Sunday, July 16, 2017

क्या मिलोगी फिर से एक बार फिर एक और जन्म में...


                                  जन्म 

                                जब भी लौटती हो 
                                तुम... बारीश से बने 
                                झरने की तरह 
                                हर बार मेरा होता है 
                                जन्म दोबारा... सुनता हूँ 
                                मै अपनी ही धडकने 
                                तुम्हारी धडकनों के साथ...
                                तुम हवा की लहरों सी 
                                बहती हो मेरी साँसों में 
                                और मै आँखें बंद कर 
                                करता हूँ तुम्हें महसूस 
                                अपने ही सीने में... और 
                                तुम्हारी साँसे करता हूँ 
                                महसूस अपने चेहरे पर...
                                आईना बना के तुम्हारी 
                                आँखों को सुनता हूँ मै 
                                हर पल अपनी उम्र...
                                और तुम देखती हो 
                                मेरी नजरों में अपनी 
                                हँसी और मेरा दिल,
                                काँपते हाथों को थामें 
                                हम चलेंगे उम्र के इस 
                                पल से आख़री पल तक...
                                क्या मिलोगी फिर से 
                                एक बार फिर एक और 
                                जन्म में.... कहीं किसी दिन 
                                किसी दूसरे रूप में...
                                और देखोगी वैसे ही 
                                पलट कर... और बहोगी 
                                बारिश में बने झरने जैसी...
                                होगा मेरा फिर जन्म 
                                ऐसे ही हर बार की तरह!

                                16.7.2017/ 03:30 सुबह 
                                आ रही नींद को 
                                क्यों भगा रहा है दिल...
                                बंद दरवाज़े और खिड़कियाँ...
                                फिर जा कहाँ रहा है दिल...

Friday, July 14, 2017

सपने जो फूटते हैं और बनतें हैं नींद की गहराइयों में



                                   सपने
  
                          जब सपने सच बन 
                          सुबह खिड़की से झांकते हैं.... 
                          और तुम बढ़ा कर 
                          हाथ अपना लिखते हो 
                          हवाओं के झौकों में   
                          हर बार अलविदा.... फिर 
                          और तेज़ी से लौटते हो 
                          मेरी तरफ..... हंसते हुए 
                          वो पल थाम लेना.... 
                          क्योकि लौटेंगे नही वो 
                          फिर कभी..... देख 
                          न पाओगे तुम कभी 
                          फिर यूं छुपकर.... 
                          जिसे तुम चाहते हो छूना 
                          चाहते हो देखना सपनों में... 
                          सपने जो फूटते हैं और 
                          बनतें हैं नींद की गहराइयों में, 
                          जागते ही बीत जाते हैं..
                          करवट ले बंद कर आँखें 
                          एक बार फिर से देखने की 
                          चाह रोक न पाया मन....
                          बुलबुले फूटने लगे नींद में 
                          सपनों के..... और तुम 
                          पाँव रख उन बुलबुलों पर 
                          तैरती...हँसती....गाती रही 
                          यहाँ से वहाँ देर तक.... 
                          आयेंगी सर्दियां धीरे-धीरे 
                          जायेंगी गर्मियां धीरे-धीरे... 
                          मौसम जा कर लौटेंगे, पर 
                          क्या लौटेंगे लोग फिर से 
                          वहीं...... जहाँ बस अब हवा 
                          बदलते मौसम और बीतते 
                          समय के सिवाय कोई नही... 
                          हवा से उड़ते पत्तों का खेल.... 
                         और खामोशी का संगीत फैला है  
                          बस और कुछ भी नही....! 

                           7.12.2016/05:00 शाम 

Sunday, July 9, 2017

"The whole world is like a perfect museum, it's only on you that you want to be exhibitor or be the exhibited." rin


                 No song remains...

               When the wind sigh slowly 
               and chimes stop singing..
               I free you my love..
               it was my fault, 
               my hands were small and feeble,
               not your heart..!   rin 

Friday, July 7, 2017

One sided love always like an optical illusion...



                                   It's only sand and dunes
 
                   One sided love always 
                   like an optical illusion...
                   You see an oasis 
                   and you run towards it, 
                   and the more you run 
                   towards it.. the more 
                   you get disappointed.
                   It's only sand and dunes!! rin

Monday, July 3, 2017

कहानियाँ बनती हैं



अठाहरवीं मंजिल 
  

'तुम अँधेरे में क्यों चलती हो?'
अचानक अँधेरे में किसी को आता देख उसने पूछा!
'मुझे पसंद है, और मुझे ठंडक मिलती है!' वह बोली!
'पर अँधेरे में तुम्हारी पाजेब की आवाज़ मुझे क्रीपी फीलिंग देती है!'
वह उसकी पाजेब की आवाज़ याद करता हुआ बोला!
'पर मुझे ये आवाज अच्छी लगती है!' वह वैसे ही बोली!
'पर तुम नंगे पाँव क्यों चल रही हो?' उसे स्लीपर की कोई आवाज 
नही सुनायी दी तो उसने पूछ! उसे लग रहा था वह कमरे में यहाँ से वहाँ 
घूम रही है, पर क्यों? उसे परेशानी हो रही थी!
'मुझे अच्छा लगता है, ज़मीन की ठंडक मुझे अच्छी लगती है!' वह फिर 
उसी तरह बोली!
'तुम्हारे घर में कोई तुम्हारे जैसा नही है!' वह बोला!
'क्योकि यहाँ मेरे सिवाय कोई पाजेब नही पहनता!' वह फिर वैसे ही बोली!
'कोई भी नही?!!' अब वह हैरान था, इतने बड़े घर में कोई नही पहनता!
'हाँ, कोई भी नही, क्योकि यहाँ सिर्फ मै ही रहती हूँ और कोई नही!' 
वह अजीब तरह से बोली तो वह डर गया और चौक कर बोला-
'लाइट ऑन करो!' वो घबरा गया था! वो तो अपने दोस्त के घर आया था और उसके घर में तो ढेर सारे लोग रहते हैं, एकदम जम्बो जेट जितनी बड़ी फॅमिली! 
'लाइट काम नही कर रही है!' वह फिर उसी टोन में बोली!
'पर बाहर तो कॉरिडोर में लाइट है!' वह कहते-कहते खड़ा हो गया!
'ऐसा है तो जाओ चेक कर लो!' वह थोडा करीब आ कर बोली, पर अँधेरे की वजह से वो उसका चेहरा देख नही पाया! वह तेजी से उठ कर बाहर आ गया!
बाहर लाइट थी! अचानक उसकी नज़र लिफ्ट के डिस्प्ले पर पड़ी और वह 
हैरानी से देखने लगा! और सोच में पड गया!
'18वीं मंजील! मुझे तो बारहवें फ्लोर पर जाना था और मैंने बटन भी बारहवे नम्बर का दबाया था, तो...क्या मै बाहरवे पर हूँ और ये लिफ्ट 18वें फ्लोर पर है... क्या है ये... जहाँ तक मुझे पता है तो इस अपार्टमेंट्स में 18वीं मंजील नही हैं तो.... तो....??' वह चौंका और उसने कुछ कहने के लिए पीछे पलट कर देखा तो बुरी तरह वो डर गया! और वह तेजी से सीढियों से नीचे की तरफ दौड़ने लगा! वह दौड़ते-दौड़ते सोच रहा था की.....
'ये कैसे हो सकता है... ये कैसे हो सकता है.... पूरा का पूरा फ्लोर ही नही है... कोई फ्लैट नही था वहां... मै कहाँ आ गया हूँ.... वो कौन थी....!'
वह सोचता हुआ नीचे की तरफ दौड़ा जा रहा था! जाने कितनी सीढियाँ वो एक साथ कूद जाता था वो बीच-बीच में! दौड़ते-दौड़ते उसे महसूस हो रहा था की कोई और भी उसकी पीछे दौड़ रहा है! उसे अब साफ-साफ पाजेब की आवाज सुनायी दे रही थी! वह बुरी तरह डर गया था! वो पागलों की तरह नीचे तरफ दौड़ने लगा और उसके पीछे कोई ओर भी उसी रफ्तार से 
दौड़ रहा था! ग्राउंड फ्लोर आते ही वह बाहर की तरफ भागा! पर बाहर पहुच वह और हैरान हो गया!
'मै कहाँ हूँ? ये कौन सी जगह है? ये कैसी सी जगह है?' वह अपने आप से बोल रहा था! 
तभी उसे पीछे वही पाजेब की आवाज सुनायी दी और उसने पीछे पलट कर देखा और वह बुरी तरह डर गया और चीख पड़ा -
'तुम कौन हो और मेरे पीछे क्यों पड़ी हो?'
'मै तुम्हे चाय देना भूल गयी थी... तुम मेरे घर पहली बार आये... बिना चाय पीये कैसे जा सकते हो...मै तुम्हारे लिए चाय लायी हूँ.... लो पीयो!' 
उसने अपना हाथ बढ़ाया! वो सिर्फ़ उसका बढ़ा हुआ हाथ देख पाया और डर कर बोला-
'नही, मुझे कोई चाय नही चाहिए, मुझे जाने दो!'
अचानक अन्धेरें में दो हाथों ने उसे पकड़ लिया और उनकी जकड़ कसने लगी! वो डर कर चीखा-
'मुझे छोड़ दो... प्लीज़ मुझे मत मारो!'
वो बुरी तरह हिलने लगा और किसी की आवाज़ से उसे साफ़-साफ दिखने लगा! 
'कितनी बार तुमसे कहा है की लेट नाईट डरावनी फ़िल्में मत देखा करो.... किसी दिन मै तुम्हारा ये डब्बा छुपा दूंगी...देख लेना, हाँ नही तो!!' 
'ओह! सपना, तुम, थैंकस सपना, अच्छा हुआ तुमने मुझे जगा दिया!' एकलव्य बोला और गहरी सांसे लेने लगा!
'अच्छा-अच्छा ठीक है, अब तुम जल्दी से तैयार हो जाओ... लेट हो रहे हो फिर से तुम आज भी!'
सपना कमरे से बाहर जाती हुई बोली! सपना की पाजेब की आवाज़ सुन एकलव्य को अपना सपना याद आ गया और वह कूद कर पलंग से नीचे आ गया और रेडिओ ऑन कर नहाने चला गया! गाने के बोल सुन उसने थोडा सा दरवाज़ा खोला और बंद कर दिया और गाने के साथ-साथ गाता वह नहाने लगा-
डर लगे तो गाना गा.... डर लगे तो गाना गा....

Wednesday, June 28, 2017

आये कोई चुपके से पीछे से... और रखे मेरी हथेली में बारिश में भीगा अपना चेहरा.



                                       कोशीश 

                                जाने कितने बीत गये 
                                बरस... तुम्हें सोचते.. 
                                देखते.... और तुम 
                                वही.... कुछ तो 
                                आता फर्क तुममे 
                                ये सोच कर...अब 
                                क्या मै करूं.. जाऊं 
                                के रहूँ... तुम तो 
                                बिलकुल भी नही 
                                बदले..... तुम क्या 
                                यूं ही दुखाओ दिल 
                                मेरा हरपल...ऐसे ही... 
                                हर बार जब... जब भी 
                                मै कहूँ तुमसे चलो 
                                मिलते फिर से...एक बार 
                                करते है कोशीश.. फिर से,
                                कभी करता है मन तुम्हारा
                                रोने का लग के गले मेरे...
                                या हँसने का थाम कर 
                                हाथ दोनों मेरे और दौड़ने का 
                                होती इस बारीश में... जो 
                                भीगो रही है अभी भी 
                                इस शहर को.... हर कोना 
                                हर लम्हा... और हम अकेले 
                                रूठे हुए, जाने किस बात पर 
                                दूर, बहुत दूर अपनी ही 
                                लिखी कहानियों में गुम...
                                कभी करता है मन ये 
                                कहने का फोन पर 
                                मै तुमसे हूँ बहुत गुस्सा...
                                तुम बात क्यों नही करती मुझसे...
                                सारी दुनियां में मै ही हूँ 
                                जिससे करती नही तुम अब बातें..
                                क्या तुम चाहते हो उठाऊं 
                                मै तुम्हारे सारे नाज़ो नखरे..
                                तो फिर रूठ कर एक बार 
                                मुझसे कहो तो पहले..!!


                                28.06.2017/ 03:15 दोपहर 
                                बाद कोई तो बात होती...
                                और आये कोई चुपके से 
                                पीछे से... और रखे मेरी हथेली में 
                                बारिश में भीगा अपना चेहरा... 


Tuesday, June 27, 2017

कहने को बहुत कुछ था अगर कहने पे आते, दुनिया की इनायत है के हम कुछ नहीं कहते


                                 
                                    फुलचुकी


                                 जब भी देखती हो 
                                 तुम यूँ  मुड़-मुड़ कर 
                                 उठाती फूल धीरे-धीरे 
                                 फैले हैं वो ज़मीन पर 
                                 जाने कब से.... शायद 
                                 शाम से... या आज सुबह 
                                 बिखरा गई हवा उन्हें 
                                 अपने रोज ही के न 
                                 खत्म होने वाले खेल में,
                                 फिर हंसती हो, वैसे ही 
                                 पलट-पलट कर देखती 
                                 तुम.. शरारत का बादल 
                                 बन बरस जाओगी क्या.. 
                                 जब भी पूछूंगा तुम से 
                                 मै....'ऐसे क्या हो देखती 
                                 तुम, यूं पलट-पलट कर 
                                 हर बार..जब भी उठाती
                                 हर एक फूल.. बोल न 
                                 मेरी..' आगे न कह सका 
                                 और तुम हंसने लगी 
                                 और ढेर फूलों का,मुझ
                                 पर तुमने उछाल दिया..
                                 कहते हुए..हंसते हुए...
                                 'ओह हो... अच्छा जी.. 
                                 मेरी... मेरी...' तुम्हारी 
                                 मिचमिचाती आँखें और 
                                 न खत्म होती बातें और 
                                 गुनगुनाहट.... मेरी पलकें 
                                 भारी होने लगी हैं... क्या 
                                 तुम सपनों में भी जगाओगी 
                                 यूं ही बिखेर कर मुझ पर 
                                 ढेर सारे फूल... तुम मेरी.. 
                                 सिर्फ मेरी...फुलचुकी!!                                         


                                27.06.2017/ 04:10 शाम 
                               आज फिर लौट आये बादल 
                               और तुम झूलते टहनियों से.. 
                               सोचते बारिश को हर पल..