      फूल तुम्ही हो..
                                      एक दिन जब 
                                      गुज़र जायेंगे सब 
                                      अगल-बगल से 
                                      जिनसे रहा है 
                                      तुम्हे प्यार और 
                                      नफरत... और थोडा 
                                      झूठा लगाव भी, 
                                      धीरे-धीरे छूटती जायेगी 
                                      उम्र दर्पण में भी.. 
                                      तब तुम कहाँ जाओगे 
                                      मिलने... किसको 
                                      दिखाओगे हँस के... 
                                      किसे करोगे तंग.. 
                                      गरूर से भरा दिल-दिमाग 
                                      और कुछ नही... 
                                      किसी को पड़ेगा नही फर्क 
                                      तुम्हारे होने न होने का.. 
                                      भूलती जायेगी दुनियाँ 
                                      वो नई दुनियाँ तुम्हे..
                                      क्या उम्र के उस पड़ाव में 
                                      करोगे हम सभी को 
                                      तुम याद.... हाँ याद, 
                                      क्योंकि हम सब जायेंगे 
                                      तुम से पहले... ये दिल 
                                      वो ज़िन्दगी और तुम्हारे किये 
                                      फ़रेब सबसे और झूठ जो 
                                      बोले है तुमने सबसे... 
                                      तुम्हारा क्या होगा तब 
                                      उस अकेलपन में... पर 
                                      जब भी टूटेगा 
                                      समय का दर्पण 
                                      लौटेंगे हम सभी मिलने 
                                      तुमसे.. प्रिय, तुमसे, हम 
                                      सब तुम्हारे दोस्त और दुश्मन!

                                      03.11.2017/ 04:56 सुबह

Thursday, November 2, 2017

डाक बंगला कहानी का एक छोटा सा हिस्सा कविता बनता गया


                                      बहुत दिन हुए 


                                    बहुत दिन हुए 
                                    करते हुए इंतज़ार 
                                    बारीश का, और शाम गये
                                    लौटते हुए तुम्हारा ख्याल
                                    पगडंडी पर फैले 
                                    हवा में उड़ते... खेलते 
                                    पत्तों संग मुस्कराता हुआ 
                                    आ लिपटा हंसता हुआ, और 
                                     मै हैरान... हँस पड़ी और 
                                     झाड़ते हुए पत्तों को 
                                     कहा तुमसे.... 'छोड़ो जाओ 
                                     कोई देख लेगा'...., बंद आँखे 
                                     मेरी और रस्ते का सन्नाटा..
                                     तुम दौड़ कर आ फिर 
                                     थाम लेते हो हाथ मेरा,
                                     'कहा था तुमसे जाओ 
                                     तुम फिर आ गये..थामने हाथ',
                                     पलट कर कहा उस 
                                     उलझे ख्याल से, 'पतझड़ का
                                     मौसम और ये जंगल... कही 
                                     फिर से न लिपट जाये 
                                     बन ख्याल किसी और का..
                                     बस इसी लिए... आओ तुम्हें 
                                     छोड़ आऊँ बाहर 
                                     इस जंगल के... फिर चाहे 
                                     छोड़ देना हाथ मेरा...'
                                     वो ख्याल कहीं आज भी 
                                     भटकता है किसी झड़ते 
                                     पत्तों वाले पतझड़ के जंगल में..
                                     खेलता होगा... करता होगा 
                                     न खत्म होने वाला इंतज़ार, 
                                     शहर की रोशनी में 
                                     परछाईयां बनती है 
                                     बिगडती हैं.. देती है भ्रम 
                                     पानी का, बारीश का... 
                                     उन के बीच से गुजरते हुए 
                                     कुछ नही देता सुनायी 
                                     कोई आता नही थामने हाथ,
                                     वो मासूम ख्याल क्या 
                                     आज भी खेलता होगा उस 
                                     पगडंडी पर... हैरान नजरों से 
                                     देखता और सोचता होगा मुझे 
                                     और करता हो...क्या मेरा इंतजार 
                                     आज भी, और क्या अभी भी!!
                                       
                                      "डाक बंगला" कहानी
                                      02.11.2017/ 10:10 रात  






Wednesday, November 1, 2017

जब-जब तू मेरे सामने आये....

               

                                   बिखरती ओस


                                 चल रही थी पाँव अपने 
                                 ओस पर रख कर 
                                 बंद आँखों में सपनें सजाये... 
                                 देर रात तक जगाये 
                                 कोई करता रहा 
                                 इंतज़ार.... दीवार से 
                                 सर टिकाये, सोचता रहा... 
                                 कोई सोचता होगा 
                                 उसे भी... उसकी तरह 
                                 बेखयाली में पुकारता होगा 
                                 मेरे नाम से रस्ते जाते 
                                 लोगो को... उफ़, तुम 
                                 हो गये हो पूरे पागल..
                                 कहते हुए थाम ले 
                                 हाथ मेरे, जब भी 
                                 हवाओं में बढ़ा कर 
                                 अपने हाथ चाहूँ 
                                 तुम्हें छूना... फिर चाहे 
                                 बिखर जाये ओस सारी!!

                                 01.11.2017/ 05:44 शाम          



 

          

Monday, October 30, 2017

आती सर्दियां और तुम्हारी ये खोज


       
                           जब पतझड़ झड़ता रहा


                              जब पतझड़ 
                              झड़ता रहा.... कई दिन 
                              हवा के साथ 
                              बेआवाज़... दूर-दूर तक,
                              पत्तों के बदलते रंग 
                              कई रंग के जंगल 
                              और नदी के किनारे 
                              दल-दल में उगा जंगल..
                              सब कुछ बदलने लगा..
                              रंग अपने -अपने, और 
                              सर्दियां खिडकियों के 
                              कांच पर बना रही थी 
                              बूंदों की लहरें... रोज़ 
                              धीरे-धीरे चुपचाप 
                              बिना मुझे जगाये... बस 
                              कभी-कभी हवा से  
                              अपनी ठंडक की चिट्ठी 
                              मेरे तकिये के किनारे रखी 
                              किताब पर छोड़ जाती है....
                              जब भी टकराता है मेरा चेहरा 
                              किताब के खुले पन्नों से 
                              एक सिहरन सी दौड़ती है 
                              बंद आँखों के किनारों पर 
                              जहाँ कोई खड़ा हंसता है 
                              अपनी आँखें मिचमिचाता हुआ, 
                              आती सर्दियां और तुम्हारी 
                               ये खोज... स्टोर में छुपे जाने 
                               किस खजाने की... न खत्म 
                               होने वाली, और मै उडती उस 
                               धूल में परेशान... करती हूँ 
                               कल्पनाएँ... रेगिस्तान में 
                               उड़ते तूफ़ान की और उसमे 
                               फसे काफिले की.... या 
                                फिर समुन्द्र में उठती 
                                ऊँची लहरों की और 
                               अँधेरे में दूर-दूर तक 
                                बिखरते हुए अपनी रोशनी 
                               उस ऊँचें लाईट हाउस की 
                               जो दिखाता है रास्ता मल्लाहों 
                               नाविकों को... या जंगल की
                               हाँ,एक घने जंगल की 
                               जहाँ ऊँचे उठे फैले 
                               घने चीड के पेड़ों पर 
                               बोल रही है एक चिड़िया 
                               जाने किस से... पर लगातार 
                               गूंजती उसकी आवाज़ 
                               दूर-दूर तक... 'काफल पाकू'
                               और मै देखती उसे एकटक 
                                हैरान पर खुश.... मेरी कल्पनाएँ 
                                फैला रही थी पंख और मै 
                                फैलाये अपनी बाँहे गोल-गोल 
                                घूमती...आँखे बंद किये 
                                सोचती रही... अचानक हथेली 
                                पर कुछ हुए अहसास ने 
                                आँखे खोल दी... तुम ने स्टोर में से 
                                ढूँढ़ निकाली मेरी खोयी हुई 
                                एक धूप घड़ी और अंगूठी का 
                                नग... घड़ी जो बनाई थी किसी 
                                 दिन जाने कब... लकड़ी की 
                                 जो बताती थी गलत टाइम, और 
                                 आज भी वैसे ही... नग कितना 
                                 सुंदर और अनोखा... मै निहारती 
                                 अपने उस खजाने को... तभी 
                                 रख दिया तुमने कहते हुए 
                                 मेरे सामने एक गत्ते का डब्बा 
                                 ...'हर हाईनेस,आपका खज़ाना',
                                 हाथ से बनायी हुई कठपुतलियाँ,
                                 गुड़ियाँ,मखोटे,चांदी की ज्वेलरी,
                                 तस्वीरें और जाने क्या-क्या, 
                                 मै हँसती हुई और तुम हैरान... बोले-
                                 'कभी-कभी सोचता हूँ... तुम कौन हो..
                                 तुम्हारी सोल की उम्र क्या है' कह कर 
                                 तुम फिर खो गये स्टोर के सामान की 
                                 उल्ट-पलट में पलट कर...और मै 
                                 अपने उस बेशकीमती खज़ाने में
                                 उलटती पलटती सामान... मै 
                                 भूलती गयी तूफ़ान में फसां काफ़िला 
                                 वो ऊँचा लाइट हाउस और 
                                 जंगल में बोलती वो चिड़िया!! 

                                 30.10.2017/ 11:00 रात